Budhimaan

Home » Kahavaten » डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई, अर्थ, प्रयोग(Dedh pao aata pul par rasoi)

डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई, अर्थ, प्रयोग(Dedh pao aata pul par rasoi)

परिचय: “डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई” यह हिंदी की एक पारंपरिक कहावत है, जो अक्सर उन स्थितियों को व्यक्त करने के लिए प्रयोग की जाती है जहां किसी व्यक्ति या समूह द्वारा अनुपयुक्त या अव्यावहारिक स्थान पर कार्य किया जा रहा हो।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि किसी अस्थायी या अनुपयुक्त स्थान पर किसी कार्य को करना बेतुका और अप्रासंगिक होता है। यहाँ ‘डेढ़ पाव आटा’ और ‘पुल पर रसोई’ से अर्थ है कि किसी असुविधाजनक जगह पर अस्थायी तरीके से काम करना।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग की जाती है जब कोई व्यक्ति या समूह किसी ऐसे काम को करने का प्रयास कर रहा हो जो उस स्थान या परिस्थिति के लिए अनुपयुक्त हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक व्यक्ति ने बाजार के बीचोबीच एक छोटी सी जगह पर बड़ी दुकान खोलने का निर्णय लिया। इस स्थिति में कहा जा सकता है कि “उसका यह प्रयास ‘डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई’ के समान है।”

समापन: इस कहावत से हमें यह सीखने को मिलता है कि किसी भी काम को करने से पहले उसके लिए उपयुक्त स्थान और परिस्थितियों का चयन करना बेहद जरूरी है। यह हमें योजना बनाते समय व्यावहारिकता और समझदारी की महत्ता को समझने का संदेश देती है।

Hindi Muhavare Quiz

डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई कहावत पर कहानी:

एक बार के बात है, एक छोटे से शहर में अनूप नाम का एक व्यापारी रहता था। अनूप का सपना था कि वह शहर के मुख्य बाजार में एक बड़ी और आकर्षक दुकान खोले। उसने इस सपने को पूरा करने के लिए जमीन खोजना शुरू किया।

एक दिन, उसने बाजार के बीचोबीच एक छोटी सी जगह देखी जो बहुत ही संकरी थी। अनूप ने सोचा कि यह जगह भले ही छोटी हो, लेकिन बाजार के केंद्र में होने के कारण उसकी दुकान को अच्छी खासी भीड़ मिलेगी। इसलिए उसने उस जगह पर अपनी दुकान खोलने का निर्णय लिया।

दुकान खुलने के बाद, अनूप ने जल्द ही महसूस किया कि उसका निर्णय गलत था। दुकान इतनी संकरी थी कि ग्राहक अंदर आने में हिचकिचाते थे। दुकान में सामान रखने की भी पर्याप्त जगह नहीं थी। जल्द ही उसकी दुकान सुनसान हो गई।

गाँव के बुजुर्गों ने इसे देखकर कहा, “यह तो ‘डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई’ जैसी बात हो गई।” अनूप ने इस बात से सीखा कि किसी भी कार्य को करने से पहले उसके लिए उचित स्थान और परिस्थितियों का चयन करना जरूरी है।

इस कहानी के माध्यम से, “डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई” कहावत का अर्थ यह है कि किसी भी काम को करने के लिए सही स्थान और संसाधनों का होना आवश्यक है। अनुपयुक्त जगह पर किया गया काम अक्सर निष्फल होता है।

शायरी:

सपने बड़े हैं, जगह छोटी, ये कैसी उलझन बुनी है,

“डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई”, जिंदगी ने यही सिखनी है।

हर ख्वाहिश पर हकीकत की छाया, हर उम्मीद पर जगह की माया,

सोचा था जो आसमान छूना, पर जमीन की हकीकत ने रोका हर कदम।

जगह की तंगी में भी ख्वाब बुने, लेकिन हर सपने की अपनी जगह होती है,

जैसे हर बीज को जरूरत होती है अपनी मिट्टी की,

हर पंछी को अपने आसमान की।

जो चाहते हैं बिना सोचे, वो अक्सर भटक जाते हैं,

“डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई” जैसे, जिंदगी में अक्सर गिर जाते हैं।

चुनो वो राह जो तुम्हें तुम्हारी मंजिल तक ले जाए,

जहां तुम्हारे सपनों को सही जगह और मौका मिल पाए।

 

डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई – Dedh pao aata pul par rasoi Proverb:

Introduction: “Dedh pao aata pul par rasoi” is a traditional Hindi proverb often used to describe situations where an individual or group is undertaking a task in an unsuitable or impractical location.

Meaning: The proverb means that carrying out a task in a temporary or unsuitable place is absurd and irrelevant. Here, ‘Dedh pao aata’ and ‘pul par rasoi’ imply working in an inconvenient place in a temporary manner.

Usage: This proverb is used when a person or group attempts to do a task that is inappropriate for the place or situation.

Examples:

-> For instance, imagine a person decides to open a large shop in a very small space in the middle of a market. In this situation, it can be said, “His attempt is like ‘Dedh pao aata pul par rasoi’.”

Conclusion: This proverb teaches us that selecting an appropriate place and conditions for any task is extremely important. It conveys the importance of practicality and wisdom in planning.

Story of Dedh pao aata pul par rasoi Proverb in English:

Once upon a time in a small town, there lived a merchant named Anoop. Anoop dreamed of opening a large and attractive shop in the town’s main market. He started looking for a suitable location to fulfill this dream.

One day, he found a small space right in the middle of the market, which was quite narrow. Anoop thought that despite its small size, its central location in the market would attract a good crowd to his shop. Therefore, he decided to open his shop there.

After the shop opened, Anoop soon realized that his decision was a mistake. The shop was so narrow that customers hesitated to enter. There wasn’t enough space to store goods properly. Soon, his shop became deserted.

Seeing this, the elders of the town remarked, “This is just like ‘Dedh pao aata pul par rasoi’.” Anoop learned from this that it is essential to choose the right location and conditions for any task before undertaking it.

Through this story, the proverb “Dedh pao aata pul par rasoi” means that for any task, it is necessary to have the right location and resources. Work done in an inappropriate place often leads to failure.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या डेढ़ पाव आटा पुल पर रसोई का उपयोग व्यापक रूप से किया जा सकता है?

नहीं, यह कहावत एक विशिष्ट स्थिति या अवस्था को संदर्भित करने के लिए है और उसे व्यापक रूप से नहीं उपयोग किया जा सकता।

इस कहावत का उत्पत्ति क्या है?

इस कहावत का उत्पत्ति लोगों के अनुभवों और सामाजिक संदर्भों से होती है, जिससे यह स्थिति का सुझाव देने का कारण बनता है।

क्या इस कहावत का कोई विरोध है?

नहीं, इस कहावत को विरोधी कोई विचार नहीं है, क्योंकि यह सामाजिक और सांस्कृतिक पृष्ठबूमि पर आधारित है।

इस कहावत का उपयोग व्यापारिक संदर्भ में किस प्रकार से किया जा सकता है?

व्यापारिक संदर्भ में, इस कहावत का उपयोग एक स्थिति को साबित करने में किया जा सकता है जहाँ असंगतता होती है।

क्या इस कहावत का अनुसरण करके हम कुछ सीख सकते हैं?

हां, इस कहावत से हमें सुझाव मिलता है कि सही समय, स्थान और परिस्थितियों में ही किसी कार्रवाई को आरंभ करना चाहिए।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।