Budhimaan

Home » Kahavaten » झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर, अर्थ, प्रयोग (Jharberi ke jungle mein Billi Sher)

झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर, अर्थ, प्रयोग (Jharberi ke jungle mein Billi Sher)

परिचय: “झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर” एक लोकप्रिय हिंदी कहावत है जो यह दर्शाती है कि छोटे या सीमित परिस्थितियों में साधारण व्यक्ति भी महत्वपूर्ण या प्रभावशाली बन सकता है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि जब एक व्यक्ति छोटे या सीमित परिवेश में होता है, तो उसकी महत्वाकांक्षा और प्रभाव अधिक महसूस की जा सकती है। यहाँ बिल्ली, जो वास्तव में शेर नहीं है, छोटे जंगल में शेर की तरह प्रभावशाली हो जाती है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग तब होता है जब किसी व्यक्ति को उसके छोटे समूह या समाज में अधिक महत्वपूर्ण दिखाया जाता है, लेकिन वह व्यापक संदर्भ में उतना प्रभावशाली नहीं होता।

उदाहरण:

-> एक छोटे गाँव का सरपंच, जो गाँव में बहुत प्रभावशाली है, लेकिन शहर में उसकी कोई खास पहचान नहीं है, इस कहावत का एक उदाहरण हो सकता है।

समापन: “झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर” कहावत हमें यह सिखाती है कि किसी व्यक्ति की क्षमता और महत्व उसके परिवेश पर निर्भर करती है। यह हमें संदर्भ के महत्व को समझने और व्यक्तिगत या सामाजिक पहचान के सापेक्षिक मूल्य को पहचानने की ओर प्रेरित करता है।

Hindi Muhavare Quiz

झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अखिल नाम का एक युवक रहता था। अखिल अपने गाँव में बहुत ही प्रसिद्ध था। वह हर छोटे-बड़े काम में हाथ बटाता, हर समस्या का समाधान निकालता और गाँव के लोग उसकी बहुत इज्जत करते थे। गाँव के लोग उसे ‘गाँव का शेर’ कहकर बुलाते थे।

लेकिन एक दिन अखिल ने सोचा कि वह शहर जाकर कुछ बड़ा काम करेगा और वहीँ अपना नाम कमाएगा। शहर पहुँचकर उसने देखा कि यहाँ का माहौल बिल्कुल अलग था। यहाँ उसकी बातों को कोई तवज्जो नहीं देता था और उसे उतनी इज्जत भी नहीं मिलती थी।

अखिल ने महसूस किया कि जिस तरह एक छोटे जंगल में बिल्ली भी शेर जैसा अनुभव करती है, उसी तरह वह अपने छोटे गाँव में तो बहुत बड़ा व्यक्ति था, पर शहर में उसकी पहचान सामान्य थी। उसे समझ आ गया कि “झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर” कहावत का वास्तविक अर्थ क्या है।

इस अनुभव ने अखिल को यह सिखाया कि सच्ची महत्ता और प्रभाव उसके अपने कार्यों और गुणों में होती है, न कि केवल परिवेश में। उसने फिर से अपनी योग्यता पर काम करना शुरू किया, ताकि वह किसी भी परिवेश में अपनी एक विशेष पहचान बना सके।

शायरी:

छोटे जंगल की बड़ी बातें, शहर में खो जाती हैं,

झड़बेरी में बिल्ली भी, शेर सी दहाड़ लाती है।

अपने घर की बादशाही, बाहर कहाँ चलती है,

हर जगह की अपनी बोली, हर गली में पलती है।

गाँव की गलियों में शोर, शहर में गुमनामी,

जहाँ परख नई होती, वहाँ खो जाती नामी।

बड़े जंगल का राजा, किसी छोटी झाड़ी में नहीं,

सच्चाई की राह में, हर कदम पे इम्तिहान होती है।

झड़बेरी के जंगल में, बिल्ली शेर बन जाती है,

लेकिन असली पहचान, तो बड़े मैदान में बनती है।

 

झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर – Jharberi ke jungle mein Billi Sher Proverb:

Introduction: The Hindi proverb “Jharberi ke jungle mein Billi Sher” is a popular saying that illustrates how in small or limited circumstances, an ordinary person can become significant or influential.

Meaning: This proverb means that when a person is in a small or limited environment, their ambition and influence can be more significant. Here, the cat, which is not actually a lion, becomes influential like a lion in a small forest.

Usage: This proverb is used when a person is shown to be more important in their small group or community, but they are not as influential in a broader context.

Examples:

-> A village headman, who is very influential in the village but not well-known in the city, can be an example of this proverb.

Conclusion: The proverb “झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर” teaches us that a person’s capability and importance depend on their environment. It encourages us to understand the importance of context and recognize the relative value of personal or social identity.

Story of Jharberi ke jungle mein Billi Sher Proverb in English:

In a small village, there lived a young man named Akhil. He was very famous in his village. He helped in every big and small task, solved problems, and was highly respected by the villagers, who called him the ‘Lion of the Village.’

However, one day, Akhil decided to go to the city to undertake bigger ventures and earn a name for himself. Upon reaching the city, he found that the environment was entirely different. His words were no longer heeded, and he didn’t receive the same respect as he did in his village.

Akhil realized that just as a cat feels like a lion in a small forest, he was a significant person in his small village, but in the city, his identity was ordinary. He understood the true meaning of the proverb “झड़बेरी के जंगल में बिल्ली शेर” (In the forest of Jharberi, a cat becomes a lion).

This experience taught Akhil that true greatness and influence lie in one’s actions and qualities, not just in the environment. He began working on his skills again so that he could create a unique identity for himself in any setting.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का व्यावहारिक उदाहरण क्या हो सकता है?

एक व्यक्ति जो अपने सामान्य जीवन में बहुत साधारण है, वह उस समूह में प्रभावशाली या महत्वपूर्ण बन सकता है जहाँ बाकी सभी उससे भी कम योग्यता रखते हों।

क्या यह कहावत व्यक्तिगत संबंधों पर भी लागू होती है?

हाँ, व्यक्तिगत संबंधों में भी यह लागू होती है। जैसे किसी समूह में एक साधारण व्यक्ति भी नेतृत्व की भूमिका निभा सकता है अगर बाकी सदस्य उससे कम आत्मविश्वासी या कम योग्य हों।

इस कहावत का सामाजिक संदर्भ क्या है?

सामाजिक संदर्भ में, यह कहावत यह बताती है कि एक सामान्य व्यक्ति भी उस समाज या समूह में प्रमुखता पा सकता है जहां बाकी सदस्य उससे कम सक्षम या कम अनुभवी हों।

यह कहावत नेतृत्व और प्रबंधन के संदर्भ में कैसे लागू होती है?

नेतृत्व और प्रबंधन में, इस कहावत का अर्थ है कि एक व्यक्ति जो आमतौर पर नेता नहीं होता, वह भी उस स्थिति में नेतृत्व कर सकता है जहां बाकी लोग उससे कम सक्षम हों।

इस कहावत का आर्थिक विकास पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?

आर्थिक विकास में, यह कहावत इस बात को दर्शाती है कि कम संसाधन वाले क्षेत्रों में भी कम संसाधनों वाले व्यक्ति या संस्था प्रभावशाली या सफल हो सकते हैं।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।