Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पूत अपने सब कहँ प्यारी अर्थ, प्रयोग (Poot apne sab kah pyari)

पूत अपने सब कहँ प्यारी अर्थ, प्रयोग (Poot apne sab kah pyari)

परिचय: “पूत अपने सब कहँ प्यारी” भारतीय हिंदी भाषा का एक प्रसिद्ध मुहावरा है। यह मुहावरा अक्सर उस स्थिति को व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जब किसी को अपने बच्चों में विशेष लगाव और प्यार होता है, भले ही वे कैसे भी हों।

अर्थ: “पूत अपने सब कहँ प्यारी” का अर्थ है कि हर माता-पिता को अपने बच्चे सबसे अधिक प्रिय और महत्वपूर्ण लगते हैं। यह व्यक्त करता है कि माता-पिता अपने बच्चों में कोई भी दोष नहीं देखते और उन्हें हमेशा प्यार करते हैं।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति को अपने बच्चों के प्रति अत्यधिक स्नेह और अनुराग दिखाना हो।

उदाहरण:

-> “चाहे प्रथम ने कितनी भी गलतियाँ क्यों न की हों, उसकी माँ के लिए तो पूत अपने सब कहँ प्यारी ही है।”

-> “अनन्या अपने बेटे की हर एक बात मानती है, वाकई में पूत अपने सब कहँ प्यारी होती है।”

निष्कर्ष: मुहावरा “पूत अपने सब कहँ प्यारी” हमें यह सिखाता है कि माता-पिता का अपने बच्चों के प्रति अनुराग और स्नेह अतुलनीय होता है। यह मुहावरा माता-पिता के इस अटूट प्रेम और लगाव को व्यक्त करता है।

पूत अपने सब कहँ प्यारी मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में मीना नाम की एक माँ रहती थी। उसका एक बेटा था, अमन, जो अक्सर शरारतें करता था। अमन की हरकतें गाँव वालों के लिए परेशानी का सबब बन गई थीं। लेकिन मीना के लिए उसका बेटा हमेशा प्यारा था।

एक दिन अमन ने खेल-खेल में गाँव के सरपंच की खिड़की तोड़ दी। गाँव वाले अमन की शिकायत लेकर मीना के पास आए। मीना ने उन्हें समझाया, “बच्चे हैं, गलतियाँ तो करते ही हैं।” और फिर उसने अमन को प्यार से समझाया कि गलतियों से सीखना चाहिए।

अमन की शरारतों के बावजूद, मीना ने कभी उसके प्रति अपना प्यार कम नहीं होने दिया। वह हमेशा कहती, “मेरे लिए तो मेरा अमन सबसे अच्छा है। पूत अपने सब कहँ प्यारी होते हैं।”

उसके इस अटूट प्यार और धैर्य ने अमन को एक दिन समझदार और जिम्मेदार बना दिया। वह गाँव का गौरव बन गया, और मीना का अटूट प्यार उसके लिए वरदान साबित हुआ।

यह कहानी “पूत अपने सब कहँ प्यारी” मुहावरे के अर्थ को स्पष्ट करती है। यह हमें बताती है कि माता-पिता का अपने बच्चों के प्रति प्यार और स्नेह कितना अटूट और अनमोल होता है।

शायरी:

हर माँ-बाप की आँखों में, अपने बच्चे सबसे प्यारे,

पूत अपने सब कहँ प्यारी, ये दिल की बातें सारे।

चाहे नादानियाँ करे वो, या करे शैतानियाँ,

उनकी मासूम हंसी में, छिपी हर माँ की खुशियाँ।

बच्चों की खिलखिलाहट में, हर दुःख का अंत,

पूत अपने सब कहँ प्यारी, हर माँ का यही विश्वास।

करे जो भी भूल वो, माँ-बाप की आँखों में सही,

उनकी गोदी की दुनिया में, वो रहते हमेशा राजा की तरह।

उनके लिए तो हर पल, अपने बच्चों की बातें खास,

पूत अपने सब कहँ प्यारी, यही है हर दिल की आस।

 

पूत अपने सब कहँ प्यारी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पूत अपने सब कहँ प्यारी – Poot apne sab kah pyari Idiom:

Introduction: “पूत अपने सब कहँ प्यारी” is a famous idiom in the Indian Hindi language. It is commonly used to express the situation where someone has a special affection and love for their children, regardless of how they are.

Meaning: The meaning of “पूत अपने सब कहँ प्यारी” is that every parent finds their child most dear and important. It expresses that parents do not see any fault in their children and always love them unconditionally.

Usage: This idiom is used when someone wants to show extreme affection and fondness towards their children.

Example:

-> “No matter how many mistakes Pratham makes, for his mother, her child is always the dearest.”

-> “Ananya always agrees with everything her son says, truly the child is dearest to the parent.”

Conclusion: The idiom “पूत अपने सब कहँ प्यारी” teaches us that the love and affection of parents towards their children are incomparable. This idiom expresses the unbreakable love and attachment of parents for their children.

Story of ‌‌Poot apne sab kah pyari Idiom in English:

In a small village, there lived a mother named Meena. She had a son, Aman, who often engaged in mischief. Aman’s antics had become a source of trouble for the villagers. However, for Meena, her son was always dear to her heart.

One day, Aman, while playing, broke the window of the village head. The villagers came to Meena to complain about Aman. Meena explained to them, “Children make mistakes,” and then lovingly taught Aman that one should learn from their errors.

Despite Aman’s mischievous behavior, Meena never let her love for him diminish. She always said, “For me, my Aman is the best. Every child is dearest to their parents.”

Her unwavering love and patience eventually turned Aman into a sensible and responsible person. He became the pride of the village, and Meena’s unbreakable love proved to be a blessing for him.

This story elucidates the meaning of the idiom “पूत अपने सब कहँ प्यारी.” It tells us about the unbreakable and priceless love and affection of parents towards their children.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।