Budhimaan

Home » Kahavaten » आठों पहर चौंसठ घड़ी, अर्थ, प्रयोग(Aathon pahar chausath ghadi)

आठों पहर चौंसठ घड़ी, अर्थ, प्रयोग(Aathon pahar chausath ghadi)

“आठों पहर चौंसठ घड़ी” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ है “हर समय, निरंतर”. इस कहावत का उपयोग अक्सर उस स्थिति में किया जाता है जब कोई व्यक्ति या चीज लगातार और अनवरत काम कर रही हो। इसका प्रयोग उस समर्पण और लगन को दर्शाता है जो किसी कार्य में लगातार बनी रहती है।

परिचय: “आठों पहर” का मतलब होता है पूरा दिन, जिसमें 24 घंटे होते हैं, और “चौंसठ घड़ी” का मतलब होता है हर घड़ी, हर पल। यह कहावत हमें यह सिखाती है कि किसी कार्य में निरंतरता और समर्पण बहुत महत्वपूर्ण हैं।

अर्थ: इस कहावत का सामान्य अर्थ है कि कुछ भी जो लगातार और अनवरत चलता रहे। यह निरंतर प्रयास, लगन और समर्पण का प्रतीक है।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग उन परिस्थितियों में किया जाता है जहां किसी को अपने काम में लगन और समर्पण दिखाना होता है। उदाहरण के लिए, एक विद्यार्थी जो अपनी पढ़ाई में “आठों पहर चौंसठ घड़ी” लगा रहता है, वह सफलता की ओर अग्रसर होता है।

उदाहरण:

-> एक व्यापारी जो अपने व्यापार को बढ़ाने में “आठों पहर चौंसठ घड़ी” मेहनत करता है, वह अंततः सफलता प्राप्त करता है।

समापन: इस प्रकार, यह कहावत हमें यह सिखाती है कि निरंतर प्रयास और समर्पण ही सफलता की कुंजी है। यह हमें प्रेरित करती है कि हमें अपने लक्ष्य की ओर लगातार बढ़ते रहना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

आठों पहर चौंसठ घड़ी कहावत पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अनुज नाम का एक युवक रहता था। अनुज के पिता एक साधारण किसान थे और उनकी एक छोटी सी जमीन थी। अनुज अपने पिता की मदद करता, लेकिन उसका सपना था कि वह एक दिन बड़ा किसान बने और अपने गाँव का नाम रोशन करे।

अनुज ने इस दिशा में काम करना शुरू किया। वह “आठों पहर चौंसठ घड़ी” खेतों में काम करता, नई खेती की तकनीकों को सीखता और अपनी जमीन की उपजाऊता बढ़ाने में लगा रहता। उसने अपने खेत में नए-नए पौधे लगाए, जल संरक्षण के उपाय किए और ऑर्गेनिक खेती की ओर रुख किया।

धीरे-धीरे, अनुज की मेहनत रंग लाई। उसकी फसलें बंपर होने लगीं, और उसकी खेती की तकनीकें दूसरे किसानों के लिए एक मिसाल बन गईं। अनुज की उपज इतनी अच्छी थी कि दूर-दूर से लोग उसकी फसल खरीदने आते।

उसके गाँव वाले अक्सर कहते, “अनुज तो ‘आठों पहर चौंसठ घड़ी’ अपने खेतों में लगा रहता है।” अनुज की कहानी ने साबित कर दिया कि लगातार मेहनत और समर्पण से कोई भी अपने सपनों को सच कर सकता है।

अनुज की सफलता ने न केवल उसे एक प्रसिद्ध किसान बनाया बल्कि उसके गाँव को भी एक नई पहचान दी। यह कहानी हमें यह सिखाती है कि निरंतर प्रयास और समर्पण के बल पर हम किसी भी क्षेत्र में उत्कृष्टता हासिल कर सकते हैं।

शायरी:

आठों पहर चौंसठ घड़ी, हर पल मेहनत की बात है,

जिंदगी की इस राह में, जीत हर इक जज्बात है।

हर सवेरा कहता है, संघर्ष की नई दास्ताँ,

रात का हर तारा बोले, मंजिल पाने की आस है।

हर पल इस कोशिश में, कि इरादे और मजबूत हों,

जिंदगी के हर मोड़ पर, नया संघर्ष, नयी बात है।

जो चला है इस राह पर, उसे क्या डर हार का,

उसकी हर कोशिश कहती है, जीत उसकी सौगात है।

इस जहाँ में रौशनी तो, अपनी मेहनत से ही होती,

आठों पहर चौंसठ घड़ी, इसी में तो जीवन की सौगात है।

 

आठों पहर चौंसठ घड़ी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of आठों पहर चौंसठ घड़ी – Aathon pahar chausath ghadi Proverb:

“Aathon pahar chausath ghadi” is a famous Hindi proverb, which means “all the time, continuously”. This proverb is often used in situations where a person or thing is working continuously and incessantly. It represents the dedication and diligence that remain constant in any task.

Introduction: “आठों पहर” translates to the whole day, which consists of 24 hours, and “चौंसठ घड़ी” means every moment, all the time. This proverb teaches us that continuity and dedication are very important in any task.

Meaning: The general meaning of this proverb is anything that continues incessantly and without interruption. It symbolizes continuous effort, diligence, and dedication.

Usage: This proverb is used in situations where one needs to show dedication and commitment in their work. For example, a student who is continuously engaged in their studies “Aathon pahar chausath ghadi” is on the path to success.

Examples:

-> A merchant who works tirelessly “Aathon pahar chausath ghadi” to expand their business, eventually achieves success.

Conclusion: Thus, this proverb teaches us that continuous effort and dedication are the keys to success. It motivates us to keep progressing towards our goals persistently.

Story of Aathon pahar chausath ghadi Proverb in English:

In a small village lived a young man named Anuj. His father was a simple farmer with a small piece of land. Anuj helped his father but dreamed of becoming a successful farmer and bringing fame to his village.

Anuj began working towards this goal. He tirelessly worked in the fields “around the clock,” learning new farming techniques and striving to improve the fertility of his land. He planted new crops, implemented water conservation methods, and shifted towards organic farming.

Gradually, Anuj’s hard work paid off. His crops flourished, and his farming techniques became a model for other farmers. His produce was so good that people from far and wide came to buy his crops.

The villagers often said, “Anuj is always working in his fields ‘around the clock’.” Anuj’s story proved that with continuous hard work and dedication, anyone can achieve their dreams.

Anuj’s success not only made him a renowned farmer but also brought a new identity to his village. This story teaches us that with persistent effort and dedication, we can achieve excellence in any field.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

इस कहावत में ‘आठों पहर’ का क्या मतलब है?

‘आठों पहर’ से तात्पर्य है कि कार्य या सुरक्षा क्रियाएँ समय-समय पर स्थित रहनी चाहिए, दिन-रात के सभी समयों में।

क्या इस कहावत का कोई ऐतिहासिक प्रमाण है?

इस कहावत का कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है, लेकिन यह एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है जो समय की महत्ता पर बल देता है।

क्या इस कहावत का उपयोग समय प्रबंधन से जुड़े टिप्स देने के लिए किया जा सकता है?

हाँ, इस कहावत का उपयोग समय को सही तरीके से प्रबंधित करने के लिए टिप्स देने में किया जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, इस कहावत का कोई विरोधाभास नहीं है, बल्कि यह सामान्य जीवन में एक अच्छा सुझाव देता है।

क्या इस कहावत का संदेश है कि हमें कभी आराम नहीं लेना चाहिए?

नहीं, संदेश यह है कि हमें समय के प्रबंधन में सावधानी बरतनी चाहिए, परंतु समय के साथ आराम भी जरूरी है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।