Budhimaan

Home » Kahavaten » जैसा मुँह वैसा तमाचा, अर्थ, प्रयोग(Jaisa munh waisa tamacha)

जैसा मुँह वैसा तमाचा, अर्थ, प्रयोग(Jaisa munh waisa tamacha)

“जैसा मुँह वैसा तमाचा” यह हिंदी कहावत व्यक्ति के व्यवहार और उसके प्रतिफल के संबंध को दर्शाती है।

परिचय: इस कहावत का प्रयोग भारतीय समाज में आमतौर पर तब किया जाता है जब किसी के व्यवहार या शैली के अनुरूप ही उसे प्रतिक्रिया मिलती है। ‘मुँह’ यहाँ व्यक्ति के रवैये या बोलचाल की शैली को दर्शाता है, और ‘तमाचा’ प्रतिक्रिया या परिणाम को।

अर्थ: कहावत का अर्थ है कि जैसा व्यवहार या बातचीत का तरीका व्यक्ति का होता है, उसी अनुसार उसे प्रतिक्रिया मिलती है। इसमें यह भी सम्मिलित है कि किसी के आक्रामक या असभ्य व्यवहार का जवाब भी उसी तरह से दिया जाता है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब होता है जब किसी को यह समझाना होता है कि उनके अपने व्यवहार का परिणाम उन्हें वापस मिलेगा।

उदाहरण:

-> उदाहरण के तौर पर, यदि कोई व्यक्ति अपने सहकर्मी से रूखे और असभ्य तरीके से बात करता है, तो संभावना है कि उसे भी उसी तरह की प्रतिक्रिया मिलेगी।

समापन: “जैसा मुँह वैसा तमाचा” कहावत हमें सिखाती है कि हमारे व्यवहार और बातचीत की शैली का प्रत्यक्ष प्रभाव हमारे रिश्तों और सामाजिक जीवन पर पड़ता है। यह हमें प्रेरित करती है कि हमें दूसरों के साथ उचित और सम्मानजनक तरीके से व्यवहार करना चाहिए।

जैसा मुँह वैसा तमाचा कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अमन नाम का एक युवक रहता था। अमन को अक्सर लोगों से रूखे और कठोर शब्दों में बात करने की आदत थी। वह अपने मित्रों, परिवार और पड़ोसियों से भी इसी तरह से व्यवहार करता था।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा समारोह था और अमन ने सोचा कि वह वहाँ जाकर सबसे मिलेगा। जब वह समारोह में पहुंचा, तो उसने अपनी आदत के अनुसार लोगों से रूखे तरीके से बात करनी शुरू कर दी। उसके इस व्यवहार से लोग नाराज हो गए और उन्होंने भी अमन के प्रति वैसा ही रवैया अपनाया।

जब अमन ने देखा कि उसके अपने दोस्त और परिचित भी उससे कठोरता से पेश आ रहे हैं, तो उसे अपनी गलती का एहसास हुआ। उसे समझ में आया कि “जैसा मुँह वैसा तमाचा”। उसने महसूस किया कि उसके अपने व्यवहार के कारण ही लोग भी उसके साथ वैसा ही व्यवहार कर रहे हैं।

इस घटना के बाद अमन ने अपने व्यवहार में सुधार किया और लोगों से अधिक सम्मान और मित्रता के साथ पेश आने लगा। धीरे-धीरे लोग भी उसके प्रति अच्छे व्यवहार करने लगे।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि हमारे अपने व्यवहार का परिणाम हमें वापस मिलता है और हमें दूसरों के साथ सम्मान और मित्रता के साथ व्यवहार करना चाहिए।

शायरी:

जैसा मुँह वैसा तमाचा, यही है जीवन का सच्चा,

जो बोएगा वो ही काटेगा, यही है दुनिया का नियम अच्छा।

बोलो जो शब्द मिठास से, मिलेगा जवाब प्यार से,

जो बात करोगे कड़वास से, वापसी होगी बिना आबरू के।

हर शब्द का असर होता, हर बात का मोल होता,

जैसे तुम बोलो दूसरों से, वैसा ही उत्तर तुम्हें तोला।

जीवन यह आइना है, जो दिखाए तुम्हारा चेहरा,

जैसा तुम करो व्यवहार, वैसा ही मिले तुम्हें सहारा।

 

जैसा मुँह वैसा तमाचा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of जैसा मुँह वैसा तमाचा – Jaisa munh waisa tamacha Proverb:

The Hindi proverb “Jaisa munh waisa tamacha” illustrates the relationship between a person’s behavior and its consequences.

Introduction: This proverb is commonly used in Indian society to denote that the response one receives is directly proportional to their behavior or manner of speaking. ‘मुँह’ here represents a person’s attitude or style of communication, while ‘तमाचा’ refers to the reaction or consequence.

Meaning: The proverb means that the kind of behavior or way of speaking one exhibits determines the kind of response they receive. It includes the notion that aggressive or rude behavior is likely to be met with a similar kind of response.

Usage: This proverb is used when it is necessary to explain to someone that their behavior will have corresponding consequences.

Examples:

-> For instance, if a person speaks to their colleague in a rude and disrespectful manner, it is likely that they will receive a similar response.

Conclusion: “जैसा मुँह वैसा तमाचा” teaches us that our behavior and way of communicating directly impact our relationships and social life. It encourages us to behave in a proper and respectful manner towards others.

Story of Jaisa munh waisa tamacha Proverb in English:

In a small village lived a young man named Aman. Aman often had a habit of speaking to people in a harsh and stern manner. He behaved this way with his friends, family, and neighbors too.

One day, there was a big celebration in the village, and Aman thought to meet everyone there. When he arrived at the celebration, he started speaking to people in his usual harsh manner. His behavior annoyed the people, and they started to respond to Aman in a similar way.

When Aman noticed that even his friends and acquaintances were treating him harshly, he realized his mistake. He understood the proverb “जैसा मुँह वैसा तमाचा” – As is the face, so is the slap. He realized that it was his own behavior that led others to treat him the same way.

After this incident, Aman improved his behavior and started treating people with more respect and friendliness. Gradually, people also started to behave nicely with him.

This story teaches us that the consequences of our behavior are reflected back to us, and we should treat others with respect and friendliness.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।