Budhimaan

Home » Kahavaten » झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी, अर्थ, प्रयोग (Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani)

झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी, अर्थ, प्रयोग (Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani)

परिचय: “झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जो जल्दबाजी में किए गए काम की गुणवत्ता पर प्रकाश डालती है। यह कहावत उन कार्यों की ओर इशारा करती है जो बिना सोचे-समझे और जल्दबाजी में किए गए होते हैं।

अर्थ: इस कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि जब किसी काम को बहुत तेजी और जल्दबाजी में किया जाता है, तो उसका परिणाम अधूरा और असंतोषजनक होता है। यहाँ ‘आधा तेल आधा पानी’ से तात्पर्य है कि काम न तो पूरी तरह से सही होता है और न ही पूरी तरह से गलत, बल्कि अधूरा और असंगत होता है।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग में आती है जब हमें यह समझाना होता है कि किसी काम को बिना पर्याप्त समय और ध्यान दिए करने से उसका परिणाम संतोषजनक नहीं होता।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छात्र ने परीक्षा की तैयारी जल्दबाजी में की और परीक्षा में उसे औसत अंक मिले। यहाँ कहा जा सकता है कि छात्र की तैयारी ‘झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी’ थी।

समापन: “झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी” कहावत हमें सिखाती है कि किसी भी कार्य को करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। यह हमें प्रेरित करती है कि हमें अपने कार्यों में पर्याप्त समय और सोच-विचार लगाना चाहिए ताकि परिणाम संतोषजनक हों। इससे हम समझते हैं कि त्वरित और अविचारित कार्यों से बचना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अनुज नामक एक युवक रहता था। अनुज को हमेशा चीजें जल्दी-जल्दी करने की आदत थी। वह हर काम में तेजी दिखाने की कोशिश करता, चाहे वह पढ़ाई हो या खेती।

एक बार अनुज ने सोचा कि वह अपने खेत में सब्जियाँ उगाएगा और बाजार में अच्छी कीमत पर बेचेगा। उसने जल्दबाजी में बीज खरीदे और बिना मौसम की सही जानकारी लिए उन्हें बो दिया। उसने खेती की उचित देखभाल नहीं की और न ही पर्याप्त पानी दिया।

कुछ हफ्तों बाद, जब सब्जियाँ उगनी शुरू हुईं, तो अनुज ने देखा कि फसल अच्छी नहीं हुई है। सब्जियाँ अधूरी और बीमार लग रही थीं। उसने समझा कि उसकी जल्दबाजी ने उसे धोखा दिया है।

गाँव के एक बुजुर्ग ने उसे समझाया, “अनुज, तुम्हारी यह स्थिति ‘झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी’ जैसी है। तुमने जल्दी में काम किया और इसका परिणाम अधूरा और असंतोषजनक है।”

अनुज ने इस बात से सबक लिया और फिर से अपनी खेती में ध्यान और समय देने लगा। उसने सीखा कि जल्दबाजी में किए गए कार्य अक्सर अपूर्ण और अनुत्तीर्ण होते हैं।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि किसी भी काम को करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए और पर्याप्त समय और विचार लगाना चाहिए ताकि परिणाम संतोषजनक हो।

शायरी:

जल्दी में जो काम किया, उसका क्या है फायदा,

आधा तेल आधा पानी, बना जीवन का साया।

धैर्य की चादर ओढ़कर, कर गहरा विचार,

जिंदगी की राह में, मिलेगा सच्चा प्यार।

‘झटपट की धानी’ में, सपने न बने आकार,

धीरज धर, सोच-समझकर, चुन ले अपना द्वार।

हर कदम पे जल्दबाजी, ले आए नई मुसीबत,

चल संभल के इस जहां में, बन जाए न तू रीबत।

आधा-अधूरा काम न कर, पूरी ताकत लगा दे,

जिंदगी के हर पहेली को, धीरे-धीरे सुलझा दे।

राहत से गूंजती आवाज़, लाती है ये सिखावट,

जीवन में धैर्य रख, ‘झटपट’ से बचने की है चाहत।

 

झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी – Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani Proverb:

Introduction: “Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani” is a common Hindi proverb that highlights the quality of work done in haste. It points to actions that are executed without proper thought and in a rush.

Meaning: The literal meaning of this proverb is that when a task is done very quickly and hastily, the outcome is incomplete and unsatisfactory. “आधा तेल आधा पानी” implies that the work is neither completely right nor completely wrong, but rather incomplete and inconsistent.

Usage: This proverb is used when it’s necessary to explain that a task done without adequate time and attention does not yield satisfactory results.

Examples:

-> For instance, suppose a student prepares for an exam in a rush and ends up with average marks. Here, it can be said that the student’s preparation was “झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी.”

Conclusion: The proverb “Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani” teaches us not to rush while performing any task. It motivates us to invest adequate time and thought into our actions to ensure satisfactory outcomes. It makes us understand the importance of avoiding quick and thoughtless actions.

Story of Jhatpat ki dhani, Adha tel adha pani Proverb in English:

In a small village lived a young man named Anuj. Anuj always had the habit of doing things quickly, whether it was studying or farming.

Once, Anuj decided to grow vegetables in his field and sell them at a good price in the market. He bought seeds in a hurry and sowed them without proper knowledge of the season. He didn’t take proper care of the crops and didn’t water them sufficiently.

After a few weeks, when the vegetables started growing, Anuj noticed that the crop was not good. The vegetables were underdeveloped and looked diseased. He realized that his haste had betrayed him.

An elder from the village explained to him, “Anuj, your situation is like ‘झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी’. You did the work in a hurry, and the result is incomplete and unsatisfying.”

Anuj learned from this and started investing time and attention in his farming again. He learned that tasks done in haste often turn out to be incomplete and unsatisfactory.

This story teaches us not to rush while doing any work and to invest sufficient time and thought to ensure satisfactory results.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

“झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी” कहावत से हमें क्या सीखने को मिलता है?

इस कहावत से हमें यह सीखने को मिलता है कि कार्यों को जल्दबाजी में नहीं करना चाहिए और ध्यानपूर्वक योजना बनाकर करना चाहिए।

इस कहावत का व्यक्तिगत जीवन में क्या महत्व है?

व्यक्तिगत जीवन में, यह कहावत हमें यह सिखाती है कि हमें जल्दबाजी में निर्णय नहीं लेने चाहिए और किसी भी कार्य को करने से पहले ठीक से सोच-विचार कर लेना चाहिए।

क्या यह कहावत केवल नकारात्मक संदर्भ में ही इस्तेमाल की जाती है?

हां, आमतौर पर यह कहावत नकारात्मक संदर्भ में ही इस्तेमाल की जाती है ताकि जल्दबाजी में किए गए कामों के अपूर्ण परिणामों की ओर इशारा किया जा सके।

क्या यह कहावत नेतृत्व और प्रबंधन के संदर्भ में भी महत्वपूर्ण है?

हाँ, नेतृत्व और प्रबंधन में यह कहावत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे यह संदेश मिलता है कि नेताओं और प्रबंधकों को भी जल्दबाजी से बचना चाहिए और सोच-समझकर निर्णय लेने चाहिए।

“झटपट की धानी, आधा तेल आधा पानी” कहावत का व्यक्तिगत विकास में क्या योगदान है?

व्यक्तिगत विकास में इस कहावत का योगदान यह है कि यह हमें जल्दबाजी में निर्णय न लेने और अपने विचारों और कार्यों को सोच-समझकर अंजाम देने की महत्वपूर्णता की ओर इशारा करती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।