Budhimaan

Home » Kahavaten » जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ, अर्थ, प्रयोग (Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith)

जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ, अर्थ, प्रयोग (Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith)

परिचय: “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” यह हिंदी की एक प्रसिद्ध कहावत है, जो दृढ़ संकल्प और कठिन परिश्रम के महत्व को दर्शाती है। इसका अर्थ है कि जो लोग गहराई से और पूरी लगन से खोज करते हैं, वे अंततः अपनी मंजिल तक पहुँचते हैं।

अर्थ: कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि जो लोग गहरे पानी में उतरते हैं, उन्हें ही मोती मिलता है। यहाँ ‘गहरे पानी’ का अर्थ है कठिन परिश्रम और गहन खोज।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब होता है जब किसी को यह समझाना होता है कि कठिन परिश्रम और लगन से ही सफलता प्राप्त होती है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छात्र ने बहुत मेहनत करके किसी प्रतिष्ठित परीक्षा में उच्च स्थान प्राप्त किया। इस स्थिति में, यह कहा जा सकता है, “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ”, अर्थात उसकी मेहनत और लगन सफल रही।

समापन: इस प्रकार, “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” कहावत हमें सिखाती है कि कठिन परिश्रम और गहन खोज हमेशा सफलता की ओर ले जाते हैं। यह हमें यह भी बताती है कि सफलता प्राप्त करने के लिए गहराई से प्रयास करना आवश्यक है। यह कहावत प्रेरणा और संकल्प की महत्वता को दर्शाती है।

Hindi Muhavare Quiz

जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अमन नाम का एक युवक रहता था। अमन को विज्ञान में गहरी रुचि थी और वह हमेशा नए आविष्कार की खोज में रहता था। उसके गाँव वाले उसकी इस खोज को समझ नहीं पाते थे और उसे अक्सर निराश करते थे। लेकिन अमन ने हार नहीं मानी और अपनी खोज जारी रखी।

एक दिन, अमन ने एक ऐसी मशीन बनाई जो किसानों की फसल काटने में मदद कर सकती थी। उसने अपनी मशीन का प्रदर्शन किया और सभी गाँव वाले हैरान रह गए। उन्होंने अमन की प्रतिभा को पहचाना और उसकी सराहना की।

इस घटना ने अमन को और भी प्रेरित किया। उसने सोचा, “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” – यानी उसने जो कठिन परिश्रम और गहरी खोज की, उसका फल उसे मिला।

अमन की कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि कठिन परिश्रम और गहन खोज सदैव सफलता की ओर ले जाती है। “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” कहावत हमें यह भी बताती है कि सफलता प्राप्त करने के लिए गहराई से प्रयास करना आवश्यक है। यह कहावत प्रेरणा और संकल्प की महत्वता को दर्शाती है।

शायरी:

मेहनत की गहराइयों में, छिपा होता है खजाना,
“जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” का यही फसाना।
जो ढूंढ़ता है सच्चे दिल से, वो राह पाता है,
हर बाधा पार कर जाता है, जब विश्वास उसका साथ निभाता है।

गहरे सागर में डूबकर, मोती जो खोजता है,
उसी के हाथ लगता है, सपनों का सोना।
“जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ”, यही है जीवन का गीत,
हर संघर्ष में छिपा होता है, जीत का मीत।

जो खोजे वो पाए, यही है जग का नियम,
गहरे पानी में जाकर ही, मिलता है जीवन का ज्ञान।
“गहरे पानी पैठ” में छिपी है, सफलता की राह,
जो सीखे, वो जाने, हर मुश्किल का हल।

हर कठिनाई में छिपा होता है, अवसर का द्वार,
“जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ”, यही है जीवन का सार।
मेहनत और लगन से ही, बनती है बिगड़ी बात,
गहरे पानी की यात्रा में, मिलती है सफलता की सौगात।

 

जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ – Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith Proverb:

Introduction: “Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith” is a famous Hindi proverb that highlights the importance of determination and hard work. It means that those who search deeply and with full dedication eventually reach their destination.

Meaning: The literal meaning of the proverb is that only those who dive into deep waters find pearls. Here, ‘deep waters’ symbolize hard work and in-depth exploration.

Usage: This proverb is used when explaining that success is achieved only through hard work and dedication.

Examples:

-> Suppose a student works hard and secures a high rank in a prestigious examination. In this situation, it can be said, “Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith”, meaning their hard work and dedication were successful.

Conclusion: Thus, the proverb “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” teaches us that hard work and deep exploration always lead to success. It also tells us that in-depth effort is essential to achieve success. This proverb illustrates the importance of inspiration and determination.

Story of Jin dhoondha paaiyan gahre pani paith Proverb in English:

In a small village, there lived a young man named Aman. Aman had a deep interest in science and was always in search of new inventions. The villagers did not understand his quest and often discouraged him. But Aman did not give up and continued his search.

One day, Aman invented a machine that could help farmers in harvesting their crops. He demonstrated his machine, and all the villagers were astonished. They recognized Aman’s talent and appreciated him.

This event motivated Aman even more. He thought, “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” – meaning that the hard work and deep exploration he had done paid off.

Aman’s story teaches us that hard work and deep exploration always lead to success. The proverb “जिन ढूंढ़ा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” also tells us that in-depth effort is necessary to achieve success. This proverb illustrates the importance of inspiration and determination.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का समाज पर क्या प्रभाव पड़ता है?

समाज में इस कहावत का प्रभाव यह है कि यह लोगों को प्रयत्नशीलता और गहन अनुसंधान का महत्व सिखाती है।

इस कहावत का व्यक्तिगत जीवन में क्या महत्व है?

व्यक्तिगत जीवन में, यह कहावत हमें सिखाती है कि सफलता और ज्ञान के लिए गहराई से खोज और मेहनत करनी चाहिए।

इस कहावत का शिक्षा के क्षेत्र में क्या प्रभाव है?

शिक्षा के क्षेत्र में, यह कहावत यह बताती है कि गहरी समझ और ज्ञान के लिए गहन अध्ययन और खोज जरूरी है।

इस कहावत का आधुनिक समय में क्या उपयोग है?

आधुनिक समय में, यह कहावत उद्यमिता, शोध, और नवाचार के क्षेत्र में गहन प्रयासों की महत्वपूर्णता को दर्शाती है।

इस कहावत का नैतिक संदेश क्या है?

इस कहावत का नैतिक संदेश यह है कि वास्तविक सफलता और ज्ञान प्रयास और गहन खोज के बाद ही प्राप्त होते हैं।

इस कहावत का व्यावसायिक जीवन में क्या महत्व है?

व्यावसायिक जीवन में, यह कहावत यह बताती है कि गहराई से अध्ययन और प्रयास से ही व्यावसायिक सफलता मिलती है।

इस कहावत का राजनीतिक दृष्टिकोण से क्या महत्व है?

राजनीतिक दृष्टिकोण से, यह कहावत यह दर्शाती है कि राजनीतिक सफलता और नीति निर्माण में गहराई से समझ और शोध की जरूरत होती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।