Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद अर्थ, प्रयोग(Soop bole to bole, Chalni bhi bole jisme 72 ched)

सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद अर्थ, प्रयोग(Soop bole to bole, Chalni bhi bole jisme 72 ched)

परिचय: यह कहावत दो रसोई के उपकरणों, सूप (एक प्रकार का छलनी जिसका उपयोग अनाज को साफ करने के लिए किया जाता है) और चलनी (एक प्रकार की जालीदार प्लेट जिसमें छेद होते हैं) के बारे में है। सूप चलनी को उसके 72 छेदों के लिए उलाहना देता है, जबकि खुद में भी एक बड़ा छेद होता है।

अर्थ: इस कहावत का गहरा अर्थ यह है कि अक्सर लोग दूसरों की कमियों को तो आसानी से देख लेते हैं, परंतु वे अपनी खुद की कमियों से अनजान रहते हैं। यह आत्म-विश्लेषण की कमी और दूसरों की आलोचना करने की प्रवृत्ति पर प्रकाश डालता है।

प्रयोग: इस कहावत का उपयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति दूसरों की गलतियों पर उंगली उठाता है, जबकि वह खुद भी समान या बड़ी गलतियाँ कर रहा हो।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक व्यक्ति जो खुद अक्सर देर से ऑफिस पहुंचता है, अगर वह अपने सहकर्मी को एक बार देर से आने पर टोके, तो उसे कहा जा सकता है – “सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद।”

निष्कर्ष: यह कहावत हमें यह सिखाती है कि हमें पहले अपनी कमियों को सुधारना चाहिए और फिर दूसरों की आलोचना करने से पहले अपने आप को देखना चाहिए। यह आत्म-सुधार और आत्म-समीक्षा के महत्व पर जोर देता है।

Hindi Muhavare Quiz

सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में दो पड़ोसी रहते थे, विनीत और सुधीर। विनीत एक किसान था और सुधीर एक धोबी। विनीत अपने खेत में कड़ी मेहनत करता, लेकिन अक्सर उसके खेत में पानी नहीं रहता था क्योंकि उसकी नहर में एक बड़ा छेद था। उधर, सुधीर अपने कपड़े धोते समय हमेशा जल्दी में रहता था, इसलिए उसके कपड़ों में अक्सर दाग रह जाते थे।

एक दिन, विनीत ने देखा कि सुधीर के धोए हुए कपड़ों में दाग हैं। उसने सुधीर को टोकते हुए कहा, “सुधीर, तुम अपने काम में कितने लापरवाह हो! देखो, कपड़ों में दाग रह गए हैं।” सुधीर ने विनीत की बात सुनी और मुस्कुराया। वह विनीत के खेत की ओर इशारा करते हुए बोला, “विनीत भैया, आपके खेत में पानी नहीं रुकता क्योंकि नहर में बड़ा छेद है। पहले उसे तो ठीक करो।”

इस पर विनीत थोड़ा शर्मिंदा हुआ और समझ गया कि उसने गलती की है। वह बोला, “तुम सही कह रहे हो सुधीर, मुझे पहले अपनी गलतियों को सुधारना चाहिए।”

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि “सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद”, यानी हमें दूसरों की कमियों पर टिप्पणी करने से पहले खुद की कमियों को सुधारना चाहिए। इससे हम न केवल एक बेहतर इंसान बनते हैं, बल्कि दूसरों के प्रति सहानुभूति और समझदारी भी दिखाते हैं।

शायरी:

चलनी से कहा सूप ने, ‘तेरे छेद कम नहीं’,

खुद में झांक सूप भूला, उसका खुद का गम नहीं।

बातों में तीखापन है, दिल में है चुभन सी,

देख खुद की खामियां, पहले तू रुबरू हो ले।

हर एक की जुबान पे, दूजे का नाम है,

अपने गिरेबां में झांक, क्या तेरा काम है?

दुनिया की इस भीड़ में, हर किसी की बात निराली,

‘सूप बोले तो बोले’, चलनी में भी तो हैं छेद हज़ारों।

इस दुनिया में हर कोई, खुद को समझे साफ,

ना जाने कितने छेद हैं, हर एक की दास्ताँ में।

 

सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद – Soop bole to bole, Chalni bhi bole jisme 72 ched Idiom:

Introduction: This idiom is about two kitchen utensils, a ‘सूप’ (a kind of sieve used for cleaning grains) and a ‘चलनी’ (a kind of perforated plate with holes). The sieve criticizes the colander for having 72 holes, while it itself has a big hole.

Meaning: The deeper meaning of this idiom is that people often easily see the flaws in others, but remain unaware of their own. It highlights the lack of self-analysis and the tendency to criticize others.

Usage: This idiom is used when someone points out the mistakes of others, while they themselves are making the same or bigger mistakes.

Example:

-> For instance, if a person who often arrives late at the office criticizes a colleague for being late once, it can be said to them, “सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद।” (The sieve might speak, but so does the colander with 72 holes).

Conclusion: This proverb teaches us that we should first rectify our own shortcomings before criticizing others. It emphasizes the importance of self-improvement and self-review.

Story of ‌‌Soop bole to bole, Chalni bhi bole jisme 72 ched Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived two neighbors, Vineet and Sudhir. Vineet was a farmer, and Sudhir was a washerman. Vineet worked hard in his fields, but often there was no water in his fields because there was a big hole in his canal. Meanwhile, Sudhir, always in a hurry while washing clothes, often left stains on them.

One day, Vineet noticed stains on Sudhir’s washed clothes. He reproached Sudhir, saying, “Sudhir, you are so careless in your work! Look, there are stains on the clothes.” Sudhir heard Vineet and smiled. Pointing towards Vineet’s field, he said, “Brother Vineet, water doesn’t stay in your field because there’s a big hole in the canal. You should fix that first.”

Vineet felt a bit embarrassed and realized his mistake. He said, “You are right, Sudhir. I should first correct my own mistakes.”

This story teaches us the lesson of “सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद”, meaning we should rectify our own shortcomings before commenting on others’ flaws. By doing so, we not only become better individuals but also show empathy and understanding towards others.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या “चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद” का कोई विशेष मतलब है?

इसका अर्थ होता है कि व्यक्ति की बातें ऐसी होती हैं जैसे चलनी में होले होते हैं, जिससे बहुत सी बातें बाहर आती हैं.

इस मुहावरे में “सूप बोले तो बोले” का क्या अर्थ है?

यहाँ “सूप बोले तो बोले” का अर्थ है कि व्यक्ति जो कुछ भी बोलता है, वह बिना किसी संकोच के और सीधे तौर पर बोलता है।

क्या है मुहावरा “सूप बोले तो बोले, चलनी भी बोले जिसमें 72 छेद” का अर्थ?

इस मुहावरे का अर्थ होता है कि व्यक्ति जो कुछ भी कहता है, उसकी बातों में बहुत सी बातें छुपी होती हैं जो सीधे-सीधे नहीं कहता।

इस मुहावरे का प्रयोग किस प्रकार की स्थितियों में हो सकता है?

यह मुहावरा उन स्थितियों में प्रयुक्त हो सकता है जब कोई व्यक्ति अपने विचारों को सीधे रूप से नहीं बता रहा हो, बल्कि उसकी बातों में कई अर्थ छुपे हो।

क्या यह मुहावरा किसी विशेष स्थिति को दर्शाता है?

हाँ, यह मुहावरा व्यक्ति के बोलने की शैली को बयान करता है, जिसमें बहुत से रहस्य होते हैं और उसकी बातों में कई अर्थ छुपे होते हैं।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।