Budhimaan

Home » Kahavaten » ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े, अर्थ, प्रयोग (Jyun-jyun murgi moti ho, Tyun-tyun dum sikude)

ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े, अर्थ, प्रयोग (Jyun-jyun murgi moti ho, Tyun-tyun dum sikude)

परिचय: “ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ यह है कि जैसे-जैसे आय बढ़ती है, वैसे-वैसे व्यक्ति को और अधिक मितव्ययी और सावधानीपूर्ण होना चाहिए।

अर्थ: इस कहावत का भाव यह है कि आर्थिक संपन्नता के साथ ही व्यक्ति को अपने खर्चों पर अधिक नियंत्रण रखना चाहिए और अधिक सोच-समझकर खर्च करना चाहिए।

उपयोग: यह कहावत अक्सर तब प्रयोग की जाती है जब किसी व्यक्ति को अपनी बढ़ती आय के साथ मितव्ययिता और सावधानी के महत्व को समझाना होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक व्यक्ति की आमदनी में अचानक वृद्धि हो जाती है। इस स्थिति में, वह यदि अपने खर्चों में अनावश्यक वृद्धि कर देता है, तो यह कहावत उसे सावधान करती है कि आय बढ़ने के साथ ही खर्चों पर नियंत्रण रखना चाहिए।

समापन: “ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े” कहावत हमें यह सिखाती है कि आर्थिक संपन्नता के साथ सावधानी और मितव्ययिता आवश्यक है। यह व्यक्ति को अपने वित्तीय स्थिति के प्रति जागरूक और सतर्क रहने की प्रेरणा देती है।

Hindi Muhavare Quiz

ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े कहावत पर कहानी:

एक छोटे शहर में सुरेश नामक एक युवा व्यवसायी रहता था। वह एक साधारण परिवार से आता था और उसने अपने व्यवसाय से अच्छी खासी सफलता हासिल की थी।

सुरेश का व्यवसाय दिनों-दिन फल-फूल रहा था, और उसकी आय में निरंतर वृद्धि हो रही थी। वह अपनी नई संपन्नता से उत्साहित था और उसने लक्ज़री कारें खरीदनी शुरू कर दीं, महंगे रेस्तरां में जाना शुरू किया, और अन्य महंगे शौक पाले।

एक दिन, सुरेश के एक बुजुर्ग पड़ोसी ने उसे “ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े” कहावत याद दिलाई। उन्होंने समझाया कि जैसे-जैसे उसकी आय बढ़ रही है, उसे अपने खर्चों पर अधिक नियंत्रण रखने की आवश्यकता है।

सुरेश ने समझा कि उसके बढ़ते खर्चे आने वाले समय में उसके लिए समस्या बन सकते हैं। उसने अपने खर्चों में कटौती की और अपने आय का एक हिस्सा बचत और निवेश में लगाना शुरू किया।

सुरेश की कहानी हमें सिखाती है कि आर्थिक संपन्नता के साथ सावधानी और मितव्ययिता बहुत आवश्यक हैं। यह कहावत व्यक्ति को आर्थिक रूप से जागरूक और सतर्क रहने की प्रेरणा देती है।

शायरी:

ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े,

आमदनी बढ़ती जाए, पर खर्चे भी तो बुद्धिमानी से चुने।

धन की बरसात में जब, आदमी खो बैठे अपनी समझ,

याद रखे वो इस कहावत को, जैसे शाम को याद आए रोशनी की आगोश।

दौलत बढ़े तो खुशी, पर खर्चों का ना हो ज्यादा शोर,

संभलकर चले जीवन में, जैसे राही चले संभलकर दूर।

धन की यह गाड़ी जब, चले बेलगाम राहों पर,

सोचे इंसान, क्या सच में यही है जिंदगी का सार?

अमीरी की इस दौड़ में, ना खो दें अपना वजूद,

धन के पीछे भागते, ना भूलें जीवन के असली सुख।

 

ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े – Jyun-jyun murgi moti ho, Tyun-tyun dum sikude Proverb:

Introduction: “Jyun-jyun murgi moti ho, Tyun-tyun dum sikude” is a popular Hindi proverb, meaning that as income increases, one should become more frugal and cautious.

Meaning: The essence of this proverb is that with financial prosperity, a person should exercise greater control over their expenses and spend more thoughtfully.

Usage: This proverb is often used to remind someone of the importance of frugality and caution as their income increases.

Examples:

-> Suppose a person suddenly experiences an increase in income. If they unnecessarily increase their expenses, this proverb serves as a caution that one should control their spending as their income grows.

Conclusion: The proverb “ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े” teaches us that caution and frugality are essential with financial prosperity. It inspires individuals to be mindful and vigilant about their financial situation.

Story of Jyun-jyun murgi moti ho, Tyun-tyun dum sikude Proverb in English:

In a small town, there lived a young entrepreneur named Suresh. He came from a modest family and had achieved considerable success in his business.

Suresh’s business was flourishing day by day, and his income was continuously increasing. Excited by his newfound wealth, he started buying luxury cars, dining at expensive restaurants, and indulging in other costly hobbies.

One day, an elderly neighbor reminded Suresh of the proverb, “ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े.” He explained that as Suresh’s income was growing, he needed to exercise more control over his expenses.

Suresh realized that his increasing expenses could become a problem in the future. He cut down on his expenditures and began allocating a portion of his income to savings and investments.

Suresh’s story teaches us that caution and frugality are essential with financial prosperity. This proverb inspires individuals to be financially aware and vigilant.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत से हमें क्या सीख मिलती है?

इस कहावत से हमें सीख मिलती है कि सफलता और समृद्धि के साथ अक्सर अधिक जिम्मेदारियां और चुनौतियां आती हैं।

इस कहावत का व्यक्तिगत जीवन में क्या महत्व है?

व्यक्तिगत जीवन में, यह कहावत इस बात का अनुस्मारक है कि सफलता के साथ अधिक जवाबदेही और दबाव आ सकते हैं।

क्या यह कहावत व्यावसायिक जीवन में भी लागू होती है?

हां, व्यावसायिक जीवन में भी यह कहावत लागू होती है, यह दर्शाती है कि व्यवसाय की वृद्धि के साथ चुनौतियाँ और जिम्मेदारियाँ भी बढ़ती हैं।

इस कहावत का आध्यात्मिक या धार्मिक संदर्भ में क्या अर्थ है?

आध्यात्मिक या धार्मिक संदर्भ में, इस कहावत का अर्थ यह हो सकता है कि भौतिक समृद्धि के साथ अक्सर आध्यात्मिक चुनौतियाँ और जिम्मेदारियाँ भी बढ़ती हैं।

क्या यह कहावत युवा पीढ़ी को कुछ सिखा सकती है?

हां, युवा पीढ़ी को इस कहावत से सिखने को मिलता है कि सफलता और समृद्धि के साथ अतिरिक्त जिम्मेदारियां और चुनौतियां भी आती हैं।

“ज्यों-ज्यों मुर्गी मोटी हो, त्यों-त्यों दुम सिकुड़े” कहावत का समाज में क्या प्रभाव है?

समाज में, यह कहावत इस बात का प्रतीक है कि समृद्धि और प्रगति के साथ अक्सर समाजिक दायित्व और चुनौतियाँ भी बढ़ती हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।