Budhimaan

Home » Kahavaten » ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित, अर्थ, प्रयोग (Oont dulha Gadha purohit)

ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित, अर्थ, प्रयोग (Oont dulha Gadha purohit)

परिचय: “ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित” एक रोचक हिंदी कहावत है, जिसका उपयोग आमतौर पर तब होता है जब एक मूर्ख या निंदनीय व्यक्ति दूसरे मूर्ख या निंदनीय व्यक्ति की प्रशंसा करता है।

अर्थ: इस कहावत में ऊंट को दूल्हा और गधे को पुरोहित के रूप में दर्शाया गया है, जो स्वाभाविक रूप से एक असामान्य और हास्यास्पद स्थिति को बताता है। यह उन परिस्थितियों को व्यंग्यात्मक रूप से प्रस्तुत करता है जहां अयोग्य लोग अन्य अयोग्य लोगों की प्रशंसा करते हैं।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग में आती है जब एक व्यक्ति जो स्वयं किसी विशेष क्षेत्र में योग्यता या ज्ञान नहीं रखता, दूसरे अनुभवहीन व्यक्ति की प्रशंसा करता है। इससे उनकी अज्ञानता और अयोग्यता का परिहास उजागर होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक गाँव में दो व्यक्ति थे जिनकी समाज में कोई विशेष प्रतिष्ठा नहीं थी। एक ने दूसरे की बड़ाई की और उसे गाँव का सबसे बुद्धिमान व्यक्ति घोषित कर दिया। इस पर गाँववाले हंस पड़े और कहने लगे, “यह तो ‘ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित’ वाली बात हो गई।”

समापन: इस कहावत से हमें सिखने को मिलता है कि प्रशंसा करते समय हमें विवेकपूर्ण और यथार्थवादी होना चाहिए। अयोग्य व्यक्तियों की अंधाधुंध प्रशंसा से न केवल हास्यास्पद स्थितियाँ उत्पन्न होती हैं, बल्कि यह अनुचित और भ्रामक भी हो सकती है। अतः, प्रत्येक व्यक्ति को उसके योग्यता के अनुसार ही प्रशंसा मिलनी चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित कहावत पर कहानी:

बहुत समय पहले, एक छोटे से गाँव में दो व्यक्ति रहते थे – मुनीश और सुधीर। मुनीश एक साधारण किसान था जो अपनी सादगी और ईमानदारी के लिए जाना जाता था, जबकि सुधीर एक छोटा दुकानदार था जिसे अपनी चालाकी और बातों के लिए पहचाना जाता था।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा मेला लगा। उस मेले में मुनीश और सुधीर दोनों ने अपनी-अपनी दुकानें सजाईं। मुनीश ने अपनी फसलों और सब्जियों की दुकान लगाई, और सुधीर ने अपने हाथ से बने खिलौने और सजावटी सामान बेचने की सोची।

मेले में लोगों की भीड़ जुटी। मुनीश की दुकान पर लोगों का आना-जाना लगा रहा, लेकिन सुधीर की दुकान पर ज्यादा लोग नहीं आए। इससे निराश होकर, सुधीर ने एक योजना बनाई। उसने गाँव के एक अन्य व्यक्ति को पैसे देकर अपनी दुकान की प्रशंसा करने को कहा, ताकि लोगों का ध्यान उसकी दुकान की ओर आकर्षित हो सके।

वह व्यक्ति जोर-जोर से सुधीर की दुकान की तारीफ करने लगा, लेकिन गाँववाले उसकी बातों पर हंसने लगे। वे जानते थे कि वह व्यक्ति सुधीर का मित्र था और उसकी प्रशंसा में कोई सच्चाई नहीं थी। इस पर एक बुजुर्ग ने कहा, “यह तो ‘ऊंट दूल्हा, गधा पुरोहित’ वाली बात हो गई। जब एक मूर्ख दूसरे मूर्ख की तारीफ करे, तो उसे कौन सीधा मानेगा?”

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि अगर हमारे काम में सच्चाई और ईमानदारी नहीं है, तो दूसरों की झूठी तारीफ से भी हमारी साख नहीं बनेगी। असली प्रशंसा तो वह है जो हमारे काम और चरित्र से आती है।

शायरी:

बेमेल रिश्तों का खेल अजब, गाँव में उठा एक सवाल,

ऊंट दूल्हा, गधा पुरोहित, किस्सा ये कितना खयाल।

दुनिया देखे हंसकर यहाँ, हर एक किरदार अनोखा,

अक्ल का अंधा, नजरों में सपना, जैसे चाँद पे रोका।

बिना सोचे, बिना समझे, चलते जो अपनी राह,

ऊंट और गधे की कहानी, बन जाती है आँखों का चाह।

कहते हैं दुनिया वाले यूँ, हर बात में एक मिसाल,

“ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित”, जीवन की यह है खास हाल।

ज़िन्दगी की इस कहानी में, हर किसी को दिखता आइना,

जोड़े जाते हैं बेमेल, फिर भी ढूँढते हैं सब अपना चैना।

समझो इस बात को दिल से, जोड़े जाते नहीं अनजाने,

“ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित”, जीवन का यह अनोखा फसाने।

 

ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित – Oont dulha Gadha purohit Proverb:

Introduction: “ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित” is an intriguing Hindi proverb typically used when a foolish or despicable person praises another fool or despicable person.

Meaning: The proverb, which literally depicts a camel as the groom and a donkey as the priest, inherently describes an absurd and comical situation. It satirically represents scenarios where incompetent people praise other incompetent individuals.

Usage: This proverb is used when a person lacking expertise or knowledge in a particular field praises another inexperienced person, highlighting their ignorance and incompetence.

Examples:

-> Imagine a village where two individuals, neither of whom is particularly esteemed in society. One praises the other, declaring him the wisest person in the village. The villagers laugh at this and say, “This is just like ‘ऊंट दूल्हा गधा पुरोहित’.”

Conclusion: This proverb teaches us to be discerning and realistic when giving praise. Indiscriminate praise of incompetent individuals not only creates ludicrous situations but can also be misleading and inappropriate. Therefore, everyone should receive praise commensurate with their abilities and accomplishments.

Story of Oont dulha Gadha purohit Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived two men – Munish, a simple farmer known for his simplicity and honesty, and Sudhir, a small shopkeeper recognized for his cunningness and talkativeness.

During a grand fair in the village, both Munish and Sudhir set up their respective stalls. Munish displayed his crops and vegetables, while Sudhir decided to sell his handmade toys and decorative items.

The fair attracted a large crowd. People constantly visited Munish’s stall, but Sudhir’s shop didn’t see many visitors. Disappointed, Sudhir hatched a plan. He paid another villager to publicly praise his shop, hoping to draw attention to his products.

The man loudly lauded Sudhir’s shop, but the villagers laughed, knowing he was Sudhir’s friend and his praises were insincere. An elder commented, “This is a case of ‘ऊंट दूल्हा, गधा पुरोहित’. Who will take seriously the praise of a fool by another fool?”

This story teaches us that if our work lacks truth and honesty, then even false praise from others won’t establish our reputation. Real appreciation comes from our work and character.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

क्या इस कहावत में कोई व्यंग्यात्मक तत्व होता है?

हां, इस कहावत में व्यंग्य होता है, जो अनुपयुक्त या अयोग्य व्यक्तियों की असंगत भूमिका पर प्रकाश डालता है।

इस कहावत का व्यावहारिक जीवन में क्या महत्व है?

व्यावहारिक जीवन में इस कहावत का महत्व यह है कि इससे हमें योग्यता और उपयुक्तता के महत्व का संदेश मिलता है।

इस कहावत का शिक्षा क्षेत्र में क्या उपयोग है?

शिक्षा क्षेत्र में इस कहावत का उपयोग योग्यता और सही भूमिका के महत्व को समझाने के लिए होता है।

इस कहावत का नैतिक या सामाजिक संदेश क्या है?

नैतिक या सामाजिक संदेश यह है कि समाज में हर व्यक्ति को उसकी योग्यता और उपयुक्तता के अनुसार ही भूमिका निभानी चाहिए।

क्या यह कहावत बच्चों को सिखाने के लिए उपयुक्त है?

हां, यह कहावत बच्चों को सिखाने के लिए उपयुक्त है, क्योंकि इससे उन्हें योग्यता और सही भूमिका की महत्वता समझ में आती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।