Budhimaan

Home » Kahavaten » चील के घोसले में माँस कहाँ, अर्थ, प्रयोग (Cheel ke ghosle mein maans kahan)

चील के घोसले में माँस कहाँ, अर्थ, प्रयोग (Cheel ke ghosle mein maans kahan)

परिचय: “चील के घोसले में माँस कहाँ” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जो यह बताती है कि कुछ स्थानों या परिस्थितियों में सफलता या जीवन की संभावनाएं नगण्य या नहीं के बराबर होती हैं।

अर्थ: कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि चील के घोसले में माँस की संभावना नहीं होती, क्योंकि चील माँस को तुरंत खा जाती है। यहाँ, घोसला उन परिस्थितियों का प्रतीक है जहां जीवन या सफलता की संभावना बहुत कम होती है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब होता है जब किसी ऐसे स्थान या परिस्थिति की ओर संकेत करना होता है जहाँ सफलता या जीवन की संभावनाएं बहुत कम होती हैं।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छोटा सा व्यवसाय बड़ी कंपनियों के बीच संघर्ष कर रहा है। इस स्थिति में कहा जा सकता है, “चील के घोसले में माँस कहाँ”। यानी उस व्यवसाय के लिए बड़ी कंपनियों के बीच टिक पाना बहुत मुश्किल है।

समापन: इस प्रकार, “चील के घोसले में माँस कहाँ” कहावत हमें यह सिखाती है कि कुछ परिस्थितियां ऐसी होती हैं जहाँ सफलता या जीवन की संभावनाएं अत्यंत कम होती हैं। यह कहावत हमें यथार्थ का सामना करने और उन परिस्थितियों की पहचान करने की समझ देती है जहाँ संघर्ष करना व्यर्थ हो सकता है।

Hindi Muhavare Quiz

चील के घोसले में माँस कहाँ कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अनुभव नाम का एक व्यक्ति रहता था। अनुभव ने गाँव के बीचों-बीच एक छोटा सा किराना दुकान खोला था। उसका व्यवसाय अच्छा चल रहा था, लेकिन एक दिन गाँव में एक बड़ी कंपनी ने अपना मेगा स्टोर खोल दिया।

अनुभव को लगा कि वह अपनी मेहनत और ग्राहकों के प्रति अपनी सच्चाई से बड़ी कंपनी का मुकाबला कर पाएगा। लेकिन जल्द ही उसे एहसास हुआ कि ग्राहक बड़े स्टोर की ओर आकर्षित हो रहे हैं। अनुभव के दोस्त ने उसे समझाया, “अनुभव, ये ‘चील के घोसले में माँस कहाँ’ वाली बात है। तुम्हारे छोटे दुकान के लिए बड़ी कंपनी से मुकाबला कर पाना बहुत मुश्किल है।”

अनुभव ने इस बात को समझते हुए, अपनी रणनीति बदली और अपने दुकान को ऐसे उत्पादों पर केंद्रित किया जो बड़े स्टोर में नहीं मिलते थे। इससे उसके व्यवसाय में फिर से उछाल आया।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि “चील के घोसले में माँस कहाँ” कहावत के अनुसार, कुछ परिस्थितियों में सफलता की संभावना बहुत कम होती है। लेकिन समझदारी से निर्णय लेने पर, नए अवसरों की तलाश में सफलता संभव है।

शायरी:

चील के घोसले में माँस की बातें न कर,
यहाँ हर कोशिश रेत की तरह हाथों से फिसलती है।
जहाँ उम्मीदों की किरणें भी धूप में जलती हैं,
वहाँ हर आस का दीपक, अंधेरों में पिघलती है।

कहते हैं बदलाव आता है, मेहनत से हर बार,
पर “चील के घोसले में” सपने भी होते हैं बेकार।
जहाँ जीवन की नैया डगमगाए बिन पतवार,
वहाँ कदम बढ़ाने से पहले सोच, हर बार।

जीवन की इस चाल में, जहाँ चील भी गुरुर करे,
वहाँ हर छोटी कोशिश का, अंत बस यूँ ही गुजरे।
“सौ मन साबुन लाई” पर कोई फर्क न पड़े,
जहाँ सफलता के द्वार पर, निराशा ही ठहरे।

कहती है ये कहावत, जहाँ उम्मीद न हो आस,
वहाँ अपने सपनों को ढूंढना, होता बस व्यर्थ का विश्वास।
चील के घोसले में माँस की तलाश में जो जाए,
वो जीवन की सच्चाई से, अनजान रह जाए।

 

चील के घोसले में माँस कहाँ शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of चील के घोसले में माँस कहाँ – Cheel ke ghosle mein maans kahan Proverb:

Introduction: “Cheel ke ghosle mein maans kahan” is a well-known Hindi proverb, which implies that in certain places or situations, the chances of success or survival are negligible or virtually non-existent.

Meaning: The literal meaning of the proverb is that there is no possibility of finding meat in the nest of a kite (bird of prey), as the kite consumes it immediately. Here, the nest symbolizes those circumstances where the probability of life or success is very slim.

Usage: This proverb is used when referring to a place or situation where the chances of success or survival are extremely low.

Examples:

-> For instance, consider a small business struggling among big corporations. In this situation, one might say, “Cheel ke ghosle mein maans kahan,” meaning it is very difficult for the small business to survive among the big companies.

Conclusion: Thus, the proverb “Cheel ke ghosle mein maans kahan” teaches us that there are situations where the chances of success or survival are minimal. This proverb provides insight into recognizing those circumstances where struggling might be futile and emphasizes the importance of facing reality.

Story of Cheel ke ghosle mein maans kahan Proverb in English:

Once in a small village, there lived a man named Anubhav. Anubhav had opened a small grocery store right in the heart of the village. His business was doing well, but one day, a big company opened its mega store in the village.

Anubhav thought that he could compete with the big company through his hard work and honesty towards his customers. However, he soon realized that customers were getting attracted to the big store. Anubhav’s friend explained to him, “Anubhav, this is a situation of ‘चील के घोसले में माँस कहाँ.’ It is very difficult for your small shop to compete with the big company.”

Understanding this, Anubhav changed his strategy and focused his shop on products that were not available in the big store. This shift brought a resurgence to his business.

This story teaches us that, as per the proverb “चील के घोसले में माँस कहाँ,” there are situations where the likelihood of success is very low. However, with wise decisions and by seeking new opportunities, success can still be achievable.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का प्रयोग किस प्रकार की स्थितियों में किया जा सकता है?

इस कहावत का प्रयोग ऐसी स्थितियों में किया जा सकता है जहां किसी चीज की बहुत जरूरत होती है, लेकिन वह उपलब्ध नहीं होती।

इस कहावत को किस तरह से समझाया जा सकता है?

इसे ऐसे समझाया जा सकता है कि जरूरत के समय में अक्सर सहायता या संसाधन नहीं मिल पाते।

क्या यह कहावत अन्य भाषाओं में भी प्रचलित है?

हां, इसी तरह की कहावतें अन्य भाषाओं में भी होती हैं, लेकिन शब्दों और भाव में थोड़ा अंतर हो सकता है।

इस कहावत का साहित्य में क्या स्थान है?

साहित्य में इस कहावत का प्रयोग अक्सर व्यंग्य या लोक जीवन की वास्तविकता दिखाने के लिए किया जाता है।

क्या यह कहावत आज के समय में भी प्रासंगिक है?

हां, यह कहावत आज भी प्रासंगिक है, क्योंकि संसाधनों की कमी एक सामान्य मुद्दा है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।