Budhimaan

Home » Kahavaten » जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार, अर्थ, प्रयोग (Jete jag me manuj hain tete ahain vichar)

जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार, अर्थ, प्रयोग (Jete jag me manuj hain tete ahain vichar)

परिचय: जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार, यह कहावत भारतीय समाज में व्यक्तिगत विचारों और अभिरुचियों की विविधता को स्वीकार करने की प्रवृत्ति को दर्शाती है। इसका शाब्दिक अर्थ है कि जितने भी लोग इस दुनिया में हैं, उनके विचार और रुचियाँ उतनी ही विविध हैं।

अर्थ: इस कहावत का मूल भाव यह है कि प्रत्येक मनुष्य की अपनी एक अनूठी सोच और पसंद होती है। इसके द्वारा यह संदेश दिया जाता है कि मानव स्वभाव में गहरी विविधता होती है और हर व्यक्ति अपने-आप में अद्वितीय होता है।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग की जाती है जब हमें दूसरों की अलग विचारधाराओं और रुचियों को समझने और स्वीकार करने की आवश्यकता होती है। यह व्यक्तिगत विविधता और स्वातंत्र्य के महत्व को उजागर करती है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक कक्षा में विभिन्न छात्र हैं और प्रत्येक की रुचि अलग-अलग विषय में है। कुछ को गणित पसंद है, तो कुछ को साहित्य। यहाँ यह कहावत लागू होती है कि “जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार”।

समापन: इस कहावत के माध्यम से हमें यह सिखने को मिलता है कि प्रत्येक व्यक्ति की अपनी विशेषताएं और विचार होते हैं। यह हमें व्यक्तिगत विविधता को समझने और उसका सम्मान करने की ओर प्रेरित करता है, साथ ही यह दर्शाता है कि विभिन्नता ही हमारी सामाजिक संरचना का एक महत्वपूर्ण अंग है।

Hindi Muhavare Quiz

जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार कहावत पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में चार दोस्त रहते थे – अनन्य, प्रथम, अंश और अमन। इन चारों की पसंद और रुचियाँ अलग-अलग थीं। अनन्य को पेंटिंग का शौक था, प्रथम को संगीत में रुचि थी, अंश विज्ञान में गहराई तक जाना चाहता था, और अमन को खेलकूद में महारत हासिल थी।

एक दिन, गाँव के स्कूल में एक प्रतियोगिता आयोजित की गई। सभी बच्चों को अपनी-अपनी रुचि के अनुसार कुछ प्रस्तुत करना था। अनन्य ने एक सुंदर चित्र बनाया, प्रथम ने एक मधुर गीत गाया, अंश ने एक विज्ञान प्रोजेक्ट प्रदर्शित किया, और अमन ने एक खेल का प्रदर्शन किया।

प्रतियोगिता के बाद, स्कूल के शिक्षक ने कहा, “देखा, यही तो खासियत है हमारे समाज की। ‘जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार’। प्रत्येक बच्चे की अपनी एक खासियत और रुचि है।”

इस कहानी के माध्यम से गाँव के बच्चों और शिक्षकों को समझ आया कि हर व्यक्ति की अपनी विशिष्टता होती है। सभी की रुचियाँ और प्रतिभाएँ अलग-अलग होती हैं और यही विविधता हमारे समाज को अद्वितीय बनाती है।

इस प्रकार, “जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार” कहावत का अर्थ स्पष्ट हो गया कि दुनिया में जितने इंसान हैं, उनके विचार और प्रवृत्तियाँ उतनी ही विविध होती हैं।

शायरी:

जेते जग में मनुज हैं, तेते अहैं विचार,

अनेक रंग इस जीवन के, बिखरे हर बाजार।

हर चेहरे में एक कहानी, हर निगाह में बात नई,

अपनी-अपनी सोच में डूबे, हर शख्स की राह नई।

कोई ख्वाब में रंग भरता, कोई संगीत में खो जाता,

हर दिल में अलग पहचान है, हर जुबां पे गीत नया आता।

इस जहां में विचारों का, ऐसा खूबसूरत मेल है,

जैसे हर फूल में खुशबू, हर रंग में अपनी छाप खेल है।

विविधता में एकता की बात, इस दुनिया में खास है,

‘जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार’, ये अहसास है।

 

जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार – Jete jag me manuj hain tete ahain vichar Proverb:

“Jete jag me manuj hain tete ahain vichar” is an ancient Hindi proverb that highlights the diversity of human nature.

Introduction: This proverb reflects the tendency in Indian society to accept the diversity of individual thoughts and preferences. Its literal meaning is that the thoughts and interests of people in the world are as diverse as the number of people themselves.

Meaning: The core essence of this proverb is that every human being has their unique way of thinking and preferences. It conveys that there is a deep diversity in human nature, and every individual is unique in their own way.

Usage: This proverb is used when there is a need to understand and accept the different ideologies and interests of others. It highlights the importance of individual diversity and freedom.

Examples:

-> Suppose in a classroom, there are various students, each with an interest in different subjects. Some like mathematics, while others prefer literature. Here, the proverb “जेते जग में मनुज हैं तेते अहैं विचार” applies.

Conclusion: Through this proverb, we learn that every person has their unique characteristics and thoughts. It encourages us to understand and respect individual diversity and shows that diversity is an important aspect of our social structure.

Story of Jete jag me manuj hain tete ahain vichar Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived four friends – Anany, Pratham, Ansh, and Aman. Each of them had different preferences and interests. Anany was fond of painting, Pratham had an interest in music, Ansh wanted to delve deep into science, and Aman was skilled in sports.

One day, a competition was organized in the village school. All the children were supposed to present something according to their own interests. Anany created a beautiful painting, Pratham sang a melodious song, Ansh displayed a science project, and Aman performed a sport.

After the competition, the school teacher said, “See, this is the specialty of our society. ‘As many people there are in the world, so are the thoughts.’ Each child has their own uniqueness and interest.”

Through this story, the children and teachers of the village understood that every person has their own uniqueness. Everyone’s interests and talents are different, and this diversity makes our society unique.

Thus, the meaning of the proverb “As many people there are in the world, so are the thoughts” became clear – the thoughts and tendencies of people in the world are as diverse as the number of people themselves.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

क्या यह कहावत व्यक्तिगत मतभेदों को स्वीकार करती है?

हाँ, इस कहावत के माध्यम से व्यक्तिगत मतभेदों की स्वीकृति और सम्मान की बात की जाती है।

इस कहावत का समाज पर क्या प्रभाव पड़ता है?

इस कहावत का समाज पर यह प्रभाव पड़ता है कि यह समाज में विविधता और सहिष्णुता को बढ़ावा देती है।

इस कहावत का व्यक्तिगत विकास में क्या योगदान है?

यह कहावत व्यक्तिगत विकास में योगदान देती है जिससे व्यक्ति अन्य लोगों के विचारों को समझने और स्वीकार करने की क्षमता विकसित कर सकता है।

क्या इस कहावत का उपयोग विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं को समझने में किया जा सकता है?

हाँ, इस कहावत का उपयोग विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के विचारों को समझने और उनके प्रति सहिष्णुता रखने में किया जा सकता है।

इस कहावत का शिक्षा क्षेत्र में क्या महत्व है?

शिक्षा क्षेत्र में इस कहावत का महत्व है कि यह छात्रों को विभिन्न विचारों की महत्ता समझाने और उन्हें सहिष्णुता का पाठ पढ़ाने में सहायक होती है।

क्या इस कहावत का उपयोग संघर्ष समाधान में किया जा सकता है?

हाँ, इस कहावत का उपयोग संघर्ष समाधान में किया जा सकता है क्योंकि यह विभिन्न विचारों को समझने और उन पर विचार करने की प्रक्रिया को महत्व देती है।

इस कहावत के माध्यम से क्या संदेश मिलता है?

इस कहावत के माध्यम से यह संदेश मिलता है कि हर व्यक्ति की अपनी एक अनूठी सोच होती है और हमें सभी के विचारों को समझना और सम्मान करना चाहिए।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।