Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » औरत का गुस्सा खुदा का कहर अर्थ, प्रयोग (Aurat ka gussa khuda ka kahar)

औरत का गुस्सा खुदा का कहर अर्थ, प्रयोग (Aurat ka gussa khuda ka kahar)

परिचय: हिंदी भाषा समृद्ध है अपने अनेक मुहावरों और लोकोक्तियों से, जो न केवल भाषा की शोभा बढ़ाते हैं, बल्कि जीवन के विभिन्न पहलुओं को भी दर्शाते हैं। “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” एक ऐसा ही मुहावरा है जो भावनाओं और प्रतिक्रियाओं के गहरे संदर्भ को प्रस्तुत करता है।

अर्थ: इस मुहावरे का सामान्य अर्थ है कि जब एक औरत गुस्से में होती है, तो उसका प्रकोप अत्यंत भयानक होता है, जैसे कि खुदा का कहर। यह औरतों की भावनाओं की तीव्रता और उनके प्रतिक्रिया की शक्ति को दर्शाता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उन स्थितियों में किया जाता है जहां औरतों की गहरी भावनाओं और प्रतिक्रियाओं को व्यक्त करने की आवश्यकता होती है। यह किसी विशेष स्थिति या घटना के प्रति औरतों की प्रतिक्रिया की तीव्रता को बयां करता है।

उदाहरण:

-> जब सुमन ने अपने बच्चों पर अन्याय होते देखा, तो उसके गुस्से को देखकर लगा जैसे “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” हो।

-> राजनीति में जब कभी महिला नेता ने अपनी मजबूत प्रतिक्रिया दिखाई, तो लोगों ने कहा कि वाकई “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” होता है।

निष्कर्ष: “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि औरतों की भावनाएं और उनकी प्रतिक्रियाएं अत्यंत शक्तिशाली होती हैं और उन्हें हल्के में नहीं लेना चाहिए। यह हमें यह भी बताता है कि समाज में महिलाओं की भूमिका और उनकी आवाज कितनी महत्वपूर्ण है। इस प्रकार, यह मुहावरा हमारी सांस्कृतिक समृद्धि का एक अभिन्न अंग है।

औरत का गुस्सा खुदा का कहर मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में मीरा नाम की एक साधारण महिला रहती थी। वह अपने पति और दो बच्चों के साथ एक सुखी जीवन बिता रही थी।

एक दिन, गाँव के एक प्रभावशाली व्यक्ति ने मीरा के पति की जमीन पर नाजायज कब्जा कर लिया। मीरा और उसके पति ने बहुत कोशिश की पर उन्हें न्याय नहीं मिला। मीरा के पति ने हार मान ली, पर मीरा ने ठान लिया कि वह अपने हक के लिए लड़ेगी।

मीरा ने अपने पति की जमीन वापस पाने के लिए अदालत में केस दर्ज किया। उसने अपनी सच्चाई और साहस के साथ संघर्ष किया। उसका यह संघर्ष इतना तीव्र था कि पूरे गाँव में उसकी चर्चा होने लगी।

अंततः, मीरा की मेहनत और दृढ़ संकल्प की जीत हुई। अदालत ने उसके पक्ष में फैसला सुनाया, और उसके पति की जमीन उन्हें वापस मिल गई।

मीरा की यह कहानी हमें बताती है कि “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” कैसे होता है। जब औरत अपने हक के लिए लड़ती है, तो उसका संघर्ष और साहस अत्यंत प्रभावशाली होता है, और वह किसी भी बाधा को पार कर सकती है। मीरा की यह कहानी एक प्रेरणा है कि कैसे एक महिला का दृढ़ निश्चय और गुस्सा, समाज में बदलाव ला सकता है।

शायरी:

जब औरत का गुस्सा आसमान छूता है,
हर जुल्म का पर्दा, फिर वो ही उठाती है।
खुदा का कहर जैसी, उसकी आंधी में,
हर बेइंसाफी का चिराग, वो बुझाती है।

उसकी आंखों में बसी, तूफानी चिंगारी,
जैसे रात के अंधेरे में, तारों की लड़ी।
उसके इरादों की गहराई, समंदर से गहरी,
जहां हर लहर कहती, “इंसाफ यहीं पड़ी।”

उसके कदमों की धमक, अन्याय को डराती,
जैसे बादलों की गर्जन, धरती को चेताती।
औरत का गुस्सा, जब खुदा का कहर बनता,
हर ज़ुल्म की दीवार, वो आवाज से हिलाती।

उसकी जुबां पर जब, इंसाफ का तराना हो,
हर दर्द की दवा, उसकी आवाज में बसी।
औरत की यह ताकत, इतिहास गवाह है,
जब जब उठी तलवार, दुनिया ने सलाम किया।

 

औरत का गुस्सा खुदा का कहर शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of औरत का गुस्सा खुदा का कहर – Aurat ka gussa khuda ka kahar Idiom:

Introduction: The Hindi language is enriched with numerous idioms and proverbs, which not only enhance the beauty of the language but also reflect various aspects of life. “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” (A woman’s anger is like God’s wrath) is one such idiom that represents deep emotions and reactions.

Meaning: The general meaning of this idiom is that when a woman is angry, her fury can be terribly fierce, akin to the wrath of God. It symbolizes the intensity of women’s emotions and the power of their reactions.

Usage: This idiom is often used in situations where it’s necessary to express the deep feelings and reactions of women. It describes the intensity of a woman’s response to a particular situation or event.

Example:

-> When Suman saw injustice being done to her children, her anger seemed like “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” (A woman’s anger is like God’s wrath).

-> In politics, whenever a female leader showed her strong response, people said that indeed “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” (A woman’s anger is like God’s wrath).

Conclusion: The idiom “औरत का गुस्सा खुदा का कहर” (A woman’s anger is like God’s wrath) teaches us that the feelings and reactions of women are extremely powerful and should not be taken lightly. It also tells us how important the role and voice of women are in society. Thus, this idiom is an integral part of our cultural richness.

Story of ‌‌Aurat ka gussa khuda ka kahar Idiom in English:

In a small village, there lived a simple woman named Meera. She was leading a happy life with her husband and two children. One day, an influential person in the village unlawfully seized the land belonging to Meera’s husband. Meera and her husband tried hard but failed to get justice. Her husband gave up, but Meera resolved to fight for her rights.

Meera filed a case in court to reclaim her husband’s land. She fought with truth and courage. Her struggle was so intense that it became the talk of the entire village. Eventually, Meera’s hard work and determination paid off. The court ruled in her favor, and her husband’s land was returned to them.

Meera’s story tells us how “a woman’s anger is like God’s wrath.” When a woman fights for her rights, her struggle and courage are immensely powerful, and she can overcome any obstacle. Meera’s story is an inspiration, showing how a woman’s firm resolve and anger can bring about change in society.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।