Budhimaan

Home » Kahavaten » ठेस लगे, बुद्धि बढ़े, अर्थ, प्रयोग(Thes lage, Buddhi badhe)

ठेस लगे, बुद्धि बढ़े, अर्थ, प्रयोग(Thes lage, Buddhi badhe)

परिचय: “ठेस लगे, बुद्धि बढ़े” यह कहावत जीवन की कठिनाइयों और चुनौतियों के सकारात्मक पहलू को दर्शाती है। यह हमें यह बताती है कि जीवन में आने वाली ठेस या कठिनाईयाँ हमारी बुद्धि और समझ को बढ़ाती हैं।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि जीवन में जब हमें कोई ठेस लगती है या हमें कोई कठिनाई आती है, तो इससे हमारा अनुभव बढ़ता है और हमारी समझ और बुद्धि में वृद्धि होती है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता है जब किसी को जीवन की कठिनाइयों से सीखने और उससे मजबूत बनने के लिए प्रेरित करना होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छात्र जिसने परीक्षा में अच्छे अंक नहीं लाए, उसे उसके शिक्षक ने कहा, “ठेस लगे, बुद्धि बढ़े। इस अनुभव से सीखो और अगली बार और बेहतर करो।”

समापन: यह कहावत हमें सिखाती है कि जीवन में आने वाली कठिनाईयां और बाधाएं हमें अधिक समझदार और मजबूत बनाती हैं। यह हमें यह भी सिखाती है कि हर समस्या और चुनौती हमारे व्यक्तित्व के विकास में योगदान देती है। “ठेस लगे, बुद्धि बढ़े” यह कहावत जीवन की कठिनाइयों को सकारात्मक दृष्टिकोण से देखने की प्रेरणा देती है।

Hindi Muhavare Quiz

ठेस लगे, बुद्धि बढ़े कहावत पर कहानी:

एक गाँव में अनुज नामक एक युवक रहता था। अनुज बहुत मेहनती और ईमानदार था, लेकिन उसके साथ अक्सर अनुभव की कमी के कारण छोटी-मोटी गलतियाँ हो जाती थीं। एक बार उसने गाँव के बाजार में एक छोटी सी दुकान खोली। शुरुआत में, उसे बाजार की समझ न होने के कारण कई बार नुकसान उठाना पड़ा।

अनुज के पिता ने जब उसकी यह स्थिति देखी, तो उन्होंने उसे समझाया, “बेटा, ‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’। इन गलतियों से सीखो और आगे बढ़ो।” अनुज ने अपने पिता की बातों को गंभीरता से लिया और अपनी गलतियों से सीखने लगा।

धीरे-धीरे अनुज ने बाजार की बारीकियों को समझा और अपनी दुकान का संचालन और भी बेहतर तरीके से करने लगा। उसकी दुकान फलने-फूलने लगी और उसने बाजार में एक अच्छी पहचान बना ली। उसकी इस सफलता पर गाँव वाले कहने लगे, “अनुज ने सच में दिखा दिया कि ‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’।”

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि जीवन में आने वाली कठिनाइयां और ठेस हमें अधिक बुद्धिमान और समझदार बनाती हैं। यह हमें प्रेरित करती है कि हमें अपनी गलतियों से सीखना चाहिए और उन्हें अपने विकास के लिए उपयोग करना चाहिए।

शायरी:

जिंदगी की ठोकरों से, जब ठेस लगे बार-बार,

समझ लो कि बुद्धि बढ़े, हर दर्द में छुपा राज़।

गिरकर भी, जो संभले, वो फूलों का हार नहीं,

‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’, जीवन की ये राह नहीं।

जब जब दिल टूटा है, जब जब आज़माइश हुई,

‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’, इसी में तो फर्क हुई।

हर गलती, हर ठोकर, बने सीखने का बहाना,

‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’, यही तो है ज़िंदगी का फसाना।

जो दर्द में भी मुस्कुराए, जो मुश्किल में भी खड़ा हो,

‘ठेस लगे, बुद्धि बढ़े’, जीवन की यही तो सच्चाई हो।

 

ठेस लगे, बुद्धि बढ़े शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of ठेस लगे, बुद्धि बढ़े – Thes lage, Buddhi badhe Proverb:

Introduction: “Thes lage, Buddhi badhe” is a proverb that highlights the positive aspects of life’s difficulties and challenges. It tells us that the adversities or challenges we face in life enhance our intellect and understanding.

Meaning: The meaning of this proverb is that when we face adversity or difficulty in life, it increases our experience and improves our understanding and wisdom.

Usage: This proverb is used to motivate someone to learn from life’s difficulties and to become stronger.

Examples:

-> Suppose, a student who did not score well in exams, was told by his teacher, “Thes lage, Buddhi badhe. Learn from this experience and do better next time.”

Conclusion: This proverb teaches us that the difficulties and obstacles in life make us wiser and stronger. It also teaches us that every problem and challenge contributes to our personal development. The proverb “Thes lage, Buddhi badhe” inspires us to view life’s difficulties with a positive perspective.

Story of Thes lage, Buddhi badhe Proverb in English:

In a village lived a young man named Anuj. Anuj was very hardworking and honest, but often made small mistakes due to lack of experience. Once, he opened a small shop in the village market. Initially, due to his lack of understanding of the market, he faced several losses.

When Anuj’s father saw his situation, he advised him, “Son, ‘adversity leads to wisdom’. Learn from these mistakes and move forward.” Anuj took his father’s words seriously and began to learn from his mistakes.

Gradually, Anuj understood the nuances of the market and started managing his shop in a much better way. His shop began to prosper, and he established a good reputation in the market. Seeing his success, the villagers started saying, “Anuj has truly shown that ‘adversity leads to wisdom’.”

This story teaches us that the difficulties and challenges we face in life make us wiser and more sensible. It motivates us to learn from our mistakes and use them for our development.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

ठेस क्यों हमें मजबूती देती है?

ठेस हमें अपनी कमजोरियों को पहचानने का और उन्हें सुधारने का एक अद्भुत अवसर प्रदान करती है, जिससे हम मजबूत होते हैं।

ठेस लगने पर बुद्धि में कैसे बदलाव होता है?

ठेस से हमारी सोचने का तरीका बदलता है और हम नए समस्याओं का समाधान निकालने में सक्षम हो जाते हैं।

ठेस लगने पर सकारात्मक परिणाम क्या हो सकते हैं?

ठेस से उत्पन्न होने वाले चुनौतियों का सामना करके हम अपनी सकारात्मकता को बढ़ा सकते हैं और स्थितियों से सीख सकते हैं।

ठेस लगने पर अपनी सोच में कैसा परिवर्तन होता है?

ठेस से हम अपनी सोच में नए और सोचने के तरीके लाने की क्षमता विकसित करते हैं, जो हमें आगे बढ़ने में मदद करता है।

क्या ठेस से गुजरना आवश्यक है?

जी हां, ठेस से गुजरना हमारे व्यक्तिगत और आधिकारिक जीवन में सामंजस्यपूर्ण है, क्योंकि इससे हम सीखते हैं और मजबूत होते हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।