Budhimaan

Home » Kahavaten » टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग (Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग (Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” यह हिंदी कहावत व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार और सबके सामने व्यक्त करने के परिणामों को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम समझते हैं कि अपनी समस्याओं को हर किसी के सामने जाहिर करना कैसे व्यक्तिगत प्रतिष्ठा को कम कर सकता है।

परिचय: इस कहावत में, ‘टेर-टेर के रोना’ का अर्थ है बार-बार और हर जगह अपनी समस्याओं को व्यक्त करना, और ‘अपनी लाज खोना’ का अर्थ है अपनी सामाजिक प्रतिष्ठा या सम्मान को खो देना।

अर्थ: कहावत का तात्पर्य यह है कि जो व्यक्ति अपनी समस्याओं को हर किसी के सामने लगातार प्रकट करता है, वह अंततः अपनी विश्वसनीयता और सम्मान खो देता है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग व्यक्तिगत समस्याओं को सार्वजनिक रूप से बार-बार बताने की प्रवृत्ति और इसके नकारात्मक परिणामों को समझाने के लिए किया जाता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक व्यापारी जो बार-बार अपने व्यापार में हुए नुकसान की बात हर किसी से करता है, लोग उसके प्रति सहानुभूति की बजाय अविश्वास और उपेक्षा का भाव रखने लगते हैं।

समापन: यह कहावत हमें यह सिखाती है कि अपनी व्यक्तिगत समस्याओं को सबके सामने बार-बार बताने से न केवल व्यक्ति अपना सम्मान खोता है, बल्कि उसकी विश्वसनीयता पर भी प्रश्न उठता है। इसलिए, व्यक्तिगत समस्याओं को विवेकपूर्ण तरीके से साझा करना और उन्हें निजी रखना महत्वपूर्ण है।

Hindi Muhavare Quiz

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे कहावत पर कहानी:

एक छोटे से शहर में अभय नाम का एक व्यापारी रहता था। अभय ने हाल ही में अपने व्यवसाय में कुछ नुकसान उठाया था। वह इस बात को लेकर बहुत परेशान था और हर जगह, चाहे वह सामाजिक सभाएँ हों या दोस्तों के साथ बैठकें, वह अपने नुकसान की कहानी सबको सुनाता रहता।

शुरू में तो लोग उसे सहानुभूति दिखाते और उसकी मदद करने की कोशिश करते, लेकिन जब उसने बार-बार और हर जगह यही राग अलापना शुरू किया, तो लोग उससे ऊबने लगे। उन्हें लगने लगा कि अभय सिर्फ ध्यान खींचने और सहानुभूति पाने के लिए ऐसा कर रहा है।

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” – यह कहावत अभय की स्थिति पर बिल्कुल सटीक बैठती थी। उसकी बातों में अब लोगों को विश्वास नहीं रहा और उसका सम्मान भी कम होने लगा। धीरे-धीरे, अभय को भी यह एहसास हो गया कि उसकी इस आदत ने उसकी व्यक्तिगत और व्यावसायिक प्रतिष्ठा को नुकसान पहुँचाया है।

इस कहानी से हमें यह सीखने को मिलता है कि व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार सबके सामने रखने से उसकी गंभीरता कम हो जाती है और इससे व्यक्ति की सामाजिक प्रतिष्ठा पर भी असर पड़ता है। अपनी समस्याओं को समझदारी से और विवेकपूर्ण तरीके से साझा करना महत्वपूर्ण होता है।

शायरी:

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे,
हर दर्द को बाहर लाने से, क्या पावे?

जिसने दर्द को छुपाया, वही समझदार कहलाया,
जो बात-बात पर रोया, उसने अपनी ही कदर खोया।

गम की गलियों में आवाज ना दो,
दुनिया को हर जख्म की खबर ना दो।

दिल के दर्द को दिल में ही रखो,
अपने गम को यूँ सरेआम ना बखो।

जो दर्द को आँखों में छुपा ले,
वही इस जहान में सच्चा खिलाड़ी कहलाए।

 

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे – Ter-ter ke rove, Apni laj khove Proverb:

The Hindi proverb “Ter-ter ke rove, Apni laj khove” illustrates the consequences of repeatedly and publicly expressing personal problems. Through this proverb, we understand how showcasing one’s issues to everyone can diminish personal reputation and credibility.

Introduction: In this proverb, ‘crying out repeatedly (टेर-टेर के रोना)’ means to express one’s problems everywhere, and ‘losing one’s dignity (अपनी लाज खोना)’ refers to losing social respect or honor.

Meaning: The essence of the proverb is that a person who constantly reveals their problems to everyone eventually loses their credibility and respect.

Usage: This proverb is used to describe the tendency of people to repeatedly make their personal issues public and the negative consequences that follow.

Examples:

-> Imagine a businessman who constantly talks about his business losses to everyone. Instead of sympathy, people begin to feel distrust and disregard towards him.

Conclusion: This proverb teaches us that repeatedly sharing personal problems publicly not only causes a person to lose respect but also raises questions about their credibility. Therefore, it is important to share personal issues discreetly and keep them private.

Story of Ter-ter ke rove, Apni laj khove Proverb in English:

In a small town, there lived two merchants named Vikas and Abhay. Vikas’s business was in competition with Abhay’s father, and there was a business rivalry between the two. However, the relationship between Abhay and Vikas was quite different.

Abhay, who had come to assist his father in business, developed a personal relationship with Vikas. The two young businessmen shared several common interests, and their friendship was growing stronger day by day.

In Vikas’s heart, the business animosity he held was towards Abhay’s father, not towards Abhay. Vikas once said, “Though I have business enmity with Abhay’s father, my relationship with Abhay is different. ‘Baap se bair, poot se sagai.'”

This story teaches us that relationships are often paradoxical, and different relationships can exist with various members of the same family. The proverb also tells us that each relationship has its own importance and feelings towards one person should not extend to another.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

क्या इस कहावत का शाब्दिक अर्थ लिया जाता है?

इस कहावत का उपयोग प्रतीकात्मक रूप में होता है, और इसका शाब्दिक अर्थ नहीं लिया जाता। यह व्यक्ति की गरिमा के नुकसान के बारे में बात करती है।

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” कहावत का महत्व क्या है?

इस कहावत का महत्व यह है कि यह हमें यह सिखाती है कि लगातार शिकायत करने से हम अपनी गरिमा खो सकते हैं और हमें समस्याओं का सामना संयम और समझदारी से करना चाहिए।

इस कहावत का उपयोग समाज में कैसे किया जा सकता है?

समाज में इस कहावत का उपयोग लोगों को यह सिखाने के लिए किया जा सकता है कि अत्यधिक विलाप या शिकायत से उनकी गरिमा पर प्रभाव पड़ सकता है और इससे बचना चाहिए।

क्या इस कहावत का शिक्षाप्रद महत्व है?

हां, इस कहावत का शिक्षाप्रद महत्व यह है कि यह हमें यह सिखाती है कि संयम रखना और अपनी समस्याओं का समाधान ढूँढना बेहतर है बजाय उन्हें बार-बार दोहराने के।

इस कहावत का विद्यालय और शिक्षा में क्या उपयोग हो सकता है?

विद्यालय और शिक्षा में इस कहावत का उपयोग छात्रों को आत्म-सम्मान के महत्व और चुनौतियों का सामना करने की उचित तरीकों को समझाने में किया जा सकता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।