Budhimaan

Home » Kahavaten » चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले, अर्थ, प्रयोग (Chor lathi do jane aur ham baap poot akele)

चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले, अर्थ, प्रयोग (Chor lathi do jane aur ham baap poot akele)

परिचय: “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले” यह हिंदी की एक प्रचलित कहावत है, जो बल और साहस के महत्व को दर्शाती है। यह कहावत यह बताती है कि कभी-कभी एक मजबूत व्यक्ति या छोटा समूह, बड़े समूह के विपरीत भी सफल हो सकता है।

अर्थ: कहावत का शाब्दिक अर्थ है कि जब एक पिता और पुत्र मिलकर लड़ते हैं, तो वे दो चोरों को जो लाठियाँ लेकर आए होते हैं, हरा सकते हैं। यहाँ, बाप-पुत की जोड़ी एकता और मजबूती का प्रतीक है।

उपयोग: यह कहावत तब प्रयोग की जाती है जब किसी को यह दर्शाना होता है कि संख्या से ज्यादा महत्वपूर्ण है एकता और ताकत।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक छोटी सी टीम ने बड़ी टीम को क्रिकेट मैच में हरा दिया। इस स्थिति में कहा जा सकता है, “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले”।

समापन: इस प्रकार, “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले” कहावत हमें सिखाती है कि एकता और मजबूती संख्या बल से भी श्रेष्ठ होती है। यह हमें यह भी बताती है कि कठिन परिस्थितियों में भी छोटे समूह या व्यक्ति बड़े प्रतिद्वंद्वी को हरा सकते हैं।

Hindi Muhavare Quiz

चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अंश और उसके पिता रहते थे। अंश के पिता एक प्रसिद्ध पहलवान थे और अंश भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चल रहा था। एक दिन गाँव में दो चोर आए, जिन्होंने अंश के घर को निशाना बनाया। उन्होंने सोचा कि अंश और उसके पिता को हरा पाना आसान होगा।

जब अंश और उसके पिता को इसका पता चला, तो उन्होंने चोरों का सामना करने का निश्चय किया। चोर लाठियों से लैस थे, लेकिन अंश और उसके पिता ने अपने साहस और ताकत से उन्हें पराजित कर दिया। गाँव वाले उनकी वीरता से प्रभावित हुए और कहने लगे, “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले।”

इस घटना से गाँव वालों को यह सीख मिली कि संख्या बल से ज्यादा महत्वपूर्ण है एकता और साहस। अंश और उसके पिता ने दिखाया कि अगर मन में दृढ़ संकल्प हो तो छोटी टीम भी बड़ी चुनौतियों का सामना कर सकती है।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले” कहावत के अनुसार, एकता और साहस से किसी भी बड़ी बाधा को पार किया जा सकता है।

शायरी:

चोर लाठी लेकर आए दो, हम बाप पूत थे अकेले,
एकता में छुपी थी ताकत, बाँधी थी जो अनसुने मेले।
जहाँ लगे थे हम अकेले, वहाँ दिखा दिया कमाल,
जीत का जश्न मना हर दिल, गूंजा गाँव में ये हलचल।

दो चोरों की चालाकी पर, हमने वीरता से मात दी,
“चोर लाठी दो जने” में भी, अपनी एकता की बात दी।
हमारी ताकत थी हमारी एकता, जो लाई नयी उम्मीद,
बाप-पुत की जोड़ी ने, दिखाया साहस का नया दृश्य।

कहते हैं लोग बाप-पुत में, छुपी ताकत को न भूलो,
“चोर लाठी दो जने” में भी, साहस की गाथा को फूलो।
एकता की इस जीत में, हर चुनौती से लड़ जाओ,
चोरों की लाठी से नहीं, अपने साहस से बढ़ जाओ।

 

चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले – Chor lathi do jane aur ham baap poot akele Proverb:

Introduction: “Chor lathi do jane aur ham baap poot akele” is a popular Hindi proverb that highlights the importance of strength and courage. It suggests that sometimes a strong individual or a small group can be successful against a larger group.

Meaning: The literal meaning of the proverb is that when a father and son fight together, they can defeat two thieves who come armed with sticks. Here, the father-son duo symbolizes unity and strength.

Usage: This proverb is used to indicate that unity and strength are more important than the number of people.

Examples:

-> For instance, if a small team defeats a big team in a cricket match, one can say, “Chor lathi do jane aur ham baap poot akele.”

Conclusion: Thus, the proverb “Chor lathi do jane aur ham baap poot akele” teaches us that unity and strength are superior to the number of people. It also conveys that even in difficult situations, a small group or individual can overcome a larger adversary.

Story of Chor lathi do jane aur ham baap poot akele Proverb in English:

In a small village, there lived Ansh and his father. Ansh’s father was a renowned wrestler, and Ansh was following in his father’s footsteps. One day, two thieves targeted Ansh’s house, thinking that defeating Ansh and his father would be easy.

When Ansh and his father learned about this, they decided to confront the thieves. The thieves were armed with sticks, but Ansh and his father defeated them with their courage and strength. The villagers were impressed by their bravery and started saying, “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले.”

This incident taught the villagers that unity and courage are more important than the number of people. Ansh and his father showed that a small team, if determined, can face big challenges.

This story teaches us that, as per the proverb “चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले,” any significant obstacle can be overcome with unity and courage.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत का प्रयोग किस प्रकार के संदर्भ में किया जा सकता है?

इस कहावत का प्रयोग उन स्थितियों में किया जा सकता है जहां किसी को अपने से अधिक शक्तिशाली विरोधी का सामना करना पड़ रहा हो।

क्या यह कहावत किसी विशेष क्षेत्र या समुदाय से जुड़ी हुई है?

यह कहावत विशेष किसी क्षेत्र या समुदाय से नहीं जुड़ी हुई है, यह भारतीय संस्कृति में सामान्य रूप से प्रयोग की जाती है।

इस कहावत को किस तरह से समझाया जा सकता है?

इसे इस तरह समझाया जा सकता है कि जब सामना मुश्किल परिस्थितियों से हो, तो भी डटकर मुकाबला करना चाहिए।

क्या यह कहावत अन्य भाषाओं में भी प्रचलित है?

हां, इसी तरह की कहावतें अन्य भाषाओं में भी होती हैं, लेकिन शब्दों और भाव में थोड़ा अंतर हो सकता है।

इस कहावत का साहित्य में क्या स्थान है?

साहित्य में इस कहावत का प्रयोग अक्सर व्यक्तिगत साहस और संघर्ष की भावना को दर्शाने के लिए किया जाता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।