Budhimaan

Home » Kahavaten » टाट का लंगोटा नवाब से यारी, अर्थ, प्रयोग (Tat ka langota navab se yari)

टाट का लंगोटा नवाब से यारी, अर्थ, प्रयोग (Tat ka langota navab se yari)

“टाट का लंगोटा नवाब से यारी” यह हिंदी कहावत सामाजिक और आर्थिक असमानताओं के संदर्भ में व्यक्तियों के बीच संबंधों की विडंबना को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम गरीब और अमीर व्यक्तियों के बीच के संबंधों की जटिलताओं को समझ सकते हैं।

परिचय: इस कहावत में “टाट का लंगोटा” का अर्थ है गरीब व्यक्ति, जबकि “नवाब” धनी और सम्पन्न व्यक्तियों को दर्शाता है। यह कहावत इस बात पर प्रकाश डालती है कि कैसे गरीब लोग अक्सर धनी लोगों से मित्रता करने की कोशिश करते हैं।

अर्थ: कहावत का सार यह है कि जब एक गरीब व्यक्ति धनी व्यक्ति से मित्रता करने की कोशिश करता है, तो उसे अक्सर सामाजिक और आर्थिक अंतर के कारण उपेक्षा और असमानता का सामना करना पड़ता है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग समाज में वर्गीकरण और आर्थिक विभाजन को समझाने के लिए किया जाता है। यह समाज में मौजूद असमानताओं और वर्ग भेदभाव को उजागर करता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक गरीब किसान जो अपने खेतों में कड़ी मेहनत करता है, वह अपने गाँव के एक धनी जमींदार से मित्रता करना चाहता है। परंतु, जमींदार उसे हमेशा उसकी आर्थिक स्थिति के कारण नीचा दिखाता है और उसकी उपेक्षा करता है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सीखने को मिलता है कि समाज में आर्थिक स्थिति व्यक्तियों के बीच संबंधों पर गहरा प्रभाव डालती है। यह हमें यह भी बताती है कि कैसे वर्ग भेदभाव और सामाजिक असमानताएं लोगों के बीच के संबंधों में बाधा डालती हैं।

Hindi Muhavare Quiz

टाट का लंगोटा नवाब से यारी कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में सुधीर नाम का एक गरीब किसान रहता था। सुधीर बहुत मेहनती और ईमानदार था, लेकिन उसके पास बहुत कम धन था। उसी गाँव में एक अमीर जमींदार भी रहता था, जिसका नाम था ठाकुर साहब। ठाकुर साहब के पास बहुत सारी जमीन और धन-दौलत थी।

सुधीर का हमेशा से यह सपना था कि वह ठाकुर साहब के साथ दोस्ती करे और उनकी संगत में अपनी जिंदगी सुधारे। एक दिन सुधीर ने हिम्मत करके ठाकुर साहब से दोस्ती करने की कोशिश की। वह उनके घर गया और उनसे बातचीत करने की कोशिश की।

लेकिन ठाकुर साहब ने सुधीर को देखते ही अपना मुँह फेर लिया। उन्होंने सुधीर को उसकी गरीबी की याद दिलाई और कहा कि वह उनके जैसे अमीर आदमी के साथ दोस्ती करने का सपना न देखे। सुधीर को बहुत दुःख हुआ, लेकिन उसे समझ आ गया कि सामाजिक और आर्थिक अंतर के कारण उसकी और ठाकुर साहब की दोस्ती संभव नहीं है।

इस कहानी से हमें “टाट का लंगोटा नवाब से यारी” कहावत का अर्थ समझ आता है। यह बताती है कि कैसे गरीब व्यक्ति का अमीर व्यक्ति से दोस्ती करने का प्रयास अक्सर व्यर्थ होता है क्योंकि सामाजिक और आर्थिक अंतर उनके बीच एक बड़ी बाधा बन जाता है।

शायरी:

टाट का लंगोटा और नवाब की यारी,
कैसे मिले दो दुनिया, ये कहानी है बड़ी प्यारी।

गरीबी का दामन और अमीरी का असर,
दोनों के दरमियान, है फासला बहुत बड़ा।

दौलत की महफिल में, गरीब की बात क्या,
उसके ख्वाबों का जहाँ, बस एक ख्वाब ही सही।

जिसके पास ना हो सिक्कों की खनक,
उसके लिए दुनिया के दरवाजे भी संकरे।

गरीबी में जीने का अलग ही है दस्तूर,
अमीरों की दुनिया में उसकी ना कोई मंजूर।

सोने की चमक में, गरीब का प्यार नहीं दिखता,
उसकी सादगी में ही, उसका असली जिगर दिखता।

 

टाट का लंगोटा नवाब से यारी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of टाट का लंगोटा नवाब से यारी – Tat ka langota navab se yari Proverb:

The Hindi proverb “Tat ka langota navab se yari” highlights the irony of relationships between individuals in the context of social and economic disparities. Through this proverb, we can understand the complexities of relationships between poor and rich individuals.

Introduction: In this proverb, “टाट का लंगोटा” represents a poor person, while “नवाब” signifies wealthy and affluent individuals. The proverb sheds light on how poor people often try to befriend rich people.

Meaning: The essence of the proverb is that when a poor person attempts to befriend a rich person, they often face neglect and inequality due to social and economic differences.

Usage: This proverb is used to explain societal stratification and economic division. It highlights the inequalities and class discrimination present in society.

Examples:

-> Suppose a poor farmer who works hard in his fields wants to befriend a wealthy landlord in his village. However, the landlord always looks down upon him due to his economic status and neglects him.

Conclusion: This proverb teaches us that economic status deeply influences relationships between individuals in society. It also shows how class discrimination and social inequalities create barriers in relationships between people.

Story of Tat ka langota navab se yari Proverb in English:

In a small village lived a poor farmer named Sudhir. Sudhir was hardworking and honest, but he had very little money. In the same village, there was also a wealthy landlord known as Thakur Sahab, who owned a lot of land and wealth.

Sudhir always dreamed of befriending Thakur Sahab and improving his life through their association. One day, Sudhir gathered the courage to try and befriend Thakur Sahab. He went to his house and tried to engage in conversation.

However, upon seeing Sudhir, Thakur Sahab turned away. He reminded Sudhir of his poverty and told him not to dream of befriending someone as wealthy as himself. Sudhir was deeply hurt, but he realized that friendship with Thakur Sahab was impossible due to the social and economic differences.

This story helps us understand the meaning of the proverb “टाट का लंगोटा नवाब से यारी.” It illustrates how a poor person’s attempt to befriend a wealthy individual often ends in vain because the social and economic disparities create a significant barrier between them.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का व्यावहारिक उदाहरण क्या हो सकता है?

यदि एक सामान्य कर्मचारी किसी बड़ी कंपनी के CEO के साथ घनिष्ठ मित्रता रखता है, तो यह कहावत उस स्थिति को वर्णन कर सकती है।

इस कहावत का सामाजिक संदर्भ क्या है?

सामाजिक संदर्भ में, यह कहावत यह दर्शाती है कि समाज में अक्सर लोग अपनी वर्गीय सीमाओं को पार करके असामान्य संबंध बना लेते हैं, जो बाहरी दृष्टि से असंगत प्रतीत होते हैं।

यह कहावत नेतृत्व और प्रबंधन के संदर्भ में कैसे लागू होती है?

नेतृत्व और प्रबंधन में, इस कहावत का तात्पर्य हो सकता है कि कभी-कभी उच्च पदस्थ व्यक्ति को निम्न स्तर के कर्मचारियों के साथ सहज संबंध बनाने पड़ते हैं ताकि कार्यस्थल पर सहयोग और समर्थन बना रहे।

इस कहावत का आर्थिक विकास पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?

आर्थिक विकास में, यह कहावत उस स्थिति को दर्शाती है जब छोटे उद्यमी या निम्न आर्थिक वर्ग के व्यक्ति उच्च श्रेणी के व्यापारी या निवेशकों के साथ साझेदारी करते हैं।

“टाट का लंगोटा नवाब से यारी” कहावत का शिक्षा में क्या महत्व है?

शिक्षा के क्षेत्र में, यह कहावत इस बात को प्रकट करती है कि कभी कभी विद्यार्थी और शिक्षक के बीच एक असामान्य लेकिन मजबूत बंधन होता है, जहां शिक्षक उच्च पद पर होते हैं और विद्यार्थी उनसे काफी कम अनुभवी या ज्ञानी होते हैं।

इस कहावत का व्यक्तिगत विकास पर कैसे प्रभाव पड़ता है?

व्यक्तिगत विकास के संदर्भ में, यह कहावत यह दर्शाती है कि व्यक्ति को उच्च स्थान पर रहने वालों से सीखने और प्रेरणा लेने के अवसर मिल सकते हैं, जिससे उनका व्यक्तिगत विकास हो सकता है।

इस कहावत का सांस्कृतिक महत्व क्या है?

सांस्कृतिक दृष्टिकोण से, यह कहावत यह दर्शाती है कि विभिन्न सामाजिक और आर्थिक परतों के बीच संबंध और दोस्ती के माध्यम से सामाजिक बाधाओं और वर्ग-भेदों को पार करने की क्षमता होती है, जिससे सामाजिक समरसता और सांस्कृतिक एकीकरण को बढ़ावा मिलता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।