Budhimaan

Home » Kahavaten » झट मँगनी पट ब्याह, अर्थ, प्रयोग (Jhat mangni pat byah)

झट मँगनी पट ब्याह, अर्थ, प्रयोग (Jhat mangni pat byah)

परिचय: हिंदी कहावत “झट मँगनी पट ब्याह” का प्रयोग अक्सर उन परिस्थितियों में किया जाता है, जहां कोई काम या निर्णय बहुत तेजी से और अचानक होता है। इस कहावत का अक्सर उपयोग विवाह जैसे महत्वपूर्ण फैसलों में तेजी से लिए गए निर्णयों के संदर्भ में होता है।

अर्थ: इस कहावत का शाब्दिक अर्थ है – जल्दी सगाई होना और फिर तुरंत विवाह हो जाना। यह व्यक्त करता है कि कैसे कभी-कभी जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय बिना बहुत अधिक विचार-विमर्श के जल्दी में लिए जाते हैं।

उपयोग: यह कहावत उन स्थितियों में प्रयोग की जाती है, जब कोई तेजी से और बिना पर्याप्त समय लिए किसी महत्वपूर्ण काम में निर्णय लेता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक युवक और युवती ने मात्र कुछ ही मुलाकातों के बाद विवाह का निर्णय ले लिया और बिना ज्यादा समय बर्बाद किए शादी कर ली। इस प्रकार के निर्णय के लिए लोग कहेंगे, “झट मँगनी पट ब्याह हो गया।”

समापन: “झट मँगनी पट ब्याह” कहावत हमें यह सिखाती है कि कभी-कभी जीवन में तेजी से निर्णय लेना और उन्हें अंजाम देना आवश्यक होता है। यह उन स्थितियों का प्रतीक है जहां त्वरित कार्यान्वयन और निर्णय लेने की क्षमता महत्वपूर्ण होती है, खासकर व्यक्तिगत जीवन के निर्णयों में।

Hindi Muhavare Quiz

झट मँगनी पट ब्याह कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में, विशाल और पारुल नामक दो युवा रहते थे। उनकी मुलाकात एक सामाजिक समारोह में हुई, और वे एक-दूसरे को पसंद करने लगे।

विशाल और पारुल की प्रेम कहानी गाँव में तेज़ी से फैल गई। दोनों परिवारों ने उनके रिश्ते को देखते हुए जल्दी ही विवाह का फैसला किया। इस तरह “झट मँगनी पट ब्याह” कहावत चरितार्थ हुई।

विशाल और पारुल की सगाई के कुछ ही दिनों बाद विवाह की तारीख तय कर दी गई। गाँव में खुशियों का माहौल था, और सभी ने इस त्वरित निर्णय का समर्थन किया।

विवाह का दिन आया, और गाँव ने इस जल्दी तय हुए विवाह का जश्न मनाया। सब कुछ इतनी जल्दी हुआ कि लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि विशाल और पारुल की प्रेम कहानी इतनी जल्दी परवान चढ़ गई।

विशाल और पारुल की कहानी से यह सीख मिलती है कि कभी-कभी जीवन में तेज़ी से निर्णय लेना और उन्हें अंजाम देना अच्छा होता है। “झट मँगनी पट ब्याह” कहावत का इस्तेमाल उन परिस्थितियों में होता है जहाँ चीजें तेजी से और सकारात्मक रूप से आगे बढ़ती हैं, विशेषकर व्यक्तिगत संबंधों में।

शायरी:

इश्क में ‘झट मँगनी पट ब्याह’, ये दास्तां है कुछ अजब,

दिलों का मिलना जल्दी में, पर कहानी बनी लाजवाब।

दो दिलों की बात जब चली, तो फैसला हुआ एक शाम,

‘झट मँगनी पट ब्याह’ में, छिपा हुआ एक गुलाब।

जिंदगी की राहों में, जब प्यार होता है रवां,

दो दिलों की चाहत में, ‘झट मँगनी पट ब्याह’ का गान।

नहीं लगता इंतज़ार में, जब दिल हो जाते हैं एक,

‘झट मँगनी पट ब्याह’ की राहत में, बहता है प्यार का नेक।

इश्क की इस दुनिया में, जहाँ दिल हैं बेखुद,

‘झट मँगनी पट ब्याह’ की बातें, बन जाती हैं जिंदगी की रुद।

 

झट मँगनी पट ब्याह शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of झट मँगनी पट ब्याह – Jhat mangni pat byah Proverb:

Introduction: The Hindi proverb “Jhat mangni pat byah” is often used in situations where a task or decision is made very quickly and suddenly. This proverb is commonly used to describe decisions made swiftly in important matters like marriage.

Meaning: The literal meaning of this proverb is – quick engagement followed by an immediate marriage. It expresses how sometimes significant life decisions are made hastily without much deliberation.

Usage: This proverb is used in situations where someone makes a decision quickly and without taking sufficient time in significant matters.

Examples:

-> Suppose a young man and woman decide to marry after only a few meetings and get married without wasting much time. For such a decision, people would say, “It was a case of झट मँगनी पट ब्याह.”

Conclusion: The proverb “Jhat mangni pat byah” teaches us that sometimes in life, it is necessary to make quick decisions and execute them. It symbolizes situations where rapid implementation and decision-making are crucial, especially in personal life decisions.

Story of Jhat mangni pat byah Proverb in English:

In a small village, there lived two young individuals named Vishal and Parul. They met at a social gathering and began to like each other.

The love story of Vishal and Parul quickly spread throughout the village. Considering their relationship, both families soon decided to arrange their marriage, exemplifying the proverb “झट मँगनी पट ब्याह” (quick engagement and immediate marriage).

Just a few days after their engagement, the wedding date was set. The village was filled with joy, and everyone supported this swift decision.

The wedding day arrived, and the village celebrated this quickly arranged marriage. Everything happened so quickly that people could hardly believe how fast Vishal and Parul’s love story had blossomed.

The story of Vishal and Parul teaches us that sometimes it is good to make quick decisions and execute them in life. The proverb “झट मँगनी पट ब्याह” is used in situations where things move forward quickly and positively, especially in personal relationships.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

“झट मँगनी पट ब्याह” कहावत से हमें क्या सीखने को मिलता है?

इस कहावत से हमें यह सीखने को मिलता है कि कभी-कभी जीवन में फैसले जल्दबाजी में लिए जाते हैं और इससे अनपेक्षित परिणाम भी हो सकते हैं।

इस कहावत का व्यक्तिगत जीवन में क्या महत्व है?

व्यक्तिगत जीवन में, यह कहावत हमें यह सिखाती है कि जीवन के महत्वपूर्ण फैसलों में जल्दबाजी से बचना चाहिए और सोच-समझकर निर्णय लेने चाहिए।

क्या यह कहावत केवल विवाह से संबंधित है?

हालांकि यह कहावत अक्सर विवाह से संबंधित होती है, पर इसका उपयोग जीवन के अन्य जल्दबाजी के फैसलों के संदर्भ में भी किया जा सकता है।

इस कहावत का आध्यात्मिक या धार्मिक संदर्भ में क्या अर्थ है?

आध्यात्मिक या धार्मिक संदर्भ में, इस कहावत का अर्थ यह है कि जीवन के महत्वपूर्ण फैसले, जैसे कि धार्मिक कर्मकांड या आध्यात्मिक प्रतिज्ञा, जल्दबाजी में नहीं लिए जाने चाहिए।

क्या यह कहावत युवा पीढ़ी के लिए भी प्रासंगिक है?

हां, युवा पीढ़ी के लिए यह कहावत बहुत प्रासंगिक है क्योंकि यह उन्हें सिखाती है कि जीवन के महत्वपूर्ण फैसले, जैसे कि शिक्षा, करियर, और विवाह, सोच-समझकर और विवेकपूर्ण तरीके से लेने चाहिए।

“झट मँगनी पट ब्याह” कहावत का नैतिक शिक्षा में क्या योगदान है?

नैतिक शिक्षा में इस कहावत का योगदान यह है कि यह हमें सिखाती है कि परिपक्वता और विवेक के साथ निर्णय लेना जीवन में संतुलन और स्थिरता लाता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।