Budhimaan

Home » Kahavaten » अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता, अर्थ, प्रयोग(Apne mare bina swarg nahi dikhta)

अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता, अर्थ, प्रयोग(Apne mare bina swarg nahi dikhta)

परिचय: अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता, यह कहावत जीवन में कठिन परिस्थितियों और चुनौतियों के महत्व को दर्शाती है। इसका अर्थ है कि बिना कष्ट या संघर्ष के हम जीवन के सच्चे मूल्य और सुख की सराहना नहीं कर सकते।

अर्थ: “अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता” कहावत का सामान्य अर्थ यह है कि बिना कठिनाइयों और संघर्षों का सामना किए बिना जीवन के सच्चे आनंद और सफलता का अनुभव नहीं हो सकता।

उपयोग: इस कहावत का इस्तेमाल तब किया जाता है जब किसी को यह बताना होता है कि कठिनाइयाँ और संघर्ष जीवन के अनिवार्य हिस्से हैं और इनसे ही हमारी व्यक्तित्व की मजबूती और विकास होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक छात्र जो हमेशा अध्ययन से बचता है और संघर्ष से दूर भागता है, परीक्षा में असफल होता है। उसे समझ आता है कि बिना मेहनत और संघर्ष के सफलता नहीं मिल सकती। यहाँ “अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता” कहावत उसके जीवन की स्थिति को सटीक रूप से दर्शाती है।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि कठिनाइयों और संघर्षों का सामना करना ही जीवन में असली सुख और सफलता का मार्ग प्रशस्त करता है। यह हमें बताती है कि जीवन में कठिन परिस्थितियों को गले लगाना और उनसे सीखना महत्वपूर्ण है।

Hindi Muhavare Quiz

अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता कहावत पर कहानी:

एक छोटे गांव में विशाल नाम का एक युवक रहता था। विशाल हमेशा आसानी और सुख की तलाश में रहता था, और कठिन परिस्थितियों से बचने की कोशिश करता था। वह अक्सर कहता, “मुझे कठिन रास्तों से क्या लेना-देना, मैं तो आसान और सुखद जीवन चाहता हूँ।”

एक दिन, विशाल के पिता ने उसे समझाया, “बेटा, जीवन में संघर्ष से ही सफलता की राह बनती है। ‘अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता’ – यह कहावत याद रखना।”

विशाल को पहले तो अपने पिता की बातें अजीब लगीं, लेकिन जल्द ही उसे एक जीवन परिवर्तनकारी अनुभव हुआ। उसने एक व्यापार शुरू किया जिसमें शुरुआत में उसे कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। वह कई बार असफल हुआ, लेकिन हार नहीं मानी।

धीरे-धीरे विशाल ने अपनी गलतियों से सीखा और अपने व्यापार को सुधारा। उसकी कड़ी मेहनत और संघर्ष ने उसे सफलता की ओर ले जाया। विशाल को अब समझ आ गया कि सच्चा सुख और संतोष उन कठिनाइयों के बाद ही महसूस होता है जिनका हम सामना करते हैं।

विशाल ने महसूस किया कि “अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता” कहावत का अर्थ जीवन के संघर्षों को स्वीकार करने और उनसे सीखने में ही निहित है। उसने सीखा कि कठिनाइयों का सामना करने से ही जीवन में असली सुख और सफलता की अनुभूति होती है।

शायरी:

स्वर्ग की चाहत में जो भटकता फिरता है,
वो अपने दर्द की कहानी नहीं बिखेरता है।
“अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता”,
हर संघर्ष में यही राज छिपा होता है।

जीवन के हर मोड़ पे इम्तिहान नया होता है,
हर दर्द में एक सबक छिपा होता है।
“अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता”,
हर कठिनाई में एक सुख का द्वार खुलता है।

दर्द की गहराइयों में ही तो सुख का संसार है,
“अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता”, यही प्यार है।
जिसने इसे समझा, वही तो सच्चा जीवनी है,
संघर्षों की राह में ही सच्ची मंजिलें हैं।

 

अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता – Apne mare bina swarg nahi dikhta Proverb:

Introduction: This proverb highlights the importance of difficult situations and challenges in life. It implies that without experiencing hardship or struggle, we cannot appreciate the true value and joy of life.

Meaning: The proverb “Apne mare bina swarg nahi dikhta” generally means that without facing difficulties and struggles, one cannot experience the true joys and successes of life.

Usage: This saying is used to convey that hardships and struggles are integral parts of life, and it is through these that our personalities are strengthened and developed.

Examples:

-> Consider a student who always avoids studying and shies away from challenges but fails in exams. They realize that success cannot be achieved without hard work and struggle. Here, the proverb “Apne mare bina swarg nahi dikhta” aptly describes their life situation.

Conclusion: This proverb teaches us that facing difficulties and struggles paves the way for true happiness and success in life. It tells us that embracing life’s challenges and learning from them is crucial.

Story of Apne mare bina swarg nahi dikhta Proverb in English:

In a small village lived a young man named Vishal. He was always in search of ease and comfort, trying to avoid difficult situations. He often said, “Why should I bother with tough paths? I just want an easy and pleasant life.”

One day, Vishal’s father explained to him, “Son, it’s through struggles that the path to success is forged. Remember the saying, ‘Without enduring death, one cannot see heaven.'”

Initially, Vishal found his father’s words strange, but soon he had a life-changing experience. He started a business, which initially faced many challenges. He failed multiple times but did not give up.

Gradually, Vishal learned from his mistakes and improved his business. His hard work and struggles led him toward success. Vishal realized that true happiness and contentment come only after facing difficulties.

Vishal understood that the meaning of the proverb “Without enduring death, one cannot see heaven” lies in embracing life’s struggles and learning from them. He learned that facing challenges is the key to experiencing true joy and success in life.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।