Budhimaan

Home » Kahavaten » जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट, अर्थ, प्रयोग (Jaisi chale bayar, Tab taisi deeje oat)

जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट, अर्थ, प्रयोग (Jaisi chale bayar, Tab taisi deeje oat)

परिचय: “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जो समयानुकूल व्यवहार और निर्णयों के महत्व पर बल देती है। इस कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि हवा की दिशा के अनुसार ही आश्रय लेना चाहिए।

अर्थ: इस कहावत का मूल भाव यह है कि परिस्थितियों के अनुसार अपनी रणनीति और कार्य योजना को ढालना चाहिए। यह हमें सिखाती है कि जैसे-जैसे परिस्थितियाँ बदलती हैं, हमें भी अपने निर्णय और कार्यशैली में लचीलापन लाना चाहिए।

उपयोग: यह कहावत व्यापार, शिक्षा, या व्यक्तिगत जीवन के निर्णयों में उपयोगी होती है। यह हमें याद दिलाती है कि हमें स्थिति के अनुसार अपनी रणनीति बनानी चाहिए।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक व्यापारी बाजार की प्रवृत्तियों के अनुसार अपने उत्पादों की रणनीति बदलता है, तो इसे “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट” कहावत के अनुसार कार्य करना कहा जा सकता है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए हमें परिवर्तनशील परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढालना चाहिए। यह हमें यह भी सिखाती है कि लचीलापन और समय के अनुसार चलना जीवन के हर क्षेत्र में महत्वपूर्ण है।

Hindi Muhavare Quiz

जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में विनीत नाम का एक युवक रहता था। विनीत एक किसान था और अपने खेत में मेहनत से काम करता था। एक वर्ष, मौसम की अनिश्चितता के कारण विनीत को फसल की चिंता होने लगी। उसने देखा कि मौसम बहुत बदल रहा है और इससे उसकी फसल पर असर पड़ सकता है।

विनीत ने सोचा कि अगर वह पुराने तरीके से खेती करता रहा, तो शायद उसकी फसल बर्बाद हो जाएगी। उसने “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट” कहावत को याद करते हुए, अपनी खेती की रणनीति में बदलाव किया। विनीत ने मौसम के अनुसार नई फसलों का चयन किया और खेती के नए तरीके अपनाए।

उसके इस निर्णय से उसकी फसल सफल रही। जहां अन्य किसानों की फसलें मौसम की मार से बर्बाद हो गईं, वहीं विनीत की फसल बढ़िया निकली। गाँव वाले विनीत की सोच और समझदारी की प्रशंसा करने लगे।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट” कहावत के अनुसार, हमें हमेशा परिस्थितियों के अनुसार अपने निर्णयों और कार्यों में लचीलापन दिखाना चाहिए। यह हमें समय के साथ चलने और उसके अनुसार खुद को ढालने की महत्वपूर्ण शिक्षा देती है।

शायरी:

जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट,
जीवन की इस राह में, यही है सबसे बड़ा संगोत।

धरा की चाल देखकर, किसान बदले बीज,
वक़्त के साथ चलना, यही है जीने का तरीक़।

मौसम की मार से, जो बचाये अपनी खेती,
उसे कहते हैं बुद्धिमान, जो जीवन में है प्रेती।

बयार की दिशा जान, बदले अपनी चाल,
जीवन के हर पल में, यही है सबसे खास कमाल।

जीवन है एक खेल, जिसमें बदलाव है जरूरी,
‘जैसी चले बयार’ से, मिलती है जीत की सूरी।

 

जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट – Jaisi chale bayar, Tab taisi deeje oat Proverb:

Introduction: “Jaisi chale bayar, Tab taisi deeje oat” is a popular Hindi proverb emphasizing the importance of adapting behavior and decisions according to the times. Literally, it means one should seek shelter according to the direction of the wind.

Meaning: The core essence of this proverb is that one should tailor their strategy and action plan according to the circumstances. It teaches us to bring flexibility in our decisions and actions as situations evolve.

Usage: This proverb is useful in business, education, or personal life decisions. It reminds us to formulate our strategies based on the situation at hand.

Examples:

-> For instance, if a businessman changes his product strategies according to market trends, this can be referred to as acting according to the proverb “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट”.

Conclusion: This proverb teaches us that to achieve success in life, we must adapt ourselves to changing circumstances. It also emphasizes the importance of flexibility and moving with the times in every aspect of life.

Story of Jaisi chale bayar, Tab taisi deeje oat Proverb in English:

In a small village lived a young man named Vineet. Vineet was a farmer who worked diligently in his fields. One year, due to the uncertainty of the weather, Vineet became worried about his crops. He noticed that the weather was changing drastically, which could affect his crops.

Vineet thought that if he continued farming in the old way, his crops might be ruined. Remembering the proverb “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट,” he decided to change his farming strategy. Vineet chose new crops that were suitable for the changing weather and adopted new farming methods.

His decision led to a successful harvest. While other farmers’ crops were destroyed due to the weather, Vineet’s crops turned out well. The villagers praised Vineet’s foresight and intelligence.

This story teaches us that according to the proverb “जैसी चले बयार, तब तैसी दीजे ओट,” we should always show flexibility in our decisions and actions according to the circumstances. It imparts the important lesson of adapting to the times and changing ourselves accordingly.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

यह कहावत व्यक्तिगत विकास में कैसे मदद कर सकती है?

व्यक्तिगत विकास में यह कहावत मदद करती है क्योंकि यह हमें अनुकूलनीय और लचीला होने की सीख देती है।

इस कहावत का सामाजिक जीवन में क्या प्रभाव है?

सामाजिक जीवन में इस कहावत का प्रभाव यह है कि यह हमें सिखाती है कि हमें अपने आसपास के लोगों और सामाजिक परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढालना चाहिए।

इस कहावत का शैक्षिक क्षेत्र में क्या महत्व है?

शैक्षिक क्षेत्र में इस कहावत का महत्व यह है कि यह छात्रों और शिक्षकों को शिक्षण और अध्ययन की तकनीकों में लचीलापन अपनाने की सीख देती है।

इस कहावत का नैतिक शिक्षा में क्या महत्व है?

नैतिक शिक्षा में इस कहावत का महत्व यह है कि यह हमें लचीलापन और समय के अनुसार ढलने की आवश्यकता की सीख देती है।

इस कहावत का आत्म-सुधार में क्या उपयोग है?

आत्म-सुधार में इस कहावत का उपयोग यह है कि यह हमें सिखाती है कि हमें परिस्थितियों के अनुसार खुद को बदलने और ढालने की क्षमता विकसित करनी चाहिए।

इस कहावत का व्यक्तिगत रिश्तों में क्या प्रभाव हो सकता है?

व्यक्तिगत रिश्तों में इस कहावत का प्रभाव यह हो सकता है कि यह हमें सिखाती है कि हमें रिश्तों में विभिन्न परिस्थितियों के अनुरूप अपनी प्रतिक्रिया और व्यवहार को ढालना चाहिए।

इस कहावत का आधुनिक समय में क्या प्रासंगिकता है?

आधुनिक समय में इस कहावत की प्रासंगिकता यह है कि तेजी से बदलते समाज और तकनीकी परिवेश में हमें निरंतर अनुकूलन और लचीलापन बनाए रखना चाहिए।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।