Budhimaan

Home » Kahavaten » जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे, अर्थ, प्रयोग (Jiski billi usi se myaun kare)

जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे, अर्थ, प्रयोग (Jiski billi usi se myaun kare)

परिचय: “जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे” यह हिंदी कहावत उस स्थिति का वर्णन करती है जब कोई व्यक्ति या वस्तु उसी के खिलाफ जा कर विद्रोह करती है जिसने उसे पाला-पोसा या संवारा है। यह कहावत उन परिस्थितियों को दर्शाती है जहां व्यक्ति या चीज़ अपने स्वामी या संरक्षक के प्रति अकृतज्ञता या विरोध का भाव दिखाते हैं।

अर्थ: कहावत का सीधा अर्थ है कि जिसने बिल्ली को पाला होता है, अक्सर वही उसके विद्रोह का शिकार बनता है। यह अकृतज्ञता और विश्वासघात की भावना को दर्शाता है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति या चीज़ उसी के खिलाफ विद्रोह करती है जिसने उसे सहारा दिया या सहयोग किया हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक कंपनी के मालिक ने एक युवा कर्मचारी को प्रशिक्षण दिया और उसे उन्नति के अवसर प्रदान किए। लेकिन, बाद में वही कर्मचारी कंपनी के खिलाफ जा कर उसके प्रतियोगी के साथ मिल जाता है।

समापन: “जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे” कहावत हमें यह सिखाती है कि जीवन में अक्सर विडम्बनाएँ होती हैं, जहां सहायता और सहयोग की अपेक्षा विश्वासघात मिलता है। यह हमें यह भी बताती है कि हमें अपने संबंधों और विश्वासों को सावधानीपूर्वक चुनना और निभाना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे कहावत पर कहानी:

एक शहर में अखिल नाम का एक व्यापारी रहता था। अखिल बहुत ही उदार और सहृदय व्यक्ति थे। उन्होंने एक दिन गरीबी में जी रहे एक युवक अमन को अपने व्यापार में सहायक के तौर पर नौकरी दी। अमन शुरू में तो बहुत ही मेहनती और ईमानदार था। अखिल ने उसे व्यापार की बारीकियां सिखाईं और उसके काम की सराहना की।

समय के साथ, अमन ने व्यापार में अच्छा अनुभव प्राप्त कर लिया और वह अखिल का विश्वासपात्र बन गया। लेकिन जैसे ही अमन को लगा कि अब वह खुद एक सफल व्यापारी बन सकता है, उसने अखिल के खिलाफ विद्रोह कर दिया। उसने अखिल के ग्राहकों और व्यापारिक रहस्यों को अपने लाभ के लिए इस्तेमाल किया और अपना अलग व्यापार शुरू कर दिया।

अखिल को जब इस बात का पता चला, तो वह बहुत आहत हुए। उन्होंने अमन पर भरोसा किया था और उसे अपना समझकर सब कुछ सिखाया था। अखिल ने तब अपने दोस्तों से कहा, “यही है जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करने का मामला। मैंने अमन को पाला-पोसा और उसी ने मेरे खिलाफ जा कर मेरी मेहनत पर पानी फेर दिया।”

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि कभी-कभी हम जिन पर भरोसा करते हैं, वही हमारे खिलाफ जा सकते हैं। यह कहावत हमें यह भी बताती है कि हमें अपने विश्वास और सहयोग को सोच-समझकर देना चाहिए।

शायरी:

जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ, यह कैसी बात हुई,

जिनके पाले पोसे हम, उनसे ही विद्रोह की रात हुई।

विश्वास का कर्ज़ था, पर धोखे की बारिश में भीग गए,

जिन्हें अपना समझा, वही तो पराये निकल आए।

बिल्ली की म्याऊँ सुनकर, दिल यह सोच कर घबराया,

जिन्हें अपना बनाया, उन्होंने ही दिल दुखाया।

अपने ही खिलाफ उठा जो हाथ, वह किस्सा पुराना है,

जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ, यह जीवन का अफसाना है।

विश्वास के खंडहर में, यही तो खेल निभाया जाता है,

जिन्हें सींचा हमने प्यार से, उन्होंने ही घाव दिया।

 

जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जिसकी बिल्ली उसी से म्याऊँ करे – Jiski billi usi se myaun kare Proverb:

Introduction: The Hindi proverb “Jiski billi usi se myaun kare” describes a situation where a person or thing rebels against the very individual who nurtured or groomed them. This proverb highlights scenarios where an individual or entity shows ingratitude or opposition towards their master or protector.

Meaning: The direct meaning of the proverb is that the one who has raised the cat often becomes the victim of its rebellion. It represents feelings of ingratitude and betrayal.

Usage: This proverb is used when a person or thing rebels against the one who has supported or assisted them.

Examples:

-> Consider a company owner who trained a young employee and provided them with opportunities for advancement. Later, the same employee joins forces with the company’s competitor, going against the company.

Conclusion: The proverb “Jiski billi usi se myaun kare” teaches us that life often presents ironies where betrayal follows assistance and cooperation. It also tells us that we should carefully choose and maintain our relationships and trusts.

Story of Jiski billi usi se myaun kare Proverb in English:

In a city, there was a merchant named Akhil. Akhil was a very generous and kind-hearted person. One day, he gave a job to a young man named Aman, who was living in poverty, as an assistant in his business. Initially, Aman was very hardworking and honest. Akhil taught him the intricacies of the business and appreciated his work.

Over time, Aman gained good experience in the business and became a trusted associate of Akhil. However, as soon as Aman felt that he could become a successful businessman on his own, he rebelled against Akhil. He used Akhil’s customers and business secrets for his own benefit and started his own separate business.

When Akhil found out about this, he was deeply hurt. He had trusted Aman and had taught him everything, considering him as his own. Akhil then said to his friends, “This is a case of ‘the cat meowing at its own owner.’ I nurtured Aman, and he turned against me, undermining all my efforts.”

This story teaches us that sometimes those we trust can turn against us. The proverb also tells us that we should be careful in whom we place our trust and support.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का समाज पर क्या प्रभाव पड़ता है?

समाज में इस कहावत का प्रभाव यह है कि यह लोगों को विश्वासघात और अविश्वास के प्रति सचेत करती है।

इस कहावत का शिक्षा के क्षेत्र में क्या प्रभाव है?

शिक्षा के क्षेत्र में, यह कहावत यह बताती है कि छात्रों को सही और गलत के बीच भेद करना सिखाया जाना चाहिए।

इस कहावत का नैतिक संदेश क्या है?

इस कहावत का नैतिक संदेश यह है कि हमें उन लोगों के प्रति सचेत रहना चाहिए जो हमारे प्रति वफादारी दिखाते हैं लेकिन वास्तव में हमारे खिलाफ हो सकते हैं।

इस कहावत का व्यावसायिक जीवन में क्या महत्व है?

व्यावसायिक जीवन में, यह कहावत बताती है कि कैसे कर्मचारी या सहयोगी कभी-कभी अपने ही संस्थान या बॉस के खिलाफ काम कर सकते हैं।

इस कहावत का राजनीतिक दृष्टिकोण से क्या महत्व है?

राजनीतिक दृष्टिकोण से, यह कहावत यह दर्शाती है कि राजनीति में अक्सर लोग अपने ही सहयोगियों या पार्टी के खिलाफ काम करते हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।