Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बद अच्छा, बदनाम बुरा अर्थ, प्रयोग (Bad Achha, Badnaam Bura)

बद अच्छा, बदनाम बुरा अर्थ, प्रयोग (Bad Achha, Badnaam Bura)

परिचय: ‘बद अच्छा, बदनाम बुरा’ भारतीय समाज में प्रचलित एक प्रसिद्ध हिंदी मुहावरा है। यह मुहावरा व्यक्तिगत और सामाजिक प्रतिष्ठा के संबंध में गहरी समझ दर्शाता है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि बुरा होना अपेक्षाकृत बेहतर है, बजाय बुरा कहलाने के। इसका मतलब यह है कि अगर आप बुरे काम कर भी रहे हैं, तो वह कम बुरा है बजाय इसके कि आपकी प्रतिष्ठा खराब हो। यह मुहावरा यह भी दर्शाता है कि समाज में प्रतिष्ठा और सम्मान का कितना महत्व है।

प्रयोग: इस मुहावरे का उपयोग अक्सर तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा पर बात आती है। यह उन परिस्थितियों में प्रयोग होता है जहां व्यक्ति के चरित्र या साख पर सवाल उठते हैं।

उदाहरण:

-> “सुभाष ने अपने व्यापार में छोटी-मोटी गलतियां की हैं, लेकिन वह कभी बदनाम नहीं हुआ। आखिर, बद अच्छा, बदनाम बुरा।”

-> “अगर आपकी अच्छी प्रतिष्ठा है, तो छोटी गलतियां माफ हो सकती हैं, क्योंकि बद अच्छा, बदनाम बुरा।”

निष्कर्ष: ‘बद अच्छा, बदनाम बुरा’ मुहावरा हमें यह सिखाता है कि समाज में हमारी प्रतिष्ठा और सम्मान बहुत महत्वपूर्ण है। यह बताता है कि किसी भी परिस्थिति में हमें अपनी छवि और सम्मान की रक्षा करनी चाहिए, भले ही हमसे कुछ गलतियां हो जाएं। यह मुहावरा समाज में चरित्र और साख की महत्वता को रेखांकित करता है।

बद अच्छा, बदनाम बुरा मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में प्रेमचंद्र नाम का एक ईमानदार और मेहनती किसान रहता था। प्रेमचंद्र की सबसे बड़ी खूबी उसकी ईमानदारी थी। गाँव में उसकी अच्छी प्रतिष्ठा थी और सभी उसे सम्मान देते थे।

एक बार, प्रेमचंद्र को अपनी फसलों के लिए ज्यादा पानी की जरूरत पड़ी। उसने सोचा कि वह रात में चुपके से अपने पड़ोसी के खेत से कुछ पानी ले लेगा। प्रेमचंद्र ने ऐसा किया भी, लेकिन उसी रात, गाँव के कुछ लोगों ने उसे देख लिया।

अगले दिन, पूरे गाँव में यह बात फैल गई कि प्रेमचंद्र ने चोरी की है। प्रेमचंद्र की इस हरकत से गाँववालों का विश्वास उससे उठ गया और उसकी प्रतिष्ठा धूमिल हो गई। प्रेमचंद्र को तब एहसास हुआ कि उसकी छोटी सी गलती ने उसके सारे अच्छे कामों को नजरअंदाज कर दिया।

प्रेमचंद्र ने तब गाँववालों से माफी माँगी और वादा किया कि वह आगे से कभी भी ऐसी गलती नहीं करेगा। गाँववालों ने प्रेमचंद्र की ईमानदारी को देखते हुए उसे माफ कर दिया, लेकिन प्रेमचंद्र को समझ आ गया कि ‘बद अच्छा, बदनाम बुरा’। उसे यह भी समझ आया कि प्रतिष्ठा एक बार खोने पर वापस पाना बहुत कठिन होता है।

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि प्रतिष्ठा का महत्व होता है और उसे बनाए रखने के लिए हमें हमेशा सही रास्ते पर चलना चाहिए। गलतियां हो सकती हैं, लेकिन उन्हें स्वीकार करते हुए सुधार की ओर बढ़ना चाहिए।

शायरी:

कुछ गलतियाँ कर बैठा था मैं, बदनाम हो गया,

दुनिया की नजरों में अच्छा था, अनजान हो गया।

चर्चाएं होती रहीं गलियों में, जैसे शोर हवाओं में,

बद अच्छा था मैं, पर बदनामी की आग में जला।

कहते हैं लोग, ‘बद अच्छा, बदनाम बुरा’,

मेरी एक गलती ने सब कुछ बिखेर दिया।

सच कहूँ तो दुनिया में इज्जत की बात अलग,

खुद को पाक साफ रखना, ये जंग हर रोज की।

बदनामी के दाग से अच्छा है, खामोश रहना,

इस दुनिया में नाम ही आखिरी सच है, मेरे दोस्त।

 

बद अच्छा, बदनाम बुरा

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बद अच्छा, बदनाम बुरा – Bad achcha, Badnam bura Idiom:

Introduction: ‘Bad Achha, Badnaam Bura’ is a famous Hindi idiom prevalent in Indian society. This idiom deeply reflects the understanding of personal and social reputation.

Meaning: The meaning of this idiom is that being bad is relatively better than being defamed. It implies that if you are doing bad deeds, it is less harmful than having your reputation tarnished. This idiom also highlights how important reputation and respect are in society.

Usage: This idiom is often used when discussing a person’s reputation. It is applied in situations where questions arise about an individual’s character or integrity.

Example:

-> “Subhash made some minor mistakes in his business, but he was never defamed. After all, it’s better to be bad than to be defamed.”

-> “If you have a good reputation, small mistakes can be forgiven, because it’s better to be bad than to be defamed.”

Conclusion: The idiom ‘Bad Achha, Badnaam Bura’ teaches us that our reputation and respect in society are very important. It tells us that we should protect our image and honor in any situation, even if we make some mistakes. This idiom underlines the importance of character and reputation in society.

Story of ‌‌Bad Achha, Badnaam Bura Idiom in English:

In a small village, there lived an honest and hardworking farmer named Premchandra. Premchandra’s greatest virtue was his honesty. He had a good reputation in the village, and everyone respected him.

Once, Premchandra needed extra water for his crops. He thought of secretly taking some water from his neighbor’s field at night. Premchandra did so, but that very night, some villagers saw him.

The next day, the whole village buzzed with the news that Premchandra had stolen water. This act shattered the villagers’ trust in him and tarnished his reputation. Premchandra realized that his minor mistake had overshadowed all his good deeds.

Premchandra then apologized to the villagers and promised never to make such a mistake again. The villagers, seeing his honesty, forgave him, but Premchandra understood the proverb ‘Bad Achha, Badnaam Bura’ (‘better to be bad than defamed’). He also realized how difficult it is to regain lost reputation.

This story teaches us the importance of maintaining a good reputation and that we should always walk the path of righteousness. Mistakes may happen, but we should acknowledge them and strive for improvement.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।