Budhimaan

Home » Kahavaten » लिखे ईसा पढ़े मूसा, अर्थ, प्रयोग(Likhe eesa padhe musa)

लिखे ईसा पढ़े मूसा, अर्थ, प्रयोग(Likhe eesa padhe musa)

परिचय: “लिखे ईसा पढ़े मूसा” यह हिंदी भाषा की एक प्रसिद्ध कहावत है, जिसका अक्सर तब प्रयोग होता है जब किसी की लिखावट इतनी खराब होती है कि उसे पढ़ पाना मुश्किल होता है।

अर्थ: इस कहावत का सीधा अर्थ है कि जो कुछ लिखा गया है, वह पढ़ने पर कुछ और ही निकलता है। यह कहावत उन स्थितियों को दर्शाती है जहां लिखावट इतनी खराब होती है कि पढ़ने वाला व्यक्ति सही मतलब नहीं निकाल पाता है।

उपयोग: अक्सर यह कहावत तब प्रयोग की जाती है जब किसी डॉक्टर, विद्यार्थी, या ऐसे किसी व्यक्ति की लिखावट को पढ़ना कठिन होता है, जिसकी लिखावट स्पष्ट नहीं होती है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छात्र की परीक्षा की उत्तरपुस्तिका जाँचने वाले शिक्षक को उसकी लिखावट की वजह से उत्तर समझने में कठिनाई हो रही है। ऐसे में शिक्षक कह सकते हैं, “इस छात्र की लिखावट में तो ‘लिखे ईसा पढ़े मूसा’ वाली बात है।”

समापन: “लिखे ईसा पढ़े मूसा” कहावत हमें यह बताती है कि स्पष्ट और समझने योग्य लिखावट का महत्व होता है। यदि लिखावट स्पष्ट नहीं होती, तो उसके सही अर्थ को समझ पाना कठिन हो जाता है, जिससे संवाद में भ्रांति और अस्पष्टता आ सकती है। इसलिए, यह अत्यंत आवश्यक है कि लिखने के समय हम स्पष्टता का ध्यान रखें।

Hindi Muhavare Quiz

लिखे ईसा पढ़े मूसा कहावत पर कहानी:

एक छोटे से शहर में प्रथम नाम का एक छात्र रहता था। प्रथम पढ़ाई में तो अच्छा था, लेकिन उसकी लिखावट बहुत खराब थी। उसकी लिखावट इतनी बुरी थी कि कई बार तो उसे खुद भी अपनी लिखाई समझ में नहीं आती थी।

स्कूल में परीक्षाएं आईं, और प्रथम ने उत्तरपुस्तिका में अपने उत्तर लिखने शुरू किए। वह जितना जानता था, उतना उसने लिख दिया। परीक्षा खत्म होने के बाद जब परीक्षकों ने उत्तरपुस्तिकाएँ जाँचनी शुरू की, तो उन्हें प्रथम की लिखावट समझने में बड़ी मुश्किल हुई। एक परीक्षक ने कहा, “यह तो ‘लिखे ईसा पढ़े मूसा’ की तरह है।”

प्रथम के परिणाम आए और उसे उम्मीद से कम अंक मिले। उसे समझ में आया कि उसकी लिखावट की वजह से उसे अंकों में नुकसान हुआ है। इसके बाद प्रथम ने ठान लिया कि वह अपनी लिखावट सुधारेगा। उसने रोजाना अभ्यास किया और धीरे-धीरे उसकी लिखावट सुधर गई।

अगली परीक्षा में प्रथम ने न केवल अच्छी लिखावट से लिखा, बल्कि उसके अंक भी बहुत अच्छे आए। अब उसकी लिखावट की तारीफ सभी करते थे।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि स्पष्ट और समझने योग्य लिखावट का कितना महत्व है। अच्छी लिखावट न केवल पढ़ने में आसान होती है, बल्कि यह हमारे विचारों और ज्ञान को भी सही तरीके से प्रकट करती है। “लिखे ईसा पढ़े मूसा” वाली स्थिति से बचने के लिए हमें अपनी लिखावट पर ध्यान देना चाहिए।

शायरी:

लिखा जो मैंने, वो तुम ने कुछ और ही समझा,

“लिखे ईसा पढ़े मूसा” की मिसाल बना दिया।

मेरे ख्यालों की दुनिया थी, जिसमें ख्वाब बहुत,

पर लिखावट में वो ख्वाब, कहीं खो गए रास्ते में।

जो दिल में था, वो कागज़ पे आया नहीं सही,

हर लफ्ज़ में उलझन थी, फसाना कुछ और ही कह गई।

अरमानों का कारवां था, जिसे लिखा बेहद,

पर पढ़ने वाले ने मेरे ख्वाबों का, मतलब और लगा लिया।

लिखने वाले की जो मर्ज़ी, पढ़ने वाले की जो समझ,

“लिखे ईसा पढ़े मूसा” में, बयानी का फर्क यही रहा।

कलम की स्याही में डूबा, हर एक जज़्बात था मेरा,

पर पढ़ने में वो जज़्बात, बन गए कुछ और ही किस्सा।

“लिखे ईसा पढ़े मूसा” की इस दास्तान में,

हर एक ख्वाब और ख्याल, बन गया एक अनकहा सिलसिला।

 

लिखे ईसा पढ़े मूसा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of लिखे ईसा पढ़े मूसा – Likhe eesa padhe musa Proverb:

Introduction: “Likhe eesa padhe musa” is a popular Hindi proverb often used in situations where someone’s handwriting is so poor that it becomes difficult to read.

Meaning: The direct meaning of this proverb is that what is written turns out to be something else when read. This proverb illustrates situations where handwriting is so poor that the reader cannot decipher the correct meaning.

Usage: This proverb is often used in scenarios where it’s difficult to read the handwriting of a doctor, student, or any individual whose handwriting is not clear.

Examples:

-> Suppose a teacher is checking a student’s exam answer sheet and struggles to understand the answers due to the student’s poor handwriting. In such a case, the teacher might say, “This student’s handwriting is a case of ‘Likhe eesa padhe musa.'”

Conclusion: The proverb “Likhe eesa padhe musa” highlights the importance of clear and understandable handwriting. If handwriting is not clear, it becomes difficult to comprehend the intended meaning, leading to confusion and ambiguity in communication. Therefore, it is essential to maintain clarity while writing.

Story of Likhe eesa padhe musa Proverb in English:

In a small town, there lived a student named Pratham. Pratham was good at his studies, but his handwriting was very poor. His handwriting was so bad that sometimes even he couldn’t understand what he had written.

When exams came around in school, Pratham started writing his answers in the answer sheet. He wrote everything he knew, but when the examiners started checking the answer sheets, they found it very difficult to understand his handwriting. One examiner remarked, “This is like ‘Likhe eesa padhe musa’ (what is written is not what is read).”

Pratham’s results came, and he scored less than he expected. He realized that his poor handwriting had cost him marks. Determined to improve, Pratham practiced daily and gradually improved his handwriting.

In the next exam, Pratham not only wrote in good handwriting but also scored very well. Now, everyone praised his handwriting.

Conclusion:

This story teaches us the importance of clear and understandable handwriting. Good handwriting is not only easy to read, but it also accurately represents our thoughts and knowledge. To avoid situations of “Likhe eesa padhe musa” (where what is written is not what is read), we should pay attention to our handwriting.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

सवाल: क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, इसमें कोई विरोधाभास नहीं है, बल्कि यह ज्ञान की महत्ता को बताता है।

यह कहावत हमें कौनसी सिख देती है?

यह हमें यह सिखाती है कि शिक्षा और ज्ञान सफलता की ओर एक महत्वपूर्ण कदम होते हैं।

क्या इस कहावत का कोई वैज्ञानिक सिद्धांत है?

नहीं, यह कहावत अधिकतर भाषा और साहित्य के क्षेत्र में प्रयुक्त होती है और इसका वैज्ञानिक सिद्धांत नहीं होता।

क्या इस कहावत को आधुनिक जीवन में भी लागू किया जा सकता है?

हाँ, यह कहावत आधुनिक जीवन में भी उपयोगी है, क्योंकि शिक्षा समझ, और कौशल हमें समृद्धि की दिशा में मदद कर सकते हैं।

क्या इस कहावत को अपनी जीवनशैली में अपनाना चाहिए?

हाँ, यह कहावत यह सिखाती है कि सकारात्मक गुण और शिक्षा की प्राप्ति से जीवन को बेहतर बनाया जा सकता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।