Budhimaan

Home » Kahavaten » अटका बनिया दे उधार, अर्थ, प्रयोग(Atka Baniya de udhar)

अटका बनिया दे उधार, अर्थ, प्रयोग(Atka Baniya de udhar)

“अटका बनिया दे उधार” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जिसका शाब्दिक अर्थ है कि जब किसी व्यापारी का व्यापार अटक जाता है, तो वह उधार देने लगता है। यह कहावत व्यापारिक जीवन की एक विशेष स्थिति को दर्शाती है।

परिचय: इस कहावत का उपयोग उस स्थिति को व्यक्त करने के लिए किया जाता है जब कोई व्यापारी अपने व्यापार में फंस जाता है और उसे चलाने के लिए उधार देना शुरू कर देता है। यह आर्थिक अस्थिरता और व्यापारिक चुनौतियों की ओर इशारा करता है।

अर्थ: कहावत का मूल अर्थ यह है कि जब व्यापार में मंदी आती है और व्यापारी को अपने सामान की बिक्री में कठिनाई होती है, तो वह उधार देने का विकल्प चुनता है ताकि अपने व्यापार को चालू रख सके।

उपयोग: यह कहावत आमतौर पर व्यापार और अर्थशास्त्र के संदर्भ में प्रयोग की जाती है, जब कोई व्यापारी अपने व्यापार की स्थिति को सुधारने के लिए उधार देने लगता है।

उदाहरण:

-> एक व्यापारी जिसका कपड़े का व्यापार था, उसे बाजार में मंदी के कारण ग्राहक कम मिल रहे थे। इसलिए, उसने ग्राहकों को उधार पर सामान देना शुरू कर दिया ताकि व्यापार चलता रहे। यहाँ “अटका बनिया दे उधार” कहावत सटीक बैठती है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिख मिलती है कि व्यापारिक चुनौतियाँ और आर्थिक अस्थिरता के समय में व्यापारी उधार देने का विकल्प अपनाते हैं। यह हमें व्यापार में लचीलेपन और समायोजन की आवश्यकता का भी संदेश देती है।

Hindi Muhavare Quiz

अटका बनिया दे उधार कहावत पर कहानी:

एक छोटे से शहर में सुभाष नाम का एक व्यापारी रहता था। उसकी दुकान में विभिन्न प्रकार के कपड़े और सामान बिकते थे। वह अपनी ईमानदारी और गुणवत्तापूर्ण सामान के लिए जाना जाता था। लेकिन एक वर्ष, उसके शहर में एक बड़ा मॉल खुल गया, जिसके कारण उसकी दुकान की बिक्री में काफी गिरावट आई।

सुभाष ने देखा कि ग्राहक अब मॉल की ओर आकर्षित हो रहे हैं और उसकी दुकान पर बहुत कम लोग आ रहे हैं। उसने अपने व्यापार को बचाने के लिए कई तरह की योजनाएं बनाईं, लेकिन कोई भी कामयाब नहीं हुई। फिर उसने सोचा कि क्यों न वह ग्राहकों को उधार पर सामान देना शुरू कर दे।

इस नई योजना के तहत, सुभाष ने ग्राहकों को उधार पर सामान देना शुरू किया। धीरे-धीरे, लोगों ने उसकी दुकान पर आना फिर से शुरू कर दिया क्योंकि उधार की सुविधा उन्हें मॉल में नहीं मिल रही थी। इस तरह, सुभाष का व्यापार फिर से पटरी पर आ गया।

इस कहानी से हमें “अटका बनिया दे उधार” कहावत का सही अर्थ समझ में आता है। जब सुभाष का व्यापार अटक गया, तब उसने उधार देने का निर्णय लिया और इससे उसका व्यापार फिर से चल पड़ा। यह कहावत हमें यह सिखाती है कि कठिन समय में नए विकल्पों की तलाश और अनुकूलन करना कितना महत्वपूर्ण होता है।

शायरी:

जब व्यापार में आ जाए कभी रुकावट,

“अटका बनिया दे उधार” हो जाता है अजब बात।

दुनिया की रीत है, जब रुक जाए कारोबार,

उधार के वादे से ही बनता है फिर व्यापार।

कभी जो चलता था बाजार में राज,

आज वही बनिया उधार की दे रहा सांत्वना आज।

बिक्री में मंदी जब आ जाती है भारी,

उधार का दरवाजा खोल देती है नई राह यारी।

जीवन की इस चक्की में, हर कोई बनता फकीर,

“अटका बनिया दे उधार”, इसमें छुपा है जीवन का तकदीर।

 

अटका बनिया दे उधार शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of अटका बनिया दे उधार – Atka Baniya de udhar Proverb:

“Atka Baniya de udhar” is a prevalent Hindi proverb, which literally means that when a merchant’s business gets stuck, he starts giving loans. This proverb illustrates a specific situation in commercial life.

Introduction: This proverb is used to describe the situation when a merchant finds himself stuck in his business and begins to offer credit to keep it running. It points towards economic instability and commercial challenges.

Meaning: The core meaning of this proverb is that when a downturn occurs in business and the merchant finds it difficult to sell his goods, he opts to provide goods on credit to keep his business afloat.

Usage: This proverb is commonly used in the context of business and economics, when a merchant starts giving credit to improve the condition of his business.

Examples:

A merchant who had a clothing business found fewer customers due to a market slowdown. Therefore, he began offering goods on credit to keep his business running. Here, the proverb “Atka Baniya de udhar” fits perfectly.

Conclusion: This proverb teaches us that merchants adopt the option of giving credit during times of business challenges and economic instability. It also conveys the need for flexibility and adaptation in business.

Story of Atka Baniya de udhar Proverb in English:

In a small town, there lived a merchant named Subhash. He owned a shop that sold various types of clothes and items. He was known for his honesty and the quality of his goods. However, one year, a large mall opened in his town, which significantly reduced the sales at his shop.

Subhash noticed that customers were now attracted to the mall and very few were visiting his shop. He tried several strategies to save his business, but none of them were successful. Then, he thought of starting to offer goods on credit to his customers.

Under this new scheme, Subhash began offering goods on credit. Gradually, people started visiting his shop again as the credit facility was not available at the mall. This way, Subhash’s business got back on track.

This story helps us understand the true meaning of the proverb “Atka Baniya de udhar”. When Subhash’s business was stuck, he decided to offer goods on credit, and this helped his business to pick up again. The proverb teaches us the importance of exploring new options and adapting during tough times.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

इस कहावत में छुपा गुढ़ अर्थ क्या है?

“अटका बनिया दे उधार” में छुपा गुढ़ अर्थ है कि समस्या में पड़े व्यक्ति को उधार मिलना चाहिए।

इस कहावत का सामाजिक संदेश क्या है?

इसका सामाजिक संदेश है कि समृद्धि में होने पर हमें उन्नति करने वालों की मदद करनी चाहिए।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, इस कहावत में कोई विरोधाभास नहीं है, बल्कि यह एक सामाजिक साझेदारी की भावना को प्रोत्साहित करती है।

इस कहावत का प्रयोग किस परिस्थिति में किया जा सकता है?

इस कहावत का प्रयोग वित्तीय कठिनाइयों, उधारी लेने या देने के समय या आर्थिक समस्याओं में हो सकता है।

इस कहावत का क्या उपयोग हिंदी कविताओं में होता है?

कविताओं में इस कहावत का प्रयोग विभिन्न परिस्थितियों और व्यक्तिगत अनुभवों को व्यक्त करने के लिए किया जा सकता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।