Budhimaan

Home » Kahavaten » आठों गांठ कुम्मैत, अर्थ, प्रयोग(Aathon ganth kummait)

आठों गांठ कुम्मैत, अर्थ, प्रयोग(Aathon ganth kummait)

“आठों गांठ कुम्मैत” एक लोकप्रिय हिंदी कहावत है, जो अक्सर उन व्यक्तियों के संदर्भ में प्रयोग की जाती है जो बहुत चतुर और चालाक होते हैं। इस कहावत का अर्थ है कि व्यक्ति हर परिस्थिति में स्वयं को ढालने में सक्षम है और हर परिस्थिति का फायदा उठाने में माहिर है।

परिचय: “आठों गांठ कुम्मैत” शब्दों का शाब्दिक अर्थ है, आठों प्रकार की चालाकियों या कुशलताओं में पारंगत होना। यह उन व्यक्तियों के लिए प्रयोग किया जाता है जो किसी भी परिस्थिति में अपनी चतुराई से लाभ उठाने की क्षमता रखते हैं।

अर्थ: इस कहावत का प्रयोग उन व्यक्तियों के लिए किया जाता है जो अत्यधिक चालाक और कुशल होते हैं, जो हर स्थिति में अपने लाभ के लिए तेजी से सोच सकते हैं और योजना बना सकते हैं।

उपयोग: यह कहावत आमतौर पर उन परिस्थितियों में प्रयोग की जाती है जहां कोई व्यक्ति अपनी चतुराई और चालाकी से किसी समस्या का समाधान निकालता है या अपने फायदे के लिए किसी परिस्थिति का उपयोग करता है।

उदाहरण:

-> एक व्यापारी जो बाजार के रुख को देखकर अपने व्यापारिक निर्णय लेता है और हर मौके पर लाभ कमाता है, उसे “आठों गांठ कुम्मैत” कहा जा सकता है।

समापन: इस प्रकार, “आठों गांठ कुम्मैत” कहावत उन व्यक्तियों की चतुराई और चालाकी को दर्शाती है जो किसी भी परिस्थिति में अपने फायदे के लिए तेजी से सोचने और कार्य करने में सक्षम होते हैं। यह हमें बताता है कि कैसे बुद्धिमत्ता और सूझबूझ से किसी भी स्थिति का सामना किया जा सकता है।

Hindi Muhavare Quiz

आठों गांठ कुम्मैत कहावत पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में विनीत नाम का एक बहुत ही चतुर और चालाक व्यापारी रहता था। विनीत को हर स्थिति में अपना फायदा निकालना अच्छी तरह आता था। चाहे बाजार में मंदी हो या तेजी, विनीत हमेशा मुनाफा कमाने में सफल रहता था। गांव वाले उसे “आठों गांठ कुम्मैत” कहकर पुकारते थे, क्योंकि वह हर परिस्थिति में अपने लिए लाभ निकाल लेता था।

एक दिन गांव में बड़ा सूखा पड़ा। सभी किसान परेशान थे, क्योंकि उनकी फसलें सूख रही थीं। लेकिन विनीत ने इस स्थिति को भी अपने लाभ के लिए उपयोग किया। उसने दूर-दूर से पानी लाने के लिए एक योजना बनाई और किसानों को पानी बेचना शुरू कर दिया।

जब सूखा खत्म हुआ, तो विनीत के पास बहुत सारी दौलत इकट्ठी हो चुकी थी। गांववाले हैरान थे कि कैसे विनीत ने इतने कठिन समय में भी अपना फायदा निकाल लिया।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि “आठों गांठ कुम्मैत” वाले व्यक्ति अपनी चतुराई और समझदारी से हर स्थिति का लाभ उठा सकते हैं। विनीत की तरह ऐसे लोग हमेशा अपने आसपास के माहौल को समझते हैं और हर परिस्थिति में अपने लिए अवसर खोज लेते हैं।

शायरी:

आठों गांठ कुम्मैत हैं, जिंदगी के फनकार,

हर मोड़ पर चालाकी से, बनते जीत के आधार।

हर मुश्किल में एक राह, इनके पास होती है,

चाहे जो भी हो हालात, इनकी बाजी रोटी है।

चालाकी से जिन्दगी की, हर बाजी पलट देते हैं,

‘आठों गांठ कुम्मैत’ वो, हर रुकावट कट देते हैं।

जहाँ दूसरे रुक जाते हैं, वहीं ये शुरू होते हैं,

हर चुनौती को ये अपना, एक मौका समझते हैं।

इस जीवन की चाल में, इनका अंदाज निराला है,

‘आठों गांठ कुम्मैत’ इनका, हर सफर में वाला है।

 

आठों गांठ कुम्मैत शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of आठों गांठ कुम्मैत – Aathon ganth kummait Proverb:

“Aathon ganth kummait” is a popular Hindi proverb often used in reference to individuals who are very clever and cunning. This proverb implies that a person is capable of adapting to every situation and is adept at taking advantage of every circumstance.

Introduction: The literal meaning of “Aathon ganth kummait” is to be proficient in all eight kinds of cleverness or skills. It is used for those individuals who have the ability to gain advantages from any situation using their wit.

Meaning: This proverb is used for individuals who are extremely cunning and skilled, capable of thinking quickly and strategizing for their benefit in every situation.

Usage: This proverb is commonly used in situations where a person finds a solution to a problem using their wit and cunning, or utilizes a situation to their advantage.

Examples:

-> A businessman who makes business decisions based on market trends and profits from every opportunity can be referred to as “Aathon ganth kummait”.

Conclusion: Thus, the proverb “Aathon ganth kummait” illustrates the cleverness and cunning of individuals who are capable of thinking and acting quickly to benefit from any situation. It tells us how intelligence and acumen can be used to face any situation.

Story of Aathon ganth kummait Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a very clever and cunning businessman named Vineet. Vineet was adept at turning every situation to his advantage. Whether the market was down or up, Vineet always managed to make a profit. The villagers called him “आठों गांठ कुम्मैत” because he always found a way to benefit from every circumstance.

One day, a severe drought hit the village. All the farmers were distressed as their crops were drying up. But Vineet used this situation to his advantage as well. He devised a plan to bring water from distant places and started selling it to the farmers.

When the drought ended, Vineet had accumulated a great deal of wealth. The villagers were amazed at how Vineet managed to profit even in such tough times.

This story teaches us that a person with the qualities of “आठों गांठ कुम्मैत” can use their wit and wisdom to benefit from every situation. Like Vineet, such people always understand their surroundings and find opportunities for themselves in every circumstance.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:


“आठों गांठ कुम्मैत” का उपयोग किस परिस्थिति में किया जा सकता है?

इस कहावत का उपयोग किसी जटिल समस्या को सुलझाने के लिए अलग-अलग दृष्टिकोण से देखकर किया जा सकता है।

कहावत में “कुम्मैत” का मतलब क्या है?

“कुम्मैत” का अर्थ होता है समझदार या बुद्धिमान। यहां इसे समस्या का हल निकालने की बुद्धिमत्ता को दर्शाने के लिए उपयोग किया गया है।

क्या इस कहावत का कोई इतिहासिक संदर्भ है?

इसका कोई विशेष इतिहासिक संदर्भ नहीं है, परंतु यह जीवन के अनगिनत पहलुओं को समझने के लिए एक उपयुक्त उक्ति है।

इस कहावत का उपयोग आम जीवन में कैसे किया जा सकता है?

इसे अपने निर्णयों और समस्याओं का समाधान खोजने में सहायक बनाने के लिए अपनाया जा सकता है।

क्या इस कहावत का कोई संबंध किसी विशेष धार्मिक या सांस्कृतिक धाराओं से है?

नहीं, यह कहावत सामान्य जीवन की बातों पर आधारित है और इसका कोई विशेष धार्मिक या सांस्कृतिक संबंध नहीं है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।