Budhimaan

Home » Kahavaten » इसके पेट में दाढ़ी है, अर्थ, प्रयोग(Iske pet mein dadhi hai)

इसके पेट में दाढ़ी है, अर्थ, प्रयोग(Iske pet mein dadhi hai)

परिचय: “इसके पेट में दाढ़ी है” एक लोकप्रिय हिंदी कहावत है, जो उस व्यक्ति के बारे में बताती है जिसकी स्थिति भले ही निम्न हो, लेकिन उसकी बुद्धिमत्ता उच्च होती है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि कभी-कभी साधारण दिखने वाले लोगों में असाधारण बुद्धिमत्ता और कौशल होता है। यह दर्शाती है कि बाहरी आवरण से किसी की समझ या योग्यता का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग की जाती है जब व्यक्ति अपनी साधारण प्रतीत होती उपस्थिति के विपरीत असाधारण बुद्धिमत्ता या समझदारी दिखाता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक गाँव का एक साधारण किसान, जिसे लोग हल्के में लेते थे, ने अपनी बुद्धिमत्ता से गाँव की एक बड़ी समस्या का समाधान निकाला। इस पर गाँव के मुखिया ने कहा, “हमने सोचा नहीं था, लेकिन लगता है ‘इसके पेट में दाढ़ी है’।”

समापन:

“इसके पेट में दाढ़ी है” कहावत हमें यह सिखाती है कि व्यक्ति की बाहरी स्थिति या दिखावा हमेशा उसकी असली योग्यता या बुद्धिमत्ता का सही आंकलन नहीं करता। यह हमें सिखाती है कि हमें हर व्यक्ति को सम्मान देना चाहिए और उनकी छिपी हुई प्रतिभा या योग्यता को समझने की कोशिश करनी चाहिए।

इस पोस्ट में, इस कहावत के अर्थ और उसके प्रयोग को व्यक्तिगत योग्यता और बुद्धिमत्ता के छिपे हुए पहलुओं के संदर्भ में बताया गया है, जो हमें व्यक्तियों को सही ढंग से समझने का महत्व सिखाता है।

Hindi Muhavare Quiz

इसके पेट में दाढ़ी है कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में सुरेंद्र नाम का एक साधारण सा किसान रहता था। सुरेंद्र की उपस्थिति बहुत ही सामान्य थी, और उसकी बातचीत भी सीधी-साधी थी। गाँव के लोग उसे अक्सर हल्के में लेते और उसकी सलाह को नजरअंदाज कर देते।

एक दिन, गाँव के कुएँ का पानी अचानक सूख गया। गाँववाले चिंतित हो उठे। उन्होंने तरह-तरह के उपाय किए, लेकिन कुछ भी काम नहीं आया। इसी बीच, सुरेंद्र ने गाँव के मुखिया के पास जाकर एक सुझाव दिया। उसने कहा, “हमें कुएँ के आसपास की मिट्टी को खोदकर देखना चाहिए। हो सकता है कि अंदर कोई रुकावट हो।”

शुरुआत में तो मुखिया ने सुरेंद्र की बात को नजरअंदाज कर दिया, लेकिन जब कोई और उपाय काम नहीं आया, तो उन्होंने सुरेंद्र के सुझाव पर अमल किया। कुएँ की मिट्टी खोदने पर वहाँ एक बड़ी चट्टान मिली जो पानी के स्रोत को रोक रही थी। चट्टान हटते ही कुएँ में फिर से पानी आ गया।

गाँववाले सुरेंद्र की बुद्धिमत्ता से बहुत प्रभावित हुए। मुखिया ने कहा, “हमने सोचा नहीं था कि सुरेंद्र इतना बुद्धिमान होगा। लगता है ‘इसके पेट में दाढ़ी है।'”

निष्कर्ष:
इस कहानी से हमें सीखने को मिलता है कि “इसके पेट में दाढ़ी है” का अर्थ है कि अक्सर साधारण दिखने वाले लोगों में असाधारण बुद्धिमत्ता होती है। इसलिए, हमें हर व्यक्ति की छिपी हुई प्रतिभा और क्षमता को समझने और सम्मान देने की जरूरत है।

शायरी:

सादगी में छिपा है गहराई का समंदर, ‘इसके पेट में दाढ़ी है’ कहते हैं लोग,

बाहरी आवरण में ना उलझें, अंदर की बात समझें ज़रा रोग।

जिसे समझे थे नादान, वही निकला दानिशमंद,

‘इसके पेट में दाढ़ी है’, यह सोच समझने का फरमान।

आंखों को धोखा होता है, बाहरी शक्ल पर ना जाएं,

जो छुपा है अंदर, उसकी कद्र करें, सच्चाई को पहचानें।

बिना परतों के खुले, नहीं जाना जाता असली खजाना,

‘इसके पेत में दाढ़ी है’, हर इंसान में छुपा है वो अनमोल नज़राना।

जज्बातों के इस मेले में, हर चेहरा कुछ कहता है,

‘इसके पेट में दाढ़ी है’, यही सिखाता है कि हर दिल में कुछ रहता है।

 

इसके पेट में दाढ़ी है शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of इसके पेट में दाढ़ी है – Iske Pet Mein Daadhi Hai Proverb:

Introduction: “The proverb ‘Iske Pet Mein Daadhi Hai’ is a popular Hindi saying that describes a person who may appear to be in a low position but possesses high intelligence.

Meaning: The meaning of this proverb is that sometimes, people who appear ordinary possess extraordinary intelligence and skill. It illustrates that one’s understanding or capability cannot be judged based on external appearances.

Usage: This proverb is used when a person demonstrates extraordinary wisdom or understanding contrary to their seemingly ordinary appearance.

Examples:

-> Imagine a simple farmer in a village, who was often taken lightly by others, solved a major problem of the village with his intelligence. Upon this, the village head said, “We never thought, but it seems ‘he has a beard in his stomach’ (indicating hidden wisdom).”

Conclusion: The proverb ‘Iske Pet Mein Daadhi Hai’ teaches us that a person’s external situation or appearance does not always accurately assess their true talents or intelligence. It instructs us to respect every individual and try to understand their hidden talents and capabilities.

In this post, the meaning and application of this proverb have been explained in the context of the hidden aspects of personal ability and intelligence, teaching us the importance of rightly understanding individuals.

Story of Iske Pet Mein Daadhi Hai Proverb in English:

In a small village lived a simple farmer named Surendra. Surendra had a very ordinary appearance, and he spoke in a straightforward manner. The villagers often underestimated him and disregarded his advice.

One day, the village well suddenly dried up. The villagers became anxious. They tried various solutions, but nothing worked. During this crisis, Surendra approached the village head with a suggestion. He said, “We should dig around the well. There might be some obstruction inside.”

Initially, the village head ignored Surendra’s advice. However, when no other solution worked, they decided to follow his suggestion. Upon digging around the well, they found a large rock blocking the water source. Removing the rock restored the water supply in the well.

The villagers were impressed by Surendra’s wisdom. The village head remarked, “We never thought Surendra would be so wise. It seems ‘he has a beard in his stomach’ (indicating hidden wisdom).”

Conclusion:

This story teaches us that the proverb “he has a beard in his stomach” means that often, people who appear ordinary possess extraordinary intelligence. Therefore, we need to recognize and respect the hidden talents and capabilities of every individual.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

कौन-कौन लोग “इसके पेट में दाढ़ी है” कहलाते हैं?

जिन लोगों को अपने कार्यों में विश्वास होता है और जो स्वतंत्रता और स्वाधीनता के साथ काम करते हैं, उन्हें “इसके पेट में दाढ़ी है” कहा जा सकता है।

इस कहावत का इतिहास क्या है?

“इसके पेट में दाढ़ी है” एक हिंदी कहावत है जो देशी समाज में प्रचलित है। इसका अवधारणात्मक प्रयोग व्यक्ति की साहसपूर्ण और स्वाबलंबी नीति को दर्शाता है।

क्या इस कहावत का अनुप्रयोग आजकल की समय में भी हो रहा है?

हाँ, इस कहावत का अनुप्रयोग आजकल भी हो रहा है, खासकर जब किसी को अपने आत्मनिर्भरता और आत्मविश्वास को बताने की जरूरत होती है।

यह कहावत सामाजिक संदेश को कैसे पहुंचाती है?

यह कहावत सामाजिक संदेश को यह बताती है कि सच्चे स्वाभाविकों में आत्मविश्वास और साहस होता है जो उन्हें सफलता की ऊँचाइयों तक पहुँचाने में मदद करता है।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, इस कहावत का कोई विरोधाभास नहीं है, बल्कि यह एक सकारात्मक संदेश देती है जो आत्मविश्वास और स्वाबलंब की महत्वपूर्णता को बताता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।