Budhimaan

Home » Kahavaten » एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है, अर्थ, प्रयोग (Ek machli sare talab ko ganda karti hai)

एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है, अर्थ, प्रयोग (Ek machli sare talab ko ganda karti hai)

परिचय: एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है, यह कहावत उस सिद्धांत को प्रकट करती है कि एक अकेले व्यक्ति का नकारात्मक प्रभाव पूरे समूह पर पड़ सकता है। यहाँ, ‘मछली’ का प्रतीकात्मक उपयोग एक ऐसे व्यक्ति के लिए किया गया है जिसका चरित्र दूषित है, और ‘तालाब’ पूरे समूह या समाज को दर्शाता है।

अर्थ: कहावत का अर्थ यह है कि अगर किसी समूह में एक व्यक्ति भी बुरे चरित्र का हो, तो इसका असर पूरे समूह पर पड़ता है। यह दिखाता है कि नकारात्मकता और बुराई का प्रसार कितनी तेजी से हो सकता है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग अक्सर उन परिस्थितियों में किया जाता है जहाँ एक व्यक्ति के कारण पूरे समूह या परिवार की छवि खराब हो जाती है। यह व्यक्तियों को यह संदेश देती है कि उनके आचरण का प्रभाव न केवल उन पर, बल्कि उनके आस-पास के लोगों पर भी पड़ता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक कार्यालय में काम करने वाला एक कर्मचारी भ्रष्टाचार में लिप्त होता है। इससे न केवल उसकी खुद की छवि खराब होती है, बल्कि पूरे कार्यालय और उसके सहकर्मियों की प्रतिष्ठा पर भी असर पड़ता है।

समापन: इस कहावत के माध्यम से, हमें यह सिखने को मिलता है कि हमारे आचरण का प्रभाव व्यापक होता है। यह हमें नैतिकता और उच्च चरित्र के महत्व को समझाती है, और यह भी कि हमारे एक गलत कदम से पूरे समूह की प्रतिष्ठा पर बट्टा लग सकता है। अतः, हमें चाहिए कि हम सदैव सत्य और नैतिकता के मार्ग पर चलें।

Hindi Muhavare Quiz

एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गांव में अमन नाम का एक युवक रहता था। अमन बहुत ही प्रतिभाशाली और समझदार था, लेकिन उसका एक बुरा आदत था – वह अक्सर झूठ बोलता और छोटी-मोटी चोरियां करता। उसके इस व्यवहार के कारण गांव वाले उस पर शक करने लगे।

एक दिन गांव में एक बड़ी चोरी हो गई। सभी की नजरें अमन पर गईं। अमन ने इस बार सच में कोई चोरी नहीं की थी, लेकिन उसके पूर्व व्यवहार के कारण कोई भी उसकी बात पर विश्वास नहीं कर रहा था।

अमन का परिवार भी समाज में अपमानित होने लगा। उनके अच्छे कामों की पहचान भी अब धुंधली पड़ गई थी। उनके परिवार के अन्य सदस्य, जो समाज में सम्मानित और नेक थे, उन्हें भी लोग शक की नजर से देखने लगे।

इस घटना से अमन को बहुत बड़ा सबक मिला। उसने महसूस किया कि उसके व्यवहार का प्रभाव सिर्फ उस पर ही नहीं पड़ता, बल्कि उसके परिवार और समाज पर भी पड़ता है। उसने अपने आचरण में सुधार करने का निश्चय किया और धीरे-धीरे लोगों का विश्वास फिर से जीतने लगा।

इस कहानी के माध्यम से, हमें यह सिखने को मिलता है कि “एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है” यानी एक व्यक्ति का गलत व्यवहार पूरे समूह की छवि को बिगाड़ सकता है। इसलिए हमें अपने व्यवहार और कार्यों के प्रति सजग रहना चाहिए।

शायरी:

इक मछली की बात में, तालाब का सच छुपा है,

हर लहर में ये कहानी, मुश्किलों का रंग भरा है।

जैसे इक शख्स बिगाड़े, पूरे घर की बात को,

वैसे ही दुनिया भर की, इक गलती से हालात को।

हर एक फूल में खुशबू, हर एक कांटे में दर्द है,

इस जहां में अच्छाई, बुराई से हर बार हर्द है।

जो चिराग बुझा दे अंधेरा, उसे रोशनी से क्या लेना,

जिस मछली ने तालाब बिगाड़ा, उसे जल से क्या लेना।

ज़िन्दगी के इस सफर में, नेकी की चाहत बढ़ाना,

‘एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है’, ये याद रखना।

 

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of एक मछली सारे तालाब को गंदा करती है – Ek machli sare talab ko ganda karti hai Proverb:

Introduction: The proverb reveals the principle that the negative influence of a single person can affect the entire group. Here, ‘fish’ is symbolically used to represent a person with corrupt character, and ‘pond’ represents the whole group or society.

Meaning: The meaning of the proverb is that if even one person in a group has a bad character, it affects the entire group. It shows how quickly negativity and evil can spread.

Usage: This proverb is often used in situations where one person’s actions tarnish the image of the entire group or family. It conveys to individuals that their conduct affects not only themselves but also those around them.

Examples:

-> Suppose an employee in an office engages in corruption. This not only spoils his own image but also affects the reputation of the entire office and his colleagues.

Conclusion: Through this proverb, we learn that our conduct has a broad impact. It teaches us the importance of morality and high character, and that one wrong step can stain the reputation of the whole group. Therefore, we should always follow the path of truth and morality.

Story of Ek machli sare talab ko ganda karti hai Proverb in English:

In a small village, there lived a young man named Aman. Aman was very talented and intelligent, but he had a bad habit – he often lied and committed petty thefts. Due to this behavior, the villagers started to suspect him.

One day, a major theft occurred in the village. Everyone’s eyes turned towards Aman. This time, Aman had not committed any theft, but due to his past behavior, no one believed him.

Aman’s family also began to face humiliation in society. The recognition of their good deeds also started to fade. Other members of his family, who were respected and virtuous in society, were also viewed with suspicion.

This incident was a significant lesson for Aman. He realized that his behavior did not only affect him but also his family and society. He decided to improve his conduct and gradually began to regain the trust of the people.

This story teaches us that “one bad fish contaminates the entire pond” means the wrong behavior of one person can tarnish the image of the whole group. Therefore, we should always be vigilant about our behavior and actions.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का प्रयोग किस प्रकार की स्थितियों में किया जा सकता है?

जब किसी समूह, संगठन या समाज में एक व्यक्ति की गलत हरकतें पूरे समूह की छवि को प्रभावित करें, तब इस कहावत का प्रयोग होता है।

इस कहावत का उदाहरण क्या हो सकता है?

उदाहरण के लिए, एक कंपनी में एक कर्मचारी के भ्रष्टाचार से पूरी कंपनी की साख पर असर पड़ सकता है।

इस कहावत को किस तरह से समझाया जा सकता है?

इसे इस तरह समझाया जा सकता है कि एक व्यक्ति की नकारात्मक हरकतें पूरे समूह की प्रतिष्ठा को प्रभावित कर सकती हैं।

इस कहावत का आधुनिक समाज में क्या प्रभाव है?

आधुनिक समाज में इस कहावत का प्रभाव यह है कि यह व्यक्तियों को उनकी जिम्मेदारियों और उनके कार्यों के सामाजिक प्रभाव के प्रति सचेत करती है।

इस कहावत का साहित्य में क्या स्थान है?

साहित्य में इस कहावत का प्रयोग अक्सर समाज में व्यक्तियों के आचरण और उनके परिणामों को दर्शाने के लिए किया जाता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।