Budhimaan

Home » Kahavaten » अपना रख पराया चख, अर्थ, प्रयोग(Apna rakh paraya chakh)

अपना रख पराया चख, अर्थ, प्रयोग(Apna rakh paraya chakh)

“अपना रख पराया चख” एक लोकप्रिय हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ है कि अपनी चीजों को सुरक्षित रखना चाहिए और दूसरों की चीजों का सिर्फ आनंद लेना चाहिए।

परिचय: यह कहावत हमें सिखाती है कि अपनी वस्तुओं का महत्व समझें और उन्हें सहेज कर रखें, जबकि दूसरों की चीजों को केवल आनंद उठाने की भावना से देखें।

अर्थ: “अपना रख पराया चख” का मतलब है कि अपने संसाधनों को संभालकर रखें और दूसरों की चीजों का उपयोग करते समय सावधानी बरतें। इससे आपकी चीजें सुरक्षित रहेंगी और दूसरों की संपत्ति का भी सम्मान होगा।

उपयोग: इस कहावत का इस्तेमाल तब किया जाता है जब किसी को यह समझाना होता है कि अपनी चीजों को सहेज कर रखना और दूसरों की चीजों का उपयोग करते समय सम्मान और सावधानी बरतना जरूरी है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक व्यक्ति के पास अपनी कार है जिसे वह बहुत संभालकर रखता है, लेकिन जब वह अपने मित्र की कार उधार लेता है, तो उसका ध्यान नहीं रखता। ऐसे में, “अपना रख पराया चख” कहावत का प्रयोग करके उसे समझाया जा सकता है कि दूसरों की चीजों का भी उतना ही सम्मान करना चाहिए जितना अपनी चीजों का।

समापन: इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि अपनी चीजों की कद्र करनी चाहिए और दूसरों की चीजों का उपयोग करते समय सम्मान और सावधानी बरतनी चाहिए। यह एक सामाजिक सद्भाव और सम्मान की भावना को बढ़ावा देती है।

Hindi Muhavare Quiz

अपना रख पराया चख कहावत पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे गांव में विकास नामक एक युवक रहता था। विकास के पास एक पुरानी लेकिन मजबूत साइकिल थी, जिसका उसने बहुत ध्यान रखा था। वह उसे रोज साफ करता और हर सप्ताह उसकी मरम्मत करता।

एक दिन, विकास के पड़ोसी ने उसे अपनी नई मोटरसाइकिल उधार दी, ताकि वह बाजार जा सके। विकास ने खुशी-खुशी मोटरसाइकिल ली और चल पड़ा। लेकिन विकास ने मोटरसाइकिल का उतना ख्याल नहीं रखा जितना अपनी साइकिल का रखता था। वह तेज गति से चलाता और लापरवाही से उसे कहीं भी पार्क कर देता।

एक दिन, लापरवाही के कारण उसने मोटरसाइकिल को खराब कर दिया। पड़ोसी ने जब यह देखा तो बहुत नाराज हुआ और विकास को समझाया, “विकास, तुम्हें ‘अपना रख पराया चख’ का महत्व समझना चाहिए। अपनी चीजों की तरह दूसरों की चीजों का भी सम्मान करो।”

इस घटना से विकास को एहसास हुआ कि उसे न केवल अपनी चीजों का बल्कि दूसरों की चीजों का भी उतना ही ख्याल रखना चाहिए। उसने अपनी गलती सुधारी और पड़ोसी से माफी मांगी।

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि ‘अपना रख पराया चख’ का अर्थ है कि हमें अपनी चीजों की तरह दूसरों की चीजों का भी सम्मान करना चाहिए और उनका ख्याल रखना चाहिए।

शायरी:

अपना रखो संभाल के, पराया चखो ध्यान से,
जीवन की इस राह में, यही सबसे बड़ा ज्ञान है।

दूसरों की चीजों का, करो हमेशा आदर,
अपनी चीजों की तरह, उनका भी रखो ख्याल भरपूर।

जिंदगी की इस दौड़ में, अपना-पराया का भेद न रखो,
सबकी खुशियों को संजोए रखो, यही सच्चा राज़ है।

अपनी दौलत अपनी हो, पराई खुशियों को भी संभालो,
इस दुनिया में इज्जत से, अपना और पराया सब महकालो।

“अपना रख पराया चख”, जीवन का यही संदेश,
सबके साथ चलो इस जहाँ में, यही तो है असली परवेश।

 

अपना रख पराया चख शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of अपना रख पराया चख – Apna rakh paraya chakh Proverb:

“Apna rakh paraya chakh” is a popular Hindi proverb, which means that one should safeguard their own things and only enjoy others’ things.

Introduction: This proverb teaches us to understand the value of our belongings and preserve them, while only enjoying others’ belongings with a sense of joy.

Meaning: “Apna rakh paraya chakh” means to take care of one’s resources and exercise caution while using others’ things. This ensures the safety of your belongings and also respects others’ property.

Usage: This proverb is used when one needs to explain the importance of cherishing one’s own things and being respectful and careful while using others’ things.

Examples:

-> For instance, if a person has their own car which they take great care of, but when borrowing a friend’s car, they do not take care of it. In this case, the proverb “Apna rakh paraya chakh” can be used to explain that one should respect others’ belongings as much as their own.

Conclusion: This proverb teaches us to value our own things and to respect and be careful while using others’ things. It promotes social harmony and a sense of respect.

Story of Apna rakh paraya chakh Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a young man named Vikas. Vikas had an old but sturdy bicycle, which he took great care of. He cleaned it daily and repaired it every week.

One day, Vikas’s neighbor lent him his new motorcycle so he could go to the market. Vikas happily took the motorcycle and set off. However, Vikas did not take as much care of the motorcycle as he did of his bicycle. He drove it at high speeds and parked it carelessly.

One day, due to his negligence, he damaged the motorcycle. Seeing this, the neighbor got very upset and explained to Vikas, “Vikas, you should understand the importance of ‘Apna rakh paraya chakh.’ Treat others’ belongings with the same respect as your own.”

This incident made Vikas realize that he should not only take care of his own things but also respect and take care of others’ things. He corrected his mistake and apologized to the neighbor.

This story teaches us that the meaning of ‘Apna rakh paraya chakh’ is to respect and take care of others’ belongings just as we do with our own.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

अपना रख पराया चख का विपरीत क्या है?

इसका विपरीत मतलब है कि अपने स्वार्थ के लिए ही काम करें और दूसरों की मदद करें।

क्या यह कहावत केवल व्यापारिक परिस्थितियों में ही लागू होती है?

नहीं, इसका अर्थ व्यापार के बाहर भी हो सकता है, जैसे की व्यक्तिगत और सामाजिक संदर्भों में।

कहावत में “रख” का क्या मतलब है?

“रख” का यहां मतलब है ध्यान रखना और संरक्षण करना।

इसका उदाहारण देकर समझाएं कि यह कहावत किस प्रकार का हो सकता है?

यदि कोई अपने नौकरी के क्षेत्र में अच्छा कार्य करने के बजाय दूसरों की बुराई में ध्यान दे, तो उस पर यह कहावत लागू हो सकती है।

इस कहावत का सामाजिक संदेश क्या है?

यह सिखाती है कि स्वार्थपरता और दूसरों की चीजों में हस्तक्षेप करने से बचना चाहिए।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।