Budhimaan

Home » Kahavaten » जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच, अर्थ, प्रयोग (Jaise ko taisa mile, Mile neech mein neech, Pani mein pani mile, Mile keech mein keech)

जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच, अर्थ, प्रयोग (Jaise ko taisa mile, Mile neech mein neech, Pani mein pani mile, Mile keech mein keech)

“जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जो यह दर्शाती है कि प्रत्येक व्यक्ति या वस्तु अपने जैसे ही स्वभाव या गुणवत्ता वाले अन्य व्यक्ति या वस्तुओं के साथ मेल खाती है।

परिचय: इस कहावत का उपयोग उस समय किया जाता है जब दो समान स्वभाव या गुणवत्ता वाले व्यक्ति या वस्तुएं आपस में मिलते हैं। इसमें व्यक्तित्व, आचरण, या सामाजिक स्थिति के समानता की बात की जाती है।

अर्थ: इस कहावत का सीधा अर्थ है कि समान गुणवत्ता या स्वभाव वाले लोग या चीजें आपस में आकर्षित होते हैं। यह उस सिद्धांत को दर्शाता है जिसमें कहा गया है कि ‘समान वस्तुएं एक-दूसरे को आकर्षित करती हैं।’

उपयोग: यह कहावत अक्सर तब प्रयोग की जाती है जब कोई देखता है कि दो समान स्वभाव वाले लोग या वस्तुएं एक-दूसरे के साथ अच्छी तरह से मेल खा रहे होते हैं।

उदाहरण:

-> यदि दो व्यक्ति जो बहुत धनी हैं और उनके पास समान रुचियाँ और आदतें हैं, वे एक-दूसरे के अच्छे मित्र बन जाते हैं, तो इसे “जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच” कहावत से व्याख्यायित किया जा सकता है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि समानता वाले व्यक्ति या चीजें आपस में अधिक अच्छी तरह से मेल खाते हैं और एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं। इसलिए, जीवन में हमें यह समझना चाहिए कि हमारे आसपास के लोग और परिस्थितियाँ हमारे अपने स्वभाव और गुणों का प्रतिबिंब होते हैं।

Hindi Muhavare Quiz

जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच कहावत पर कहानी:

एक छोटे से शहर में अनुभव और मुनीश नाम के दो व्यापारी रहते थे। अनुभव एक ईमानदार और सम्मानित व्यापारी था, जबकि मुनीश धोखाधड़ी और बेईमानी में लिप्त था। अनुभव के व्यापार में सदा सत्यता और पारदर्शिता रहती थी, इसलिए उसके ग्राहक और सहयोगी उस पर पूर्ण विश्वास करते थे। दूसरी ओर, मुनीश का व्यापार अनैतिक तरीकों से चलता था, जिसके कारण उसके साथ काम करने वाले भी अक्सर बेईमानी और छल से भरे होते थे।

एक दिन, शहर में एक बड़ा व्यापार मेला आयोजित हुआ। अनुभव ने अपने स्टॉल पर उच्च गुणवत्ता के उत्पाद प्रदर्शित किए और उसके सभी सौदे ईमानदारी और निष्ठा के साथ किए गए। मुनीश ने भी अपना स्टॉल लगाया, लेकिन उसने अपने उत्पादों की गुणवत्ता और मूल्य में हेरफेर किया।

मेले के अंत तक, अनुभव के स्टॉल की लोकप्रियता और बिक्री चरम पर थी, और उसने कई नए और वफादार ग्राहक बनाए। इसके विपरीत, मुनीश के अनैतिक व्यापार प्रथाओं के कारण, उसके स्टॉल की बिक्री बहुत कम थी, और उसके अधिकांश सौदे असफल रहे।

इस कहानी से हमें “जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच” कहावत का अर्थ समझ में आता है। यह कहावत हमें बताती है कि जैसा व्यवहार या कर्म हम करते हैं, वैसा ही परिणाम हमें मिलता है। अनुभव की ईमानदारी और निष्ठा ने उसे सफलता दिलाई, जबकि मुनीश की बेईमानी ने उसे असफलता की ओर धकेला।

शायरी:

जैसे को तैसा मिले, ये दुनिया का उसूल,

नीच मिले नीच से, ये है फितरत का कूल।

पानी में मिले जैसे पानी, बहती है ये रवानी,

जिंदगी की इस दौड़ में, हर किसी की अपनी कहानी।

कीच में मिले कीच, ये कुदरत का खेल,

जो बोया वही काटेंगे, ये है जीवन का मेल।

जिसकी जैसी सोच, वैसा उसका संसार,

जो फैलाए खुशबू, उसे मिले बहार।

ये कहावत सिखाती, जीवन का असली फंडा,

जैसे कर्म करोगे, वैसा भरोगे झोली का डंडा।

 

जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच – Jaise ko taisa mile, Mile neech mein neech, Pani mein pani mile, Mile keech mein keech Proverb:

“Jaise ko taisa mile, Mile neech mein neech, Pani mein pani mile, Mile keech mein keech” is a common Hindi proverb that illustrates how each person or object matches with others of similar nature or quality.

Introduction: This proverb is used when two individuals or objects of similar nature or quality come together. It speaks of the similarity in personality, behavior, or social status.

Meaning: The direct meaning of this proverb is that people or things with similar qualities or natures are attracted to each other. It demonstrates the principle that ‘like attracts like.’

Usage: This proverb is often used when it is observed that two people or things of similar nature are getting along well together.

Examples:

-> If two people who are wealthy and have similar interests and habits become good friends, it can be explained by the proverb “जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच.”

Conclusion: This proverb teaches us that individuals or things with similarities get along well and attract each other. Therefore, in life, we should understand that the people and circumstances around us are a reflection of our own nature and qualities.

Story of Jaise ko taisa mile, Mile neech mein neech, Pani mein pani mile, Mile keech mein keech Proverb in English:

In a small city, there were two merchants named Anubhav and Munish. Anubhav was an honest and respected merchant, while Munish was involved in deceit and dishonesty. Anubhav’s business always maintained truthfulness and transparency, hence his customers and associates completely trusted him. On the other hand, Munish’s business operated through unethical means, leading his associates to often be filled with dishonesty and deception.

One day, a big trade fair was organized in the city. Anubhav displayed high-quality products at his stall and conducted all his deals with honesty and commitment. Munish also set up his stall but manipulated the quality and price of his products.

By the end of the fair, Anubhav’s stall gained immense popularity and sales, and he acquired many new and loyal customers. In contrast, due to Munish’s unethical business practices, his stall witnessed very low sales, and most of his deals failed.

This story helps us understand the meaning of the proverb “जैसे को तैसा मिले, मिले नीच में नीच, पानी में पानी मिले, मिले कीच में कीच.” The proverb tells us that the kind of behavior or actions we engage in, we receive similar outcomes. Anubhav’s honesty and dedication brought him success, while Munish’s dishonesty led to his failure.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

क्या यह कहावत सकारात्मक और नकारात्मक दोनों परिस्थितियों में लागू होती है?

हां, यह कहावत सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार की परिस्थितियों में लागू होती है।

क्या इस कहावत का उपयोग बच्चों को सिखाने में किया जा सकता है?

हां, बच्चों को अच्छे कर्म करने और सकारात्मक संगत चुनने की शिक्षा देने के लिए इस कहावत का उपयोग किया जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई धार्मिक या नैतिक संदेश है?

हां, इस कहावत में नैतिकता और कर्म के सिद्धांत का संदेश है।

क्या इस कहावत का उपयोग बच्चों को सिखाने में किया जा सकता है?

हां, बच्चों को अच्छे कर्म करने और सकारात्मक संगत चुनने की शिक्षा देने के लिए इस कहावत का उपयोग किया जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई विदेशी समकक्ष है?

इसका अंग्रेजी में समकक्ष हो सकता है “Birds of a feather flock together” या “As you sow, so shall you reap.”

क्या यह कहावत सामाजिक संबंधों पर बल देती है?

हां, यह कहावत सामाजिक संबंधों और व्यक्तिगत व्यवहार के परिणामों पर बल देती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।