Budhimaan

Home » Kahavaten » टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग (Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग (Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” यह हिंदी कहावत बुद्धिमत्ता और मूर्खता के बीच के व्यवहारिक अंतर को स्पष्ट करती है। इस कहावत के माध्यम से, हम समझ सकते हैं कि कैसे विभिन्न प्रकार के लोगों के साथ विभिन्न तरीकों से पेश आना चाहिए।

परिचय: “टट्टू” यहां एक साधारण घोड़े को दर्शाता है, जबकि “ताजी” एक उच्च कोटि के घोड़े को। यह कहावत यह बताती है कि जहां एक साधारण या कम बुद्धिमान व्यक्ति को सख्ती से समझाना पड़ता है, वहीं एक बुद्धिमान व्यक्ति केवल एक संकेत या इशारे से समझ जाता है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि एक ‘टट्टू’ या कम समझ वाले व्यक्ति को नियंत्रित करने के लिए कठोर उपाय की आवश्यकता होती है, जैसे कि कोड़े का प्रयोग। दूसरी ओर, ‘ताजी’ या बुद्धिमान व्यक्ति केवल एक संकेत या इशारे से ही समझ जाता है और उचित कार्य करता है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग अक्सर शिक्षा, प्रबंधन, और पालन-पोषण के संदर्भ में किया जाता है जहाँ विभिन्न व्यक्तियों को समझाने के लिए विभिन्न तरीकों की आवश्यकता होती है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक शिक्षक के पास दो विद्यार्थी हैं – एक बहुत तेज और एक औसत। तेज विद्यार्थी को केवल निर्देशों का पालन करने के लिए एक इशारा काफी होता है, जबकि औसत विद्यार्थी को समझाने के लिए अधिक प्रयास और समय की जरूरत होती है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सीखने को मिलता है कि हर व्यक्ति की समझ का स्तर अलग होता है और हर किसी के साथ उसकी समझ के अनुसार ही पेश आना चाहिए। यह हमें यह भी बताती है कि बुद्धिमान लोग अपेक्षाकृत कम संकेतों से ही सही दिशा में बढ़ सकते हैं।

Hindi Muhavare Quiz

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा कहावत पर कहानी:

एक समय की बात है, एक गांव में दो बच्चे रहते थे – अनुभव और विकास। अनुभव बहुत चतुर और समझदार था, जबकि विकास थोड़ा आलसी और कम समझदार था। गांव के स्कूल में एक नया शिक्षक आया, जिसने दोनों बच्चों की प्रतिभा को पहचाना।

एक दिन शिक्षक ने एक परियोजना दी जिसमें दोनों बच्चों को अपने-अपने तरीके से पौधे उगाने थे। अनुभव को शिक्षक ने केवल यह संकेत दिया कि वह पौधों को ध्यान से देखे और उनकी जरूरत के अनुसार पानी और खाद दे। अनुभव ने तुरंत इसे समझा और अपने पौधों की उचित देखभाल की।

दूसरी ओर, विकास को शिक्षक ने विस्तार से समझाया। उसे बताया कि किस समय पानी देना है, कितनी धूप जरूरी है, और खाद कब डालनी है। विकास को बार-बार याद दिलाना पड़ा कि वह अपने पौधों का ख्याल रखे।

समय बीतने के साथ, अनुभव के पौधे फल-फूल रहे थे, जबकि विकास के पौधे सुस्त थे। इससे गांव वालों ने सीखा कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को केवल एक संकेत की जरूरत होती है, जबकि कम समझ वाले व्यक्ति को बार-बार समझाना पड़ता है।

यह कहानी “टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” कहावत का सार है। यह बताती है कि कैसे बुद्धिमान लोगों को केवल एक इशारे की जरूरत होती है और वे उस दिशा में काम करने लगते हैं, जबकि जिन्हें अधिक समझाइश की जरूरत होती है, उन्हें अधिक मार्गदर्शन और निर्देश की आवश्यकता होती है।

शायरी:

टट्टू को कोड़ा, ताजी को बस इशारा काफी है,
ज्ञानी को एक लम्हा, मूर्ख को सदियों की सफाई है।

बातों का असर यहाँ, लोगों की समझ पर होता है,
किसी को सरगोशी से राह मिलती, किसी को चिल्लाहट भी थोड़ी होता है।

अक्ल के बाजार में, नसीहत अलग-अलग बिकती है,
ज्ञानी की आंखों को, बस एक नजर की दिक्कत है।

जहाँ समझ गहरी हो, वहाँ शब्दों की जरूरत कम होती है,
और जहाँ अक्ल कम, वहाँ बातें भी कम होती है।

सोच के आसमान पर, ज्ञानी एक परवाज़ होता है,
मूर्ख के लिए जिंदगी भर का सफर, ज्ञानी के लिए एक राज़ होता है।

 

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा – Tattoo ko koda aur tazi ko ishara Proverb:

The Hindi proverb “Tattoo ko koda aur tazi ko ishara” clearly distinguishes between the practical differences in handling wisdom and foolishness. Through this proverb, we understand how different types of people should be treated differently.

Introduction: Here, “टट्टू” represents an ordinary horse, while “ताजी” signifies a superior breed of horse. The proverb illustrates that where a common or less intelligent person needs strict guidance, a wise person understands just with a hint or gesture.

Meaning: The proverb means that a ‘टट्टू’ or less understanding person requires stringent measures for control, such as the use of a whip. On the other hand, a ‘ताजी’ or wise person understands and acts appropriately with just a hint or gesture.

Usage: This proverb is often used in contexts like education, management, and parenting, where different individuals need different methods of explanation.

Examples:

-> Suppose a teacher has two students – one very bright and the other average. The bright student only needs a hint to follow instructions, whereas the average student needs more effort and time for explanation.

Conclusion: This proverb teaches us that every person’s level of understanding is different, and one should approach everyone according to their level of comprehension. It also indicates that wise people can move in the right direction with relatively fewer hints.

Story of Tattoo ko koda aur tazi ko ishara Proverb in English:

Once upon a time in a village, there were two children – Anubhav and Vikas. Anubhav was very clever and wise, whereas Vikas was somewhat lazy and less intelligent. A new teacher came to the village school and recognized the talents of both children.

One day, the teacher assigned a project where both children had to grow plants in their own way. The teacher merely hinted to Anubhav to observe the plants carefully and provide water and fertilizer as needed. Anubhav immediately understood and took proper care of his plants.

On the other hand, the teacher explained in detail to Vikas. He was told when to water the plants, how much sunlight was necessary, and when to add fertilizer. Vikas had to be reminded repeatedly to take care of his plants.

Over time, Anubhav’s plants flourished, while Vikas’s plants were lackluster. This taught the villagers that a wise person only needs a hint, while a less understanding person needs to be explained repeatedly.

This story encapsulates the essence of the proverb “टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा.” It illustrates how wise people only need a hint to start working in the right direction, whereas those who need more explanation require more guidance and instructions.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का व्यावहारिक उदाहरण क्या हो सकता है?

यदि किसी शिक्षक के दो विद्यार्थी हैं, एक शीघ्र समझता है और दूसरा धीरे, तो शिक्षक को दोनों के साथ उनकी समझ के अनुसार व्यवहार करना चाहिए।

क्या यह कहावत व्यक्तित्व विकास पर भी लागू होती है?

हाँ, यह कहावत व्यक्तित्व विकास में भी लागू होती है, जैसे कि हर व्यक्ति की अपनी खासियत होती है और उसे उसी के अनुसार पोषित किया जाना चाहिए।

इस कहावत का बाल विकास में क्या महत्व है?

बाल विकास में इस कहावत का महत्व यह है कि प्रत्येक बच्चे की अलग क्षमता और समझ होती है, और उन्हें उनकी अपनी गति और तरीके से सीखने देना महत्वपूर्ण है।

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” कहावत का सामाजिक संदर्भ क्या है?

सामाजिक संदर्भ में, यह कहावत बताती है कि हर व्यक्ति की अपनी विशेषता होती है और समाज में हर किसी से उनकी विशेषता के अनुसार ही व्यवहार करना चाहिए।

यह कहावत नेतृत्व के संदर्भ में कैसे लागू होती है?

नेतृत्व में, यह कहावत दर्शाती है कि एक अच्छा नेता वह होता है जो विभिन्न लोगों की विशेषताओं को समझता है और उन्हें उनकी क्षमता अनुसार प्रेरित और मार्गदर्शन करता है, ताकि प्रत्येक व्यक्ति अपनी पूरी क्षमता के साथ योगदान दे सके।

इस कहावत का शिक्षा प्रणाली में क्या महत्व है?

शिक्षा प्रणाली में, इस कहावत का महत्व यह है कि हर विद्यार्थी की अपनी शैक्षणिक जरूरतें और शैलियाँ होती हैं, और शिक्षकों को उनके अनुसार शिक्षा देनी चाहिए।

इस कहावत का आत्म-सुधार में कैसे योगदान है?

आत्म-सुधार में, यह कहावत यह सिखाती है कि हमें अपनी खुद की विशिष्ट क्षमताओं और सीमाओं को समझना चाहिए और उनके अनुसार ही अपने लक्ष्य और योजनाएँ बनानी चाहिए। इससे हम अपने आप को बेहतर तरीके से विकसित कर सकते हैं और आत्म-सुधार की दिशा में प्रगति कर सकते हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।