Budhimaan

Home » Kahavaten » अति भक्ति चोर के लक्षण, अर्थ, प्रयोग(Ati bhakti chor ke lakshan)

अति भक्ति चोर के लक्षण, अर्थ, प्रयोग(Ati bhakti chor ke lakshan)

“अति भक्ति चोर के लक्षण” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ है कि अत्यधिक दिखावटी भक्ति या समर्पण अक्सर संदेहास्पद या छल का संकेत हो सकता है। इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति अपनी वफादारी या समर्पण को अतिशयोक्ति पूर्ण तरीके से प्रदर्शित करता है, जिससे उसके इरादों पर संदेह होता है।

परिचय: यह कहावत व्यक्ति के बाहरी प्रदर्शन और आंतरिक इरादों के बीच के अंतर को दर्शाती है। अक्सर यह देखा जाता है कि जो लोग बहुत अधिक भक्ति या निष्ठा दिखाते हैं, उनके इरादे हमेशा शुद्ध नहीं होते।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि जो लोग अपने भक्ति या वफादारी का अतिरिक्त प्रदर्शन करते हैं, वे अक्सर कुछ छिपाने की कोशिश में होते हैं। यह दिखावटी भक्ति संदेह का कारण बनती है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग तब किया जाता है जब किसी के अतिरिक्त प्रदर्शन पर संदेह होता है, या जब किसी व्यक्ति के अत्यधिक प्रेम या भक्ति के पीछे छिपे उलझन को समझना हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक कर्मचारी अपने बॉस के प्रति अत्यधिक भक्ति दिखाता है, लेकिन उसकी इस भक्ति के पीछे वास्तव में उसकी पदोन्नति की इच्छा छुपी होती है। यहाँ, “अति भक्ति चोर के लक्षण” कहावत इस स्थिति का वर्णन करती है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि हर बार जो दिखाई देता है, वह सच नहीं होता। अत्यधिक दिखावटी भक्ति या समर्पण के पीछे कभी-कभी छिपे हुए स्वार्थ या अन्य इरादे होते हैं। इसलिए, व्यक्ति के व्यवहार को समझते समय सतर्कता बरतनी चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

अति भक्ति चोर के लक्षण कहावत पर कहानी:

किसी गाँव में अनुभव नामक एक लड़का रहता था। अनुभव की आदत थी कि वह हमेशा अपने आस-पास के लोगों के प्रति अत्यधिक भक्ति और समर्पण दिखाता था। वह हर किसी की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहता और उनकी प्रशंसा में कोई कसर नहीं छोड़ता।

गाँव के लोग अनुभव की इस अत्यधिक भक्ति से बहुत प्रभावित थे। लेकिन गाँव के मुखिया, मुनीश बाबू को अनुभव के इस व्यवहार पर संदेह होने लगा। उन्हें लगता था कि अनुभव की इस अत्यधिक भक्ति के पीछे कुछ और ही कारण है।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा उत्सव आयोजित हुआ। अनुभव ने उत्सव के दौरान मुखिया की बहुत सेवा की और उनकी हर बात का ख्याल रखा। लेकिन उत्सव के बाद, गाँव के कोष से कुछ धन गायब हो गया। मुनीश बाबू को शक हुआ कि इसमें अनुभव का हाथ हो सकता है।

जब जांच हुई, तो पता चला कि वास्तव में अनुभव ने ही धन की चोरी की थी। वह अपनी अत्यधिक भक्ति का दिखावा करके सबका ध्यान भटका रहा था और अपने छिपे हुए इरादों को पूरा कर रहा था।

गाँव के लोग समझ गए कि “अति भक्ति चोर के लक्षण” होती है। उन्होंने सीखा कि किसी के भी बाहरी प्रदर्शन पर आंख बंद करके विश्वास नहीं करना चाहिए और हमेशा सतर्क रहना चाहिए।

शायरी:

जब जब देखा है अति भक्ति का नज़ारा, दिल में उठी है शंका बेचारा,

जैसे चाँदनी में भी होते हैं दाग, ऐसे भक्ति में छुपा होता छल का राग।

कहते हैं ज्यादा प्यार के पीछे, कुछ तो होता है उलझन का ताना-बाना,

जैसे कोहरे में छिपा होता है सवेरा, वैसे भक्ति में छुपा होता खेल पुराना।

अति भक्ति के इस मेले में, अक्सर छुप जाते हैं चेहरे अनेक,

जैसे रात के अंधेरे में खो जाती है रोशनी, वैसे भक्ति में छिप जाती है सच्चाई की बेखुदी।

‘अति भक्ति चोर के लक्षण’, इस कहावत में छिपा है जीवन का सबक,

जो समझा इसे गहराई से, उसने पाया दुनिया में सच्चाई का मक़ाम।

 

अति भक्ति चोर के लक्षण शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of अति भक्ति चोर के लक्षण – Ati bhakti chor ke lakshan Proverb:

The Hindi proverb “Ati bhakti chor ke lakshan” translates to “Excessive devotion is a characteristic of a thief,” implying that overly demonstrative devotion or commitment is often suspicious or indicative of deceit. This proverb is used when a person exhibits their loyalty or dedication in an exaggerated manner, leading to doubts about their intentions.

Introduction: The proverb highlights the difference between a person’s external show and their internal intentions. It is often observed that those who display excessive devotion or loyalty do not always have pure intentions.

Meaning: The meaning of this proverb is that people who excessively demonstrate their devotion or loyalty are often trying to hide something. This ostentatious devotion becomes a cause for suspicion.

Usage: This proverb is used when there is doubt over someone’s excessive display, or when it is necessary to understand the complexities behind someone’s excessive love or devotion.

Examples:

-> For instance, an employee shows extreme devotion towards their boss, but in reality, this devotion is a cover for their desire for promotion. Here, the proverb “Excessive devotion is a characteristic of a thief” aptly describes the situation.

Conclusion: The proverb teaches us that not everything that appears to be true is actually true. Sometimes, hidden selfish motives or other intentions lie behind excessive showy devotion or commitment. Therefore, caution should be exercised while understanding a person’s behavior.

Story of Ati bhakti chor ke lakshan Proverb in English:

In a village, there lived a boy named Anubhav. Anubhav had a habit of always showing excessive devotion and dedication towards the people around him. He was always ready to help everyone and never missed a chance to praise them.

The villagers were greatly impressed by Anubhav’s extreme devotion. However, Munish Babu, the village head, began to suspect Anubhav’s behavior. He felt that there was some other reason behind Anubhav’s excessive devotion.

One day, a big festival was organized in the village. During the festival, Anubhav served the village head extensively and took care of all his needs. However, after the festival, some money from the village fund went missing. Munish Babu suspected that Anubhav might be involved.

Upon investigation, it was discovered that Anubhav had indeed stolen the money. He had been diverting everyone’s attention with his show of excessive devotion while fulfilling his hidden intentions.

The villagers realized that “Excessive devotion is a characteristic of a thief.” They learned that one should not blindly trust anyone’s external display and should always remain vigilant.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

FAQs:

कैसे पहचाना जा सकता है कि भक्ति अत्यधिक है?

अगर कोई व्यक्ति अधिकतम सीमा से अधिक प्रशंसा और भक्ति दिखा रहा है, तो इसे सावधानीपूर्वक देखना चाहिए।

क्या इस कहावत का इस्तेमाल सामाजिक संबंधों में भी हो सकता है?

हाँ, यह कहावत सामाजिक संबंधों में भी अत्यधिक प्रतिबद्धता दिखाने वाले के लिए उपयुक्त है।

क्या इसका कोई सार्थक उदाहरण है?

हाँ, यदि कोई व्यक्ति किसी के प्रति अत्यधिक चापलूसी दिखा रहा है और उसकी महत्वाकांक्षा संदेहजनक हो, तो यह कहावत उस पर लागू हो सकती है।

क्या भक्ति में सीमा निर्धारित करना संभव है?

हाँ, व्यक्ति को चाहिए कि वह अपनी भक्ति को सीमित रखें और अत्यधिकता से बचें।

क्या इस कहावत का इस्तेमाल व्यापारिक परिस्थितियों में भी हो सकता है?

हाँ, यह कहावत व्यापारिक संबंधों में भी उचित है, खासकर जब किसी को अत्यधिक चापलूसी दिखाई दे।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।