Budhimaan

Home » Kahavaten » योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत, अर्थ, प्रयोग (Yogi tha so uth gya, Aasan raha bhabhoot)

योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत, अर्थ, प्रयोग (Yogi tha so uth gya, Aasan raha bhabhoot)

परिचय: हिंदी की प्राचीन कहावत “योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत” जीवन की अनित्यता और अस्थायित्व का बोध कराती है। इस कहावत में योगी का प्रतीकात्मक उपयोग करके जीवन के गहरे दर्शन को समझाया गया है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि जीवन में जो भी आता है, वह एक दिन चला जाता है। यहाँ ‘योगी’ से आशय किसी भी व्यक्ति से है और ‘आसन रहा भभूत’ से तात्पर्य है कि उसके जाने के बाद केवल उसकी यादें या उसके कार्यों की छाप रह जाती है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग जीवन की नश्वरता और सांसारिक चीजों की अस्थायित्व को समझाने के लिए किया जाता है। यह हमें याद दिलाती है कि हमारा अस्तित्व अस्थायी है और हमें इसकी महत्ता समझनी चाहिए।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक सफल व्यक्ति जिसने अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल किया हो, लेकिन जब वह इस दुनिया से चला जाता है, तो केवल उसके कार्यों की छाप और यादें रह जाती हैं। उसके बाद की पीढ़ियां उसके द्वारा छोड़े गए निशान को याद करती हैं।

समापन: “योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत” कहावत हमें यह सिखाती है कि जीवन अस्थायी है और हमें इसके हर पल का मूल्य समझना चाहिए। यह हमें यह भी बताती है कि हमारे कार्य ही हमारी पहचान हैं और यही हमें अमरत्व प्रदान करते हैं। इसलिए, हमें अपने जीवन में सार्थक और अच्छे कार्य करने चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत कहावत पर कहानी:

एक समय की बात है, एक छोटे से गांव में सुरेंद्र नाम का एक योगी रहता था। वह बहुत ही ज्ञानी और सम्मानित था। लोग दूर-दूर से उससे मिलने आते थे और उसके प्रवचन सुनते थे। सुरेंद्र योगी ने अपने जीवन में अनेकों कार्य किए थे और उसकी सीखें लोगों के जीवन में रोशनी भर देती थीं।

एक दिन, सुरेंद्र योगी ने गांव वालों को बताया कि अब उसका समय इस दुनिया में पूरा हो गया है और वह इस जगत को छोड़कर जा रहा है। गांव वाले बहुत दुखी हुए, लेकिन उन्होंने उसके निर्णय का सम्मान किया।

योगी सुरेंद्र ने अपने आखिरी प्रवचन में कहा, “जैसे मैंने अपने जीवन का अंतिम आसन लिया है और अब उठ रहा हूं, तो केवल मेरी भभूत यानी राख ही यहाँ रहेगी। इसी तरह, हर व्यक्ति का जीवन है। हम सब एक दिन इस दुनिया को छोड़ जाएंगे, केवल हमारे कर्म और शिक्षाएं ही यहां रह जाएंगी।”

योगी सुरेंद्र के जाने के बाद, गांव वालों ने महसूस किया कि वास्तव में उन्होंने अपने जीवन में कितना कुछ सीखा था। उन्होंने योगी सुरेंद्र की शिक्षाओं को याद किया और उन्हें अपने जीवन में उतारने का प्रण लिया।

इस कहानी से हमें “योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत” कहावत का अर्थ समझ में आता है। यह कहावत हमें बताती है कि जीवन अस्थायी है, लेकिन हमारे कर्म और शिक्षाएं हमेशा रहती हैं। इसलिए, हमें अपने जीवन में सार्थक और अच्छे कार्य करने चाहिए।

शायरी:

योगी था सो उठ गया, आसन रह गया भभूत,

जीवन की यही सच्चाई, बाकी सब है झूठ।

धरती पर आए सभी, एक न एक दिन जाना है,

छोड़ जाएंगे सिर्फ निशान, यही कुदरत का फ़साना है।

जीवन की इस चादर में, सब कुछ आस्था की धूल,

योगी की यही कहानी, अस्थायी हर एक मूल।

उठा जब योगी आसन से, रह गई बस उसकी याद,

जीवन का यही संदेश, हर श्वास में बसा फ़रियाद।

इस दुनिया की रीत है, आना जाना सबका फ़ितूर,

योगी की यही सीख, जीवन है एक सफर सुरूर।

 

योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत – Yogi tha so uth gya, Aasan raha bhabhoot Proverb:

Introduction: The ancient Hindi proverb “Yogi tha so uth gya, Aasan raha bhabhoot” enlightens us about the impermanence and transience of life. This proverb uses the symbol of a yogi to explain the profound philosophy of life.

Meaning: The meaning of this proverb is that everything in life is temporary and eventually passes away. ‘Yogi’ here refers to any person, and ‘आसन रहा भभूत’ implies that only their memories or the impact of their actions remain after they are gone.

Usage: This proverb is used to explain the mortality of life and the temporariness of worldly things. It reminds us that our existence is temporary and we should understand its importance.

Examples:

-> Consider a successful person who has achieved much in life, but when they leave this world, only the imprint of their deeds and memories remain. Future generations remember the legacy they left behind.

Conclusion: The proverb “योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत” teaches us that life is transient and we should value every moment of it. It also tells us that our actions define us and they provide us with immortality. Therefore, we should aim to perform meaningful and good deeds in our lives.

Story of Yogi tha so uth gya, Aasan raha bhabhoot Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a yogi named Surendra. He was very wise and respected. People from far and wide would come to meet him and listen to his discourses. Yogi Surendra had done many deeds in his life, and his teachings filled people’s lives with light.

One day, Yogi Surendra told the villagers that his time in this world was complete, and he was leaving this realm. The villagers were saddened, but they respected his decision.

In his final sermon, Yogi Surendra said, “As I have taken my final position in life and am now leaving, only my ashes, my remains, will be left here. Similarly, is the life of every person. We all will one day leave this world, and only our deeds and teachings will remain.”

After Yogi Surendra’s departure, the villagers realized how much they had actually learned from him. They remembered his teachings and vowed to incorporate them into their lives.

This story helps us understand the meaning of the proverb “योगी था सो उठ गया, आसन रहा भभूत”. The proverb tells us that life is transient, but our deeds and teachings always remain. Therefore, we should strive to perform meaningful and good deeds in our lives.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का समाज पर क्या प्रभाव पड़ता है?

समाज पर इस कहावत का प्रभाव यह है कि यह लोगों को बताता है कि महत्वपूर्ण व्यक्तियों की विरासत और उनके कार्यों का महत्व होता है।

इस कहावत का शिक्षा पर क्या प्रभाव है?

शिक्षा के क्षेत्र में, यह कहावत यह दर्शाती है कि एक शिक्षक के जाने के बाद भी उसकी शिक्षाएँ और ज्ञान स्थायी रूप से छात्रों के साथ रहते हैं।

इस कहावत का नैतिक संदेश क्या है?

इस कहावत का नैतिक संदेश यह है कि हमें उन लोगों की कद्र करनी चाहिए जो हमें ज्ञान देते हैं और हमें प्रभावित करते हैं, क्योंकि उनका प्रभाव स्थायी होता है।

क्या यह कहावत किसी विशेष संस्कृति या समुदाय में प्रचलित है?

यह कहावत भारतीय संस्कृति में अधिक प्रचलित है, खासकर जहाँ गुरु और शिष्य के संबंधों को महत्व दिया जाता है।

इस कहावत का राजनीतिक दृष्टिकोण से क्या महत्व है?

राजनीतिक दृष्टिकोण से, यह कहावत यह बताती है कि एक प्रभावशाली नेता के निर्णय और कार्य उनके जाने के बाद भी देश और उसकी जनता पर गहरा प्रभाव छोड़ सकते हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।