Budhimaan

Home » Kahavaten » अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी, अर्थ, प्रयोग(Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari)

अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी, अर्थ, प्रयोग(Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari)

परिचय: अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी, यह कहावत समाज में आर्थिक विषमता और इसके प्रभाव को दर्शाती है। यह बताती है कि अमीर और गरीब लोगों के जीवन मूल्य और उनकी समस्याओं के प्रति दृष्टिकोण में कैसे अंतर होता है।

अर्थ: “अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी” का अर्थ है कि अमीर लोग अपने जीवन और सुख-सुविधाओं का आनंद उठाते हैं, जबकि गरीब लोगों के लिए उनका जीवन और रोज़मर्रा की चुनौतियां बोझिल और कठिन होती हैं।

उपयोग: इस कहावत का इस्तेमाल तब होता है जब समाज में आर्थिक असमानता और उसके प्रभावों पर चर्चा की जा रही हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए एक अमीर व्यक्ति जो अपने स्वास्थ्य और सुख-सुविधाओं पर बहुत ध्यान देता है, वहीं एक गरीब मजदूर जिसके लिए रोज़ की रोटी कमाना ही एक बड़ी चुनौती होती है। यहां, “अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी” कहावत इस विषमता को दर्शाती है।

समापन: इस कहावत से हमें समाज में आर्थिक स्थिति के आधार पर जीवन के अनुभवों में अंतर का पता चलता है। यह हमें बताती है कि धन की अधिकता और अभाव दोनों ही जीवन के अनुभव

Hindi Muhavare Quiz

अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गांव में अनुभव नामक एक धनी व्यापारी और सुरेंद्र नामक एक गरीब किसान रहते थे। अनुभव के पास धन और संपत्ति की कोई कमी नहीं थी। उनके जीवन में आलीशान घर, महंगी कारें, और हर सुख-सुविधा मौजूद थी। वहीं, सुरेंद्र का जीवन संघर्षों से भरा हुआ था। उसे रोज़ की बुनियादी जरूरतों के लिए भी मेहनत करनी पड़ती थी।

एक दिन, गांव में एक बड़ी बाढ़ आई। अनुभव का आलीशान घर और संपत्ति सुरक्षित रही, क्योंकि वह ऊंचाई पर बना था। लेकिन, सुरेंद्र की झोपड़ी और खेत बाढ़ के पानी में बह गए। अनुभव ने इसे देखकर कहा, “मुझे तो अपनी जान प्यारी है, यहां से दूर चलता हूँ।” वहीं, सुरेंद्र ने अपनी बची-खुची चीजों को संभालते हुए कहा, “मेरे लिए तो यह जीवन एकदम भारी है।”

इस घटना ने समाज में अमीर और गरीब के बीच के फर्क को उजागर किया। जहां अनुभव के लिए जीवन आनंद और सुख-सुविधाओं से भरा था, वहीं सुरेंद्र के लिए यही जीवन कठिनाइयों और संघर्षों से भरा था।

इस कहानी के माध्यम से “अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी” कहावत का सही अर्थ सामने आता है। यह बताती है कि समाज में आर्थिक स्थिति के आधार पर जीवन के अनुभव और चुनौतियां कितनी अलग होती हैं।

शायरी:

अमीरी में जीवन, एक ख्वाब सी बात है,
गरीबी में हर पल, एक इम्तिहान की रात है।
“अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी”,
जीवन की इस राह में, यही सच्चाई सारी है।

अमीरी में हर खुशी, आसानी से मिल जाती है,
गरीबी में हर खुशी, दूर की कौड़ी लगती है।
दौलत के इस खेल में, गरीब की क्या बात है,
अमीरी के आँगन में, हर दिन एक नयी बारात है।

अमीर के दुख में भी, चैन की बहार है,
गरीब के सुख में भी, जिंदगी बेकरार है।
“अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी”,
इस दुनिया की रीत में, यही एक बेमिसाल प्यार है।

गरीबी में जीवन की, हर राह दुश्वार है,
अमीरी में दिल को भी, आराम की दरकार है।
इस दुनिया के मेले में, हर किसी की अपनी बात है,
“अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी”, यही जीवन की सौगात है।

 

अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी – Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari Proverb:

Introduction: Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari, This proverb reflects the economic inequality in society and its impact. It shows how the life values and perspectives on problems differ between the rich and the poor.

Meaning: The proverb “Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari” means that the rich enjoy their lives and comforts, whereas for the poor, their life and daily challenges are burdensome and difficult.

Usage: This saying is used when discussing economic inequality and its effects in society.

Examples:

-> Consider a rich person who pays great attention to their health and comforts, and a poor laborer for whom earning daily bread is a big challenge. Here, the proverb “Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari” illustrates this disparity.

Conclusion: This proverb helps us understand the differences in life experiences based on economic status in society. It tells us that both the abundance and lack of wealth greatly influence life’s experiences.

Story of Amir ko jaan pyari, Garib ekdum bhari Proverb in English:

In a small village lived a wealthy merchant named Anubhav and a poor farmer named Surendra. Anubhav had no shortage of wealth and property. His life was filled with luxurious houses, expensive cars, and every comfort. On the other hand, Surendra’s life was filled with struggles. He had to work hard even for basic daily needs.

One day, a great flood hit the village. Anubhav’s luxurious house and property remained safe as they were built on higher ground. However, Surendra’s hut and fields were washed away by the floodwaters. Witnessing this, Anubhav said, “My life is precious to me, I must move away from here.” Meanwhile, Surendra, trying to salvage what little he had left, said, “For me, this life is a heavy burden.”

This incident highlighted the differences between the rich and the poor in society. While Anubhav’s life was full of joy and comforts, Surendra’s life was laden with difficulties and struggles.

This story brings to light the true meaning of the proverb “अमीर को जान प्यारी, गरीब एकदम भारी.” It illustrates how life experiences and challenges vary greatly based on one’s economic status in society.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या यह कहावत समाज में किस प्रकार की भावना को दर्शाती है?

यह कहावत समाज में धन-संबंधी भेदभाव और सामाजिक विभाजन को प्रकट करती है, जिससे सामाजिक न्याय की महत्वपूर्णता बताई जाती है।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

कुछ लोगों का मानना है कि यह कहावत धन के महत्व को जादूतंत्रिक रूप से बढ़ावा देती है, जो समाज में विभेद उत्पन्न कर सकता है।

क्या इस कहावत का कोई अन्य संदेश है?

हाँ, यह भी सिखाती है कि व्यक्ति की मूल्यांकना उसकी संबंधिता और भावनाओं पर निर्भर करती है, न कि उसके सामंजस्यिक स्थिति पर।

इस कहावत का क्या मौद्रिक रूप से अनुवाद हो सकता है?

इसे मौद्रिक रूप से “The rich are dear, the poor are heavy” कहा जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई विशेष उपयोग है?

यह कहावत सामाजिक और आर्थिक समस्याओं पर विचार करने के लिए एक दृष्टिकोण प्रदान करती है और लोगों को सामाजिक न्याय की महत्वपूर्णता समझाती है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।