Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » खरी मजूरी चोखा काम अर्थ, प्रयोग (Khari majoori chokha kaam)

खरी मजूरी चोखा काम अर्थ, प्रयोग (Khari majoori chokha kaam)

परिचय: हिंदी भाषा अपने समृद्ध मुहावरों और लोकोक्तियों के लिए प्रसिद्ध है, जो जीवन के विभिन्न पहलुओं को सरल और प्रभावशाली तरीके से व्यक्त करते हैं। “खरी मजूरी चोखा काम” एक ऐसा ही मुहावरा है, जिसका उपयोग अक्सर जीवन और कार्यस्थल पर किया जाता है।

अर्थ: “खरी मजूरी चोखा काम” का अर्थ है कि यदि किसी को उचित और यथोचित पारिश्रमिक दिया जाता है, तो वह अपने काम में बेहतरीन प्रदर्शन करता है। इस मुहावरे का सीधा संबंध उचित मेहनताने और गुणवत्तापूर्ण कार्य के बीच के संतुलन से है।

प्रयोग: यह मुहावरा मुख्य रूप से कार्यस्थल और व्यवसायिक संदर्भों में उपयोग किया जाता है। इसका प्रयोग यह दर्शाने के लिए किया जाता है कि कर्मचारियों को उनके काम के अनुसार उचित मेहनताना मिलना चाहिए। यह न केवल काम की गुणवत्ता को बढ़ाता है बल्कि कर्मचारियों के मनोबल को भी बढ़ाता है।

उदाहरण:

-> विकास ने जब से अपने कर्मचारियों की मजदूरी बढ़ाई है, तब से उनके काम की गुणवत्ता में भी खासा सुधार देखने को मिला है। यह वाकई “खरी मजूरी चोखा काम” का प्रत्यक्ष उदाहरण है।

-> शिक्षा क्षेत्र में भी इस मुहावरे का महत्व है। जब शिक्षकों को उनके परिश्रम का उचित मेहनताना मिलता है, तो वे छात्रों की शिक्षा में और अधिक समर्पण दिखाते हैं।

निष्कर्ष: “खरी मजूरी चोखा काम” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि उचित पारिश्रमिक और प्रोत्साहन से किसी भी काम की गुणवत्ता में असाधारण वृद्धि होती है। यह न सिर्फ व्यक्तिगत बल्कि संगठनात्मक स्तर पर भी लाभकारी है। यह मुहावरा हमें याद दिलाता है कि प्रत्येक व्यक्ति की मेहनत का सम्मान करना और उसके अनुरूप पारिश्रमिक देना, सफलता की कुंजी है।

इस प्रकार, यह पोस्ट “खरी मजूरी चोखा काम” के महत्व और इसके विभिन्न पहलुओं को उजागर करती है। इसके माध्यम से हम समझ सकते हैं कि यह मुहावरा सिर्फ कहावत नहीं, बल्कि एक महत्वपूर्ण जीवन सिद्धांत है।

Hindi Muhavare Quiz

खरी मजूरी चोखा काम मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अनुज नाम का एक कुशल चित्रकार रहता था। उसकी चित्रकारी की कला इतनी अद्भुत थी कि दूर-दूर से लोग उसके चित्र देखने आते थे। लेकिन अनुज की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर थी और वह अपनी प्रतिभा के अनुरूप मेहनताना नहीं पा रहा था।

एक दिन गाँव में एक बड़े व्यापारी ने अनुज के चित्रों की प्रशंसा सुनी और उसे अपने महल की दीवारों के लिए चित्र बनाने का आदेश दिया। व्यापारी ने अनुज को बाजार दर से कहीं अधिक मजदूरी का प्रस्ताव दिया। अनुज ने इस प्रस्ताव को स्वीकार किया और अपनी पूरी निष्ठा और कला के साथ काम शुरू किया।

कुछ ही समय में, अनुज ने जो चित्र बनाए, वे अद्भुत थे। उनके चित्रों में जीवन की सच्चाई, प्रकृति की सुंदरता और भावनाओं की गहराई साफ झलक रही थी। व्यापारी और गाँव वाले उसके काम से बहुत प्रभावित हुए।

इस घटना से अनुज को एहसास हुआ कि जब उसे उसके काम का उचित मेहनताना मिला, तो उसकी कला और भी निखर कर सामने आई। वह समझ गया कि “खरी मजूरी चोखा काम” का यह मुहावरा उसके जीवन में कितना सटीक बैठता है।

इस अनुभव ने न केवल अनुज की आर्थिक स्थिति में सुधार किया बल्कि उसके कला कार्य में भी एक नई ऊर्जा और जोश भर दिया। अब वह जानता था कि उचित मजदूरी से न सिर्फ उसका मनोबल बढ़ता है बल्कि उसके काम की गुणवत्ता में भी असाधारण वृद्धि होती है।

गाँव वालों ने भी इससे सीख ली और उन्होंने अपने कार्यस्थलों पर उचित मजदूरी देने का संकल्प लिया। अनुज की कहानी ने गाँव में एक नई सोच का आगाज किया।

अनुज की कहानी हमें सिखाती है कि उचित मेहनताना और सम्मान से किसी भी व्यक्ति की प्रतिभा और कौशल में चमत्कारिक वृद्धि हो सकती है। “खरी मजूरी चोखा काम” मुहावरा न केवल एक सामान्य वाक्यांश है, बल्कि यह हमें यह भी याद दिलाता है कि प्रत्येक व्यक्ति की मेहनत और काम की गुणवत्ता का सम्मान करना चाहिए। यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि प्रत्येक व्यक्ति को उसके काम का उचित और न्यायसंगत मेहनताना मिलना चाहिए। इससे न सिर्फ व्यक्तिगत सफलता मिलती है बल्कि समग्र समाज में भी सकारात्मक परिवर्तन आता है। अनुज की कहानी हमें यह दिखाती है कि “खरी मजूरी चोखा काम” के सिद्धांत को अपनाकर हम सभी अपने जीवन में और दूसरों के जीवन में भी सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं।

इस प्रकार, अनुज की कहानी के माध्यम से “खरी मजूरी चोखा काम” मुहावरे का सुंदर और प्रेरणादायक अर्थ समझ में आता है। यह कहानी हमें यह सिखाती है कि प्रतिभा और कड़ी मेहनत का सही मूल्यांकन करने से हम न केवल व्यक्तिगत बल्कि सामाजिक स्तर पर भी उत्कृष्टता की ओर बढ़ सकते हैं।

शायरी:

काम की कीमत पे जब इंसाफ होता है,

खरी मजूरी से हर दिल खुशहाल होता है।

बस इक उचित पहचान की दरकार होती है,

हर मेहनत को अपनी क़द्र यार होती है।

मेहनत की आबरू, क़लम की ताक़त समझो,

खरी मजूरी में ही जिंदगी की शान होती है।

इंसानियत की बातें यहाँ खुलकर होती हैं,

काम के बदले जब इंसाफ की बारिश होती है।

जिस काम में हो जज्बा, उसमें रूह बसती है,

खरी मजूरी से हर कला निखर के आती है।

इस दुनिया में सच्चाई का जवाब नहीं कोई,

जब मेहनत का मोल समझ आता है।

 

खरी मजूरी चोखा काम शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of खरी मजूरी चोखा काम – Khari Majuri Chokha Kaam Idiom:

Introduction: The Hindi language is renowned for its rich idioms and proverbs, which express various aspects of life in a simple and impactful manner. “खरी मजूरी चोखा काम” (Khari Majuri Chokha Kaam) is one such idiom, often used in life and workplace contexts.

Meaning: The idiom “खरी मजूरी चोखा काम” translates to “fair wages for good work.” It implies that if someone is paid fairly and appropriately for their labor, they tend to perform exceptionally well in their work. This idiom directly relates to the balance between fair compensation and the quality of work.

Usage: This idiom is primarily used in workplace and professional contexts. It is employed to emphasize that employees should receive fair compensation commensurate with their work. This not only enhances the quality of work but also boosts the morale of the employees.

Example:

-> Since Vikas increased the wages of his employees, there has been a significant improvement in the quality of their work. This is indeed a direct example of “खरी मजूरी चोखा काम” (fair wages for good work).

-> This idiom is also significant in the field of education. When teachers receive fair compensation for their efforts, they show more dedication in educating their students.

Conclusion: The idiom “खरी मजूरी चोखा काम” teaches us that with appropriate remuneration and encouragement, the quality of any work can be greatly enhanced. It is beneficial not only at the individual level but also organizationally. This idiom reminds us that respecting each person’s labor and providing compensation accordingly is key to success.

Thus, this post highlights the importance and various aspects of the idiom “खरी मजूरी चोखा काम.” Through this, we understand that this idiom is not just a saying but a significant life principle.

Story of ‌‌Khari Majuri Chokha Kaam Idiom in English:

In a small village, there lived a skilled painter named Anuj. His artistry in painting was so marvelous that people from far and wide came to see his paintings. However, Anuj’s financial situation was quite weak, and he was not receiving compensation commensurate with his talent.

One day, a wealthy merchant in the village heard praises of Anuj’s paintings and commissioned him to create paintings for the walls of his palace. The merchant offered Anuj a wage much higher than the market rate. Anuj accepted this offer and began his work with full dedication and artistry.

In a short time, the paintings Anuj created were extraordinary. His paintings clearly reflected the truths of life, the beauty of nature, and the depth of emotions. Both the merchant and the villagers were greatly impressed by his work.

This experience made Anuj realize that when he received fair compensation for his work, his artistry shone even brighter. He understood how aptly the idiom “खरी मजूरी चोखा काम” (Fair Wage, Excellent Work) fit into his life.

This experience not only improved Anuj’s financial status but also filled his artistic work with new energy and enthusiasm. He now knew that fair wages not only boosted his morale but also significantly enhanced the quality of his work.

The villagers also learned from this and resolved to pay fair wages in their workplaces. Anuj’s story initiated a new way of thinking in the village.

Anuj’s story teaches us that fair compensation and respect can miraculously enhance a person’s talent and skills. The idiom “खरी मजूरी चोखा काम” is not just a common phrase but also reminds us that the hard work and quality of every individual should be respected. This idiom teaches us that every person should receive fair and just compensation for their work. This not only leads to personal success but also brings about positive change in society as a whole. Anuj’s story shows us that by adopting the principle of “खरी मजूरी चोखा काम,” we can bring about positive changes in our lives and the lives of others.

Thus, through Anuj’s story, the beautiful and inspiring meaning of the idiom “खरी मजूरी चोखा काम” becomes clear. This story teaches us that by rightly valuing talent and hard work, we can achieve excellence not only on a personal level but also on a societal level.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या ‘खरी मजूरी चोखा काम’ की अहमियत है?

‘खरी मजूरी चोखा काम’ करने से समाज में ईमानदारी और निष्ठा की प्रतिष्ठा बनी रहती है, जो समृद्धि और समाज के विकास में महत्वपूर्ण होती है।

क्या ‘खरी मजूरी चोखा काम’ करने से कैसे लाभ होते हैं?

खरी मजूरी चोखा काम’ करने से व्यक्ति को समाज में सम्मान प्राप्त होता है और उसकी स्थिति मजबूत होती है। इससे उसका आत्मविश्वास भी बढ़ता है।

क्या है ‘खरी मजूरी चोखा काम’ का अर्थ?

‘खरी मजूरी चोखा काम’ का अर्थ होता है किसी काम को बहुत ही ईमानदारी से और संवेदनशीलता से करना।

क्यों जरूरी है ‘खरी मजूरी चोखा काम’ करना?

खरी मजूरी चोखा काम’ करने से व्यक्ति की उपलब्धियों में सत्यता और सम्मान की भावना बनी रहती है।

कैसे किसी भी काम को ‘खरी मजूरी चोखा’ कहा जा सकता है?

किसी भी काम को ‘खरी मजूरी चोखा’ कहा जा सकता है जब उसे सच्चाई और निष्ठा से पूरा किया जाता है, बिना किसी धोखाधड़ी के।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।