Budhimaan

Home » Kahavaten » जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता, अर्थ, प्रयोग(Joru na janta, Allah miyan se nata)

जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता, अर्थ, प्रयोग(Joru na janta, Allah miyan se nata)

परिचय: “जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जिसका आशय है कि जिस व्यक्ति का कोई नहीं होता, उसका सहारा भगवान होते हैं। यह कहावत उन लोगों की स्थिति का वर्णन करती है जो इस दुनिया में अकेले होते हैं।

अर्थ: कहावत का मतलब है कि जब कोई व्यक्ति पूरी तरह अकेला होता है और उसके पास कोई पारिवारिक या सामाजिक सहारा नहीं होता, तो वह ईश्वर में आस्था और विश्वास रखता है।

उपयोग: यह कहावत आमतौर पर उन परिस्थितियों में प्रयोग की जाती है जहां कोई व्यक्ति सामाजिक या पारिवारिक संबंधों से वंचित होता है और उसका एकमात्र सहारा ईश्वर होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक व्यक्ति जिसका कोई परिवार नहीं है और वह समाज से भी अलग-थलग है, वह अपनी मुश्किलों में ईश्वर से प्रार्थना करता है और उनमें ही अपना सहारा ढूंढता है।

समापन: “जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता” कहावत हमें यह सिखाती है कि जब इंसान अकेला होता है, तो उसका सहारा ईश्वर होते हैं। यह कहावत उन लोगों की मजबूती और आस्था को दर्शाती है जो जीवन की कठिनाइयों में भी ईश्वर पर विश्वास रखते हैं।

Hindi Muhavare Quiz

जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता कहावत पर कहानी:

एक छोटे गाँव में विशाल नाम का एक युवक रहता था। अनाथ होने के कारण, उसका कोई सहारा नहीं था, और वह अकेले ही जीवन यापन कर रहा था।

विशाल एक छोटी सी झोपड़ी में रहता था और गाँव में मजदूरी करता था। उसके जीवन में ना कोई दोस्त था और ना ही परिवार। लोग उसे अक्सर अकेला पाते थे।

एक दिन, विशाल को काम पर चोट लग गई। बिना किसी की मदद के, वह अपनी चोट का इलाज करने में असमर्थ था। इस दौरान, वह अपनी झोपड़ी में अकेला पड़ा रहा और भगवान से प्रार्थना करता रहा।

विशाल की प्रार्थना सुनी गई, और एक दिन एक समाजसेवी संगठन ने उसकी मदद की। उन्होंने उसके इलाज का प्रबंध किया और उसे आर्थिक सहायता प्रदान की।

विशाल की कहानी हमें “जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता” कहावत का सच्चा अर्थ सिखाती है। जब इंसान अकेला होता है और उसके पास कोई नहीं होता, तब उसका सहारा भगवान होते हैं। विशाल की आस्था और विश्वास ने उसे उसके कठिन समय में सहारा दिया।

शायरी:

जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता,

दुनिया में अकेला, पर ऊपर वाला साथ निभाता।

अकेले पथ पर जब कदम बढ़ाते हैं,

खुदा के साये में हर राह आसान हो जाते हैं।

अंधेरों में जब सब साथी छोड़ जाते हैं,

अल्लाह मियां के नूर से राहें रोशन हो जाते हैं।

दुनिया की भीड़ में जब तन्हा होते हैं,

ईश्वर की बातों में ही सुकून पाते हैं।

जब ज़िन्दगी के सफर में साथी नहीं होते,

तब खुदा के आँगन में फूल खिलते हैं रोज़।

 

जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता – Joru na janta, Allah miyan se nata Proverb:

Introduction: “Joru na janta, Allah miyan se nata” is a prevalent Hindi proverb, which means that for a person who has no one, God becomes their support. This proverb describes the situation of those who are alone in this world.

Meaning: The proverb implies that when a person is completely alone and lacks any familial or social support, they place their faith and trust in God.

Usage: This proverb is typically used in situations where an individual is deprived of social or familial connections and their only support is God.

Examples:

-> Imagine a person who has no family and is isolated from society. In their difficulties, they pray to God and find solace in Him.

Conclusion: The proverb “जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता” teaches us that when a person is alone, God becomes their support. It illustrates the strength and faith of those who, even in life’s hardships, trust in God.

Story of Joru na janta, Allah miyan se nata Proverb in English:

In a small village lived a young man named Vishal. Being an orphan, he had no support and was living his life alone.

Vishal resided in a small hut and worked as a laborer in the village. He had neither friends nor family in his life, and people often found him alone.

One day, Vishal got injured at work. Without anyone’s help, he was unable to treat his injury. During this time, he lay alone in his hut, praying to God.

Vishal’s prayers were heard, and one day a social service organization came to his aid. They arranged for his treatment and provided him with financial assistance.

Vishal’s story teaches us the true meaning of the proverb “जोरू न जांता, अल्लाह मियां से नाता.” When a person is alone and has no one, God becomes their support. Vishal’s faith and belief provided him with support during his difficult times.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का आज के समय में क्या महत्व है?

आधुनिक समय में यह कहावत यह बताती है कि व्यक्तिगत संबंधों में ईमानदारी और समझदारी महत्वपूर्ण है, और आध्यात्मिक दावे इसका विकल्प नहीं हो सकते।

क्या इस कहावत का विवाहित जीवन पर कोई विशेष संदेश है?

हाँ, विवाहित जीवन में इस कहावत का संदेश यह है कि पारस्परिक समझ और संचार आध्यात्मिक या अन्य बाहरी दावों से अधिक महत्वपूर्ण है।

इस कहावत को लिंग भूमिकाओं के संदर्भ में कैसे देखा जा सकता है?

लिंग भूमिकाओं के संदर्भ में यह कहावत यह दर्शाती है कि विवाहित संबंधों में लिंग-आधारित अपेक्षाओं से अधिक महत्वपूर्ण आपसी समझ और सहयोग है।

क्या इस कहावत का व्यक्तिगत विकास और स्व-जागरूकता पर कोई प्रभाव है?

हाँ, इस कहावत का व्यक्तिगत विकास और स्व-जागरूकता पर प्रभाव यह है कि यह व्यक्तिगत संबंधों में गहराई और ईमानदारी के महत्व को उजागर करती है।

क्या इस कहावत का आध्यात्मिक और धार्मिक धारणाओं पर कोई टिप्पणी की जा सकती है?

हाँ, इस कहावत के माध्यम से आध्यात्मिक और धार्मिक धारणाओं पर टिप्पणी की जा सकती है, यह बताती है कि धार्मिकता और आध्यात्मिकता का अर्थ केवल बाहरी दिखावा नहीं बल्कि व्यक्तिगत संबंधों में गहराई और सच्चाई है।

इस कहावत का सामाजिक और वैवाहिक संबंधों की सच्चाई पर क्या प्रभाव है?

इस कहावत का सामाजिक और वैवाहिक संबंधों की सच्चाई पर प्रभाव यह है कि यह वैवाहिक जीवन में आपसी समझ और गहराई की महत्ता को रेखांकित करती है, और यह सुझाव देती है कि सतही या दिखावटी आध्यात्मिकता की तुलना में अंतरंग संबंधों में गहराई और वास्तविकता अधिक महत्वपूर्ण है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।