Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मुँह की बात छीनना अर्थ, प्रयोग (Munh ki baat chhinna)

मुँह की बात छीनना अर्थ, प्रयोग (Munh ki baat chhinna)

परिचय: “मुँह की बात छीनना” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जो व्यक्त करता है कि किसी ने वही कहा या किया जो आप सोच रहे थे या कहने वाले थे। यह उस स्थिति का वर्णन करता है जब कोई व्यक्ति आपके मन की बात को पहले ही जाहिर कर देता है।

अर्थ: “मुँह की बात छीनना” मुहावरे का अर्थ है किसी के विचारों या भावनाओं को उससे पहले ही व्यक्त कर देना, जिससे वह व्यक्ति अभिव्यक्त करने का मौका खो देता है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर सकारात्मक संदर्भ में प्रयोग किया जाता है, जब कोई व्यक्ति आपके विचारों या भावनाओं को समझकर उन्हें शब्दों में व्यक्त कर देता है। हालांकि, कभी-कभी यह नकारात्मक संदर्भ में भी प्रयोग किया जा सकता है।

उदाहरण:

-> अनुभव और लक्ष्मी एक ही गाने के बारे में सोच रहे थे और जैसे ही अनुभव ने वह गाना गुनगुनाना शुरू किया, लक्ष्मी ने कहा, “अरे! तुमने तो मेरे मुँह की बात छीन ली।”

निष्कर्ष: “मुँह की बात छीनना” मुहावरा हमें दिखाता है कि कैसे हमारे विचार और भावनाएं कभी-कभी इतनी समान होती हैं कि दूसरे लोग उन्हें व्यक्त कर देते हैं इससे पहले कि हम खुद उन्हें व्यक्त कर पाएं। यह एक दूसरे के प्रति समझ और सहानुभूति की गहराई को भी दर्शाता है। इस मुहावरे का प्रयोग हमारी दैनिक बातचीत में आपसी समझ और संवेदनशीलता को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

मुँह की बात छीनना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में दो दोस्त रहते थे, विशाल और अभय। दोनों बचपन से ही अच्छे दोस्त थे और एक दूसरे के मन की बात बिना कहे ही समझ जाते थे। एक दिन, गाँव में मेला लगा। मेले में खेल, खाने-पीने की दुकानें और तरह-तरह के मनोरंजन के साधन थे। विशाल और अभय भी मेले में जाने का प्लान बना रहे थे।

अभय ने विशाल से कहा, “यार, मेले में जाने से पहले मैं तुम्हें कुछ बताना चाहता हूँ।” इससे पहले कि अभय कुछ और कह पाता, विशाल बोल पड़ा, “तुम कहना चाहते हो कि हमें मेले में जाकर वो नया जादू शो देखना चाहिए, है ना?” अभय हैरान रह गया और बोला, “बिल्कुल! तुमने तो मेरे मुँह की बात छीन ली। मैं यही कहने वाला था।”

विशाल और अभय की इस घटना ने गाँव वालों को भी चकित कर दिया। उनकी इस घटना से सभी ने सीखा कि कैसे अच्छी दोस्ती और समझदारी से लोग एक दूसरे के मन की बात को बिना कहे ही समझ सकते हैं।

इस कहानी के माध्यम से, “मुँह की बात छीनना” मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। यह दर्शाता है कि किसी की अनकही बातों को भी समझकर और उन्हें व्यक्त करके किसी के दिल को छू लिया जा सकता है। यह घटना विशाल और अभय की गहरी दोस्ती और एक दूसरे के प्रति उनकी समझदारी को भी प्रदर्शित करती है।

शायरी:

दोस्ती की राह में जब बातें बिन कहे समझ जाएँ,

मुँह की बात छीन लेना, ये कला सबको ना आए।

अनकहे लफ्ज़ जब हवा में तैरने लगें,

मिल जाए जवाब बिन पूछे, रिश्तों की ये गहराई कहें।

इक नज़र में बातों को पढ़ लेना, इक अदा है प्यारी,

मुँह की बात छीनने वाला, बन जाता दिल से यारी।

जब दिल से दिल की बातें हों, लफ्ज़ों की क्या ज़रूरत,

मुँह की बात छीन लेने का हुनर, बनाए रिश्तों में मिठास भरपूर।

ये दुनिया कहती रहे जो भी, दिल की बातें तो दिल से हों,

मुँह की बात छीन लेने वाले, सच्चे दोस्त के नाम वो हों।

 

मुँह की बात छीनना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मुँह की बात छीनना – Munh ki baat chhinna Idiom:

Introduction: “Munh ki baat chhinna” is a popular Hindi idiom that expresses when someone says or does exactly what you were thinking or about to say. It describes the situation where a person articulates your thoughts before you do.

Meaning: The idiom “Munh ki baat chhinna” means to express someone’s thoughts or feelings before they have the chance to do so themselves, resulting in the person losing the opportunity to express themselves.

Usage: This idiom is often used in a positive context when someone understands your thoughts or feelings and expresses them in words before you can. However, it can sometimes be used in a negative context as well.

Example:

-> Anubhav and Lakshmi were thinking about the same song, and as soon as Anubhav began to hum it, Lakshmi said, “Wow! You just stole the words right out of my mouth. That’s exactly what I was going to say.”

Conclusion: The idiom “Munh ki baat chhinna” shows how our thoughts and feelings can sometimes be so similar that others express them before we get the chance. It also illustrates the depth of understanding and empathy towards each other. Using this idiom in our daily conversations can help enhance mutual understanding and sensitivity.

Story of ‌‌Munh ki baat chhinna Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a person named Abhay. Abhay led a simple life but always harbored the desire to become wealthy. One day, his luck turned around, and he won a large lottery. Overnight, Abhay became wealthy and began living the life of his dreams.

Abhay purchased expensive cars, built a large house, and spent lavishly on luxury items, showcasing his newfound wealth at every opportunity. However, Abhay did not manage his wealth wisely nor planned for the future.

As time passed, Abhay’s wealth gradually diminished. The businesses he started also failed because he had not invested in them wisely. Eventually, the day came when Abhay had to sell his large house and expensive cars. He returned to the simple life he had started from.

The villagers, upon witnessing Abhay’s story, remarked, “Abhay was ‘wealthy like a shorn sheep.'” His wealth was temporary, and he failed to retain it.

This story teaches us the importance of managing wealth wisely and preserving it. Temporary wealth cannot bring satisfaction and lasting prosperity. True wealth is in wisely earned and saved money, not in transient riches.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।