Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » सिर पर कफन बांधना, अर्थ, प्रयोग(Sir par kafan bandhna)

सिर पर कफन बांधना, अर्थ, प्रयोग(Sir par kafan bandhna)

"सिर पर कफन बांधना मुहावरा चित्र", "Budhimaan.com मुहावरा इल्लुस्ट्रेशन", "हिंदी मुहावरा विस्तार से"

परिचय: हिंदी भाषा में ‘सिर पर कफन बांधना’ एक प्रमुख मुहावरा है, जिसका अर्थ होता है किसी व्यक्ति की पूरी तरह से समर्पण भावना, बलिदान और त्याग की भावना।

अर्थ: ‘सिर पर कफन बांधना’ मुहावरे का अर्थ है किसी महत्वपूर्ण लक्ष्य या कारण के लिए जीवन की सम्पूर्ण समर्पण और त्याग की भावना। इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति को उसकी मूल्यवान वस्तुओं, स्थितियों या जीवन का त्याग करने की तैयारी होती है।

उदाहरण:

-> जब राजा सुरेंद्र ने अपनी सम्पूर्ण संपत्ति, राज्य और परिवार को त्याग दिया, तो उसे कहा गया कि उसने ‘सिर पर कफन बांध लिया’।

-> जब कोई सेना का जवान अपने देश के लिए लड़ने जाता है, जानकर कि वह वापस नहीं आ सकता, तो कहा जाता है कि उसने ‘सिर पर कफन बांध लिया’।

विवेचना: जब किसी व्यक्ति में अपार त्याग, समर्पण और बलिदान की भावना होती है, तो उसे ‘सिर पर कफन बांधना’ माना जाता है। यह मुहावरा उस अद्वितीय समर्पण की भावना को प्रकट करता है, जो केवल महान आत्माओं में होती है।

निष्कर्ष: ‘सिर पर कफन बांधना’ एक ऐसा मुहावरा है, जो हमें त्याग, समर्पण और बलिदान की असीम भावना की ओर मार्गदर्शन करता है। हमें चाहिए कि हम इस मुहावरे के वास्तविक अर्थ को समझें और अपने जीवन में उसे अपनाएं।

अधिक जानकारी और अन्य हिंदी मुहावरों के लिए, Budhimaan.com पर जाएं।

सिर पर कफन बांधना मुहावरा पर कहानी:

अनुभव और अखिल दो मित्र मित्र थे जो गाँव में साथ में बड़े हुए थे। जब वे बड़े हो गए, तब गाँव की एक बड़ी समस्या सामने आई। गाँव का जल स्रोत सूख चुका था और पानी की घातक कमी हो रही थी।

अनुभव ने सोचा कि वह शहर जाएगा और वहाँ काम करके पैसा कमाकर गाँव में पानी के लिए बोरवेल खुदवाएगा। वहीं अखिल ने ठान लिया कि वह गाँव में ही रहकर समस्या का समाधान ढूंढेगा।

अखिल का यह निर्णय उसके परिवार और दोस्तों के लिए अच्छा नहीं लगा। उसे समझाया गया कि यह एक बहुत बड़ी और मुश्किल लड़ाई होगी, और उसे शहर जाकर कुछ और करना चाहिए। लेकिन अखिल ने सभी को जवाब दिया, “मैंने सिर पर कफन बांध लिया है। मुझे अपने गाँव के लिए यह करना है।”

दिन-रात अखिल ने काम किया। वह नदियों, झीलों और अन्य जल स्रोतों के बारे में पढ़ा। वह अपने गाँव के अन्य लोगों को भी साथ में लेकर पानी संकट का समाधान ढूंढने में जुट गया।

महीनों बाद, अखिल की मेहनत रंग लाई। उसने एक पुराने जल स्रोत को पुनः स्थापित किया और गाँव के लिए पानी की समस्या का समाधान पाया।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि ‘सिर पर कफन बांधना’ का मतलब है किसी लक्ष्य को पाने के लिए पूरी तरह से समर्पित हो जाना, चाहे उसमें कितनी भी मुश्किलें क्यों न हो।

शायरी:

सिर पर कफन बाँध लिया है हमने,

ज़िंदगी की इस राहत में कोई ग़म नहीं।

आँधियों से लड़ने का इरादा रखा है,

मोहब्बत में जीने की इस आदत में कोई कमी नहीं।

 

सिर पर कफन बांधना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of सिर पर कफन बांधना – Sir par kafan bandhna Idiom:

Introduction: The idiom ‘Sir par kafan bandhna’ translates to a wholehearted surrender and the feeling of sacrifice for a crucial purpose or cause. This phrase is employed when someone is ready to forsake their invaluable belongings, situations, or even their life.

Meaning: The idiom ‘Sir par kafan bandhna’ translates to a wholehearted surrender and the feeling of sacrifice for a crucial purpose or cause. This phrase is employed when someone is ready to forsake their invaluable belongings, situations, or even their life.

Usage:

-> For instance, when King Surendra relinquished all his wealth, kingdom, and family, it was said that he had ‘tied the shroud on his head.’

-> Similarly, when a soldier goes into battle for his country, fully aware he might not return, it’s expressed that he has ‘tied the shroud on his head.’

Discussion: When someone showcases an overwhelming spirit of sacrifice, dedication, and selflessness, they are believed to have ‘tied the shroud on their head’. This idiom highlights that unique sentiment of dedication found only among the noblest of souls.

Conclusion: The phrase ‘Sir par kafan bandhna’ is a guiding beacon, emphasizing the boundless emotions of sacrifice, devotion, and martyrdom. It’s pivotal for us to grasp the genuine essence of this idiom and imbibe it in our lives.

For further information and other Hindi idioms, visit Budhimaan.com.

Story of ‌‌सिर पर कफन बांधना – Sir par kafan bandhna Idiom:

Anubhav and Akhil were two friends who grew up together in a village. As they matured, the village faced a significant challenge. The village’s water source had dried up, leading to a dire shortage of water.

Anubhav decided to move to the city to earn money, intending to use the funds to dig a borewell in the village to address the water crisis. On the other hand, Akhil resolved to stay in the village and seek a solution locally.

Akhil’s decision did not sit well with his family and friends. They advised him that this would be a massive and challenging battle and suggested he should venture to the city to do something else. But Akhil responded, “I have tied the shroud on my head. I have to do this for my village.”

Day and night, Akhil worked. He researched rivers, lakes, and other water sources. He also rallied other villagers to join him in his quest to find a solution to the water crisis.

After months of relentless effort, Akhil’s hard work bore fruit. He managed to revive an old water source, providing a solution to the village’s water woes.

This story teaches us that ‘tying the shroud on one’s head’ signifies complete dedication to achieving a goal, regardless of the challenges that come with it.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"टुकड़ा खाए दिल बहलाए कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "कपड़े फाटे घर को आए कहावत की व्याख्या वाला चित्र", "आर्थिक संघर्ष दर्शाती Budhimaan.com की छवि", "भारतीय ग्रामीण जीवन का यथार्थ चित्रण"
Kahavaten

टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए, अर्थ, प्रयोग(Tukda khaye dil bahlaye, Kapde fate ghar ko aaye)

“टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए” यह हिंदी कहावत कठिन परिस्थितियों में जीवन यापन करने के संघर्ष को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"टका सर्वत्र पूज्यन्ते कहावत का चित्रण", "धन और सामाजिक सम्मान का प्रतीकात्मक चित्र", "भारतीय समाज में धन का चित्रण", "हिंदी कहावतों का विश्लेषण - Budhimaan.com"
Kahavaten

टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते, अर्थ, प्रयोग(Taka sarvatra pujyate, Bin taka taktakayte)

परिचय: हिंदी की यह कहावत “टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते” धन के महत्व और समाज में इसके प्रभाव पर जोर देती है। यह कहावत

Read More »
"टेर-टेर के रोवे कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर व्यक्तिगत समस्याओं का समाधान", "सामाजिक प्रतिष्ठा की रक्षा करती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की व्याख्या वाला चित्र"
Kahavaten

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग(Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” यह हिंदी कहावत व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार और सबके सामने व्यक्त करने के परिणामों को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"ठग मारे अनजान कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर बनिया मारे जान कहावत का विश्लेषण", "धोखाधड़ी के विभिन्न रूप दर्शाती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की गहराई का चित्रण"
Kahavaten

ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान, अर्थ, प्रयोग(Thag mare anjaan, Baniya maare jaan)

“ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान” यह हिंदी कहावत विभिन्न प्रकार के छल-कपट की प्रकृति को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम यह

Read More »
"टका हो जिसके हाथ में कहावत का चित्रण", "समाज में धन की भूमिका का चित्र", "भारतीय कहावतों का चित्रात्मक प्रतिनिधित्व", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों का विश्लेषण"
Kahavaten

टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में, अर्थ, प्रयोग(Taka ho jiske haath mein, Wah hai bada jaat mein)

“टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में” यह हिंदी कहावत समाज में धन के प्रभाव और उसकी महत्वपूर्णता पर प्रकाश डालती है।

Read More »
"टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा कहावत का चित्रण", "बुद्धिमत्ता और मूर्खता पर आधारित हिंदी कहावत का चित्र", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों की व्याख्या", "जीवन शैली और सीख का प्रतिनिधित्व करता चित्र"
Kahavaten

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग(Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” यह हिंदी कहावत बुद्धिमत्ता और मूर्खता के बीच के व्यवहारिक अंतर को स्पष्ट करती है। इस कहावत के

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।