Budhimaan

Home » Kahavaten » जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास, अर्थ, प्रयोग (Jaisa oont lamba, Waisa gadha khawas)

जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास, अर्थ, प्रयोग (Jaisa oont lamba, Waisa gadha khawas)

“जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास” यह एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जिसका प्रयोग आमतौर पर तब किया जाता है जब दो समान प्रकार के मूर्ख या अयोग्य व्यक्ति एक साथ आते हैं।

परिचय: इस कहावत का प्रयोग भारतीय समाज में आम है, और यह उन स्थितियों को व्यक्त करती है जहां दो व्यक्ति, जिनकी क्षमताएँ और बुद्धिमत्ता सीमित होती हैं, एक साथ मिल जाते हैं।

अर्थ: कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि जिस प्रकार ऊँट लंबा होता है और गधा खवास (सेवक) होता है, उसी प्रकार जब दो मूर्ख या कम बुद्धि वाले व्यक्ति एक साथ आते हैं, तो उनका संगम और भी हास्यास्पद या निरर्थक होता है।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग में लाई जाती है जब दो समान रूप से अक्षम या मूर्ख लोग एक साथ कोई कार्य कर रहे होते हैं, और इससे स्थिति और भी बदतर बन जाती है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, दो व्यक्ति जो किसी काम में बिल्कुल भी दक्ष नहीं हैं, वे एक साथ मिलकर वही काम करने की कोशिश करते हैं। नतीजतन, उनका प्रयास व्यर्थ जाता है और वे हास्य का विषय बन जाते हैं। इस स्थिति में यह कहावत प्रयोग में लाई जा सकती है।

समापन: “जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास” कहावत के माध्यम से यह समझाया जाता है कि जब दो समान प्रकार के अक्षम व्यक्ति एक साथ आते हैं, तो परिणाम अक्सर अनुत्पादक और हास्यास्पद होता है। इस कहावत का उद्देश्य यह दर्शाना है कि किसी भी कार्य को करने से पहले सोच-समझकर और योग्यता के आधार पर निर्णय लेना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास कहावत पर कहानी:

एक गाँव में दो दोस्त रहते थे, अभय और अनुभव। दोनों ही अपनी-अपनी दुनिया में मस्त और थोड़े भोले-भाले थे। अभय को गाने का शौक था, लेकिन उसकी आवाज बहुत बेसुरी थी। अनुभव को डांस करना पसंद था, पर उसके पैर हमेशा गलत दिशा में चलते थे।

एक दिन गाँव में एक बड़ा मेला लगा। अभय और अनुभव ने सोचा कि यह मेला उनके प्रतिभा दिखाने का सुनहरा अवसर है। उन्होंने मिलकर एक गीत और नृत्य की प्रस्तुति की योजना बनाई।

मेले के दिन, अभय और अनुभव ने अपनी प्रस्तुति दी। अभय का गाना सुनकर लोगों ने कान बंद कर लिए, और अनुभव का डांस देखकर वे हंसने लगे। उनकी प्रस्तुति गाँव वालों के लिए हास्य का विषय बन गई।

वहाँ खड़े एक बुजुर्ग ने कहा, “यह तो ‘जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास’ वाली बात हो गई। जब दो अयोग्य लोग एक साथ आते हैं, तो परिणाम ऐसा ही होता है।”

अभय और अनुभव को इस घटना से यह सीख मिली कि केवल उत्साह से काम नहीं चलता, काम करने के लिए कौशल और योग्यता भी जरूरी है। इस कहानी के माध्यम से “जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास” कहावत का अर्थ स्पष्ट होता है कि जब दो अयोग्य व्यक्ति एक साथ काम करते हैं, तो उनके प्रयासों से अधिकतर हास्यास्पद या निरर्थक परिणाम ही निकलते हैं।

शायरी:

जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास,

दो मूर्ख मिलें जब, होता बवाल खास।

एक की बेसुरी तान, दूजे का गलत नाच,

संग मिलकर जब चलें, बनता है हास्य का राज।

हर बात में उनकी, दिखती है अजब कहानी,

जैसे दो बिन पतवार की, नाव हो बीच पानी।

जग हंसाई करते हैं, जब ये मिल जाते साथ,

अपनी मस्ती में रहते, बेखबर जग की बात।

इनके किस्से सुनकर, हर कोई यही कहे,

जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास बने।

 

जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास – Jaisa oont lamba, Waisa gadha khawas Proverb:

“जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास” is a common Hindi proverb typically used when two similarly inept or foolish people come together.

Introduction: This proverb is commonly used in Indian society to describe situations where two individuals with limited abilities and intelligence come together.

Meaning: The literal meaning of the proverb is that just as a camel is tall and a donkey is a servant, similarly, when two foolish or less intelligent people come together, their combination becomes even more ridiculous or meaningless.

Usage: This proverb is employed when two equally incompetent or foolish people work together on a task, and as a result, the situation worsens.

Examples:

-> Suppose two individuals, who are not skilled in any work, try to do a task together. Consequently, their effort turns out to be futile, and they become a subject of ridicule. In this situation, this proverb can be applied.

Conclusion: Through the proverb “Jaisa oont lamba, Waisa gadha khawas,” it is explained that when two similarly incapable individuals come together, the outcome is often unproductive and laughable. The proverb aims to show that before undertaking any task, one should think carefully and make decisions based on competence.

Story of Jaisa oont lamba, Waisa gadha khawas Proverb in English:

In a village, there lived two friends, Abhay and Anubhav, both of whom were carefree and somewhat naive. Abhay was fond of singing, but his voice was very off-key. Anubhav liked to dance, but his feet always moved in the wrong direction.

One day, a big fair was organized in the village. Abhay and Anubhav thought this fair was a golden opportunity to showcase their talents. They planned to perform a song and dance together.

On the day of the fair, Abhay and Anubhav gave their performance. Hearing Abhay’s song, people covered their ears, and seeing Anubhav’s dance, they started laughing. Their performance became a subject of ridicule for the villagers.

An elderly person standing there said, “This is just like the saying ‘जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास.’ When two inept people come together, this is the result you get.”

From this incident, Abhay and Anubhav learned that mere enthusiasm is not enough; skill and competence are also necessary for accomplishing a task. Through this story, the meaning of the proverb “जैसा ऊँट लम्बा, वैसा गधा खवास” becomes clear: when two incompetent individuals work together, their efforts usually lead to laughable or meaningless outcomes.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का प्रयोग किस प्रकार की स्थितियों में किया जाता है?

इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता है जब हमें यह दर्शाना हो कि छोटे और कमजोर लोग भी किसी कार्य या संगठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

क्या इस कहावत का उपयोग सामाजिक समरसता में किया जा सकता है?

हाँ, इस कहावत का उपयोग सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने में किया जा सकता है, जिससे हर व्यक्ति की भूमिका को समझा जा सके।

इस कहावत का शिक्षा क्षेत्र में क्या महत्व है?

शिक्षा क्षेत्र में इस कहावत का महत्व है कि यह छात्रों को सिखाती है कि हर व्यक्ति, चाहे उसका स्थान कितना भी छोटा क्यों न हो, महत्वपूर्ण होता है।

इस कहावत का नैतिक शिक्षा में क्या महत्व है?

नैतिक शिक्षा में इस कहावत का महत्व है कि यह हमें सिखाती है कि हर व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए, चाहे वह किसी भी स्थान पर हो।

क्या इस कहावत का उपयोग व्यक्तिगत विकास में किया जा सकता है?

हाँ, इस कहावत का उपयोग व्यक्तिगत विकास में किया जा सकता है, जिससे व्यक्ति समझ सकता है कि हर किसी की अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

इस कहावत के माध्यम से क्या संदेश मिलता है?

इस कहावत के माध्यम से यह संदेश मिलता है कि हमें हर व्यक्ति के योगदान को समझना और उसकी सराहना करनी चाहिए, चाहे वह किसी भी स्थान पर हो।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।