Budhimaan

Home » Kahavaten » एक ही थैले के चट्टे बट्टे, अर्थ, प्रयोग(Ek hi thaile ke chatte batte)

एक ही थैले के चट्टे बट्टे, अर्थ, प्रयोग(Ek hi thaile ke chatte batte)

परिचय: “एक ही थैले के चट्टे-बट्टे” यह कहावत उन लोगों या चीजों के बारे में कही जाती है जो बाहरी रूप से अलग दिखाई देते हों, लेकिन उनका स्वभाव या गुणधर्म समान होता है। यह अक्सर समान प्रवृत्ति या विचारधारा वाले लोगों पर लागू होती है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि भले ही दो लोग या चीजें बाहर से अलग दिखते हों, उनका मूल स्वभाव या गुणधर्म एक जैसा होता है।

उपयोग: इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता है जब दो व्यक्ति या चीजें बाहरी रूप में भिन्न होते हुए भी उनकी सोच और कार्य में समानता हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, दो राजनेता जो अलग-अलग दलों से हों लेकिन उनकी नीतियाँ और कार्यप्रणाली एक जैसी हों, तो कहा जा सकता है कि “वे एक ही थैले के चट्टे-बट्टे हैं।”

निष्कर्ष: यह कहावत हमें यह सिखाती है कि अक्सर बाहरी रूप या पहचान से इतर, लोगों की सोच और गुणधर्म में समानता हो सकती है। “एक ही थैले के चट्टे-बट्टे” होने का मतलब है कि बाहरी विभिन्नता के बावजूद, अंतर्निहित समानताएं हो सकती हैं।

Hindi Muhavare Quiz

एक ही थैले के चट्टे-बट्टे कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में दो भाई अंश और नियांत रहते थे। अंश देखने में सीधा-साधा और शांत स्वभाव का था, जबकि नियांत हमेशा चंचल और खुशमिजाज नजर आता था। गाँव वाले उन्हें देखकर अक्सर सोचते कि दोनों भाई कितने अलग हैं।

लेकिन, जब बात आती थी गाँव के विकास की, तो दोनों के विचार और काम करने के तरीके बिल्कुल एक जैसे होते। दोनों ही गाँव की भलाई के लिए समर्पित थे और हमेशा गाँव के हित में ही सोचते थे।

एक दिन गाँव में एक बड़ी समस्या आई। गाँव के एकमात्र कुएँ का पानी सूख गया था। अंश और नियांत दोनों ने मिलकर एक योजना बनाई और गाँववालों को इकट्ठा करके एक नया कुआँ खोदने का आयोजन किया। उनकी योजना और कठिन परिश्रम की बदौलत जल्द ही गाँव में फिर से पानी की समस्या हल हो गई।

इस घटना के बाद गाँव वाले अक्सर कहा करते, “अंश और नियांत तो एक ही थैले के चट्टे-बट्टे हैं। बाहर से भले ही अलग दिखें, लेकिन उनके विचार और कार्य में बहुत समानता है।”

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि अक्सर बाहरी रूप में भिन्नता होते हुए भी लोगों की सोच और कार्य में समानता हो सकती है। “एक ही थैले के चट्टे-बट्टे” कहावत इसी सिद्धांत को दर्शाती है।

शायरी:

चेहरे पर फर्क है, दिल में एकता की बात,

“एक ही थैले के चट्टे-बट्टे”, एक ही जज्बात।

दिखते अलग, फिर भी दिल से एक समान,

एक ही राह के मुसाफिर, एक ही अरमान।

बाहरी भिन्नता में भी, अंदर से एक अनुभव,

“एक ही थैले के चट्टे-बट्टे”, एक ही संग्अंश।

अलग अलग चेहरों में, एक ही कहानी होती है,

“एक ही थैले के चट्टे-बट्टे”, यही तो जिंदगानी होती है।

दो दिल, एक धड़कन, साथ चलें जब दो कदम,

“एक ही थैले के चट्टे-बट्टे”, एक ही सफर के हमदम।

 

एक ही थैले के चट्टे-बट्टे शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of एक ही थैले के चट्टे-बट्टे – Ek hi thaile ke chatte batte Proverb:

Introduction: “Ek hi thaile ke chatte batte” is a famous Hindi proverb. Through this proverb, we can understand a special aspect of life.

Meaning: “Ek hi thaile ke chatte batte” is a proverb used for people or things that may appear different externally but have similar nature or characteristics. It is often applied to people with similar tendencies or ideologies.

Usage: This proverb is used when two people or things, despite appearing different externally, have similarities in their thinking and actions.

Examples:

-> For instance, two politicians from different parties who have similar policies and methods of working can be said to be “cut from the same cloth.”

Conclusion: This proverb teaches us that often, beyond external appearance or identity, people can have similarities in their thinking and characteristics. Being “cut from the same cloth” means that despite external differences, there can be underlying similarities.

Story of Baap se bair, poot se sagai Proverb in English:

In a small village, there lived two brothers, Ansh and Niyant. Ansh appeared simple and calm, whereas Niyant always seemed lively and cheerful. The villagers often thought how different the two brothers were.

However, when it came to the development of the village, both had similar thoughts and ways of working. Both were dedicated to the welfare of the village and always thought in the best interest of their community.

One day, the village faced a major problem. The water in the village’s only well had dried up. Ansh and Niyant together devised a plan and gathered the villagers to dig a new well. Thanks to their plan and hard work, the water problem in the village was soon resolved.

After this incident, the villagers often said, “Ansh and Niyant are cut from the same cloth. They may look different outwardly, but their thoughts and actions are very similar.”

This story teaches us that people can have similarities in their thinking and actions, even if they appear different outwardly. The proverb “cut from the same cloth” illustrates this principle.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

क्या इस कहावत का उदाहरण देना संभव है?

हाँ, उदाहरण देना संभव है, जैसे कि एक ही स्थान से अगर कोई समस्या आ रही है तो उसका समाधान भी वहीं होना चाहिए।

क्या इस कहावत को सामाजिक संदेश के रूप में भी देखा जा सकता है?

हाँ, यह कहावत सामाजिक एकता और सहयोग की महत्वपूर्णता पर भी ध्यान केंद्रित कर सकती है।

इस कहावत का प्रयोग किस संदर्भ में किया जा सकता है?

इसे व्यापक रूप से स्थानीय समस्याओं के समाधान में या समृद्धि में भी आवश्यक योजनाओं की बातचीत में प्रयुक्त किया जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, इसमें कोई विरोधाभास नहीं है, बल्कि यह एक एकजुटता को प्रोत्साहित करती है।

इस कहावत का उपयोग किस विषय में किया जा सकता है?

यह कहावत किसी भी विषय में जहां सामंजस्य और एकता की आवश्यकता हो, उसमें उपयोगी हो सकती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।