Budhimaan

Home » Kahavaten » आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे, अर्थ, प्रयोग(Aas-paas barse, Delhi padi tarse)

आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे, अर्थ, प्रयोग(Aas-paas barse, Delhi padi tarse)

परिचय: “आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे” एक प्रचलित हिंदी कहावत है, जो उस स्थिति का वर्णन करती है जब जरूरतमंद को नजरअंदाज किया जाता है और सहायता कहीं और चली जाती है।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि अक्सर वह व्यक्ति या स्थान जिसे सबसे अधिक आवश्यकता होती है, वह अनदेखा रह जाता है और सहायता या संसाधन उस तक नहीं पहुँचते हैं।

उपयोग: इस कहावत का उपयोग उन परिस्थितियों में किया जाता है जहाँ जरूरतमंदों की अनदेखी हो रही हो और सहायता दूसरों को दी जा रही हो।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक गाँव में पानी की गंभीर कमी है, लेकिन सरकार और संस्थाएँ आस-पास के क्षेत्रों में पानी की सुविधाएँ बढ़ा रही हैं, जबकि उस गाँव को नजरअंदाज कर दिया जाता है।

समापन: “आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे” कहावत हमें यह सिखाती है कि सहायता और संसाधनों का समुचित वितरण महत्वपूर्ण है। इससे हमें यह प्रेरणा मिलती है कि हमें सहायता पहुंचाने में जरूरतमंदों को प्राथमिकता देनी चाहिए और संसाधनों का न्यायसंगत वितरण सुनिश्चित करना चाहिए।

इस पोस्ट में कहावत के अर्थ और उसके प्रयोग को समाज में जरूरतमंदों की सहायता की आवश्यकता के संदर्भ में बताया गया है।

Hindi Muhavare Quiz

आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे कहावत पर कहानी:

बहुत समय पहले, एक छोटे से गाँव में, दो भाई अभय और अनुज रहते थे। अभय, जो बड़ा भाई था, गाँव के बाहर अपने खेतों में व्यस्त रहता था, जबकि अनुज, छोटा भाई, गाँव के अंदर अपनी दुकान चलाता था।

एक वर्ष, गाँव के आसपास के क्षेत्रों में भारी बारिश हुई, लेकिन गाँव में एक भी बूंद नहीं गिरी। गाँव के लोग पानी की कमी से जूझने लगे, लेकिन आसपास के क्षेत्रों को अधिक पानी मिल रहा था। यह देखकर अभय ने सोचा, “आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे।”

अभय और अनुज ने गाँव के सरपंच से मिलकर इस समस्या का समाधान निकालने की ठानी। वे समझ गए थे कि उन्हें अपने गाँव के लिए खुद ही कुछ करना होगा।

दोनों भाईयों ने मिलकर एक योजना बनाई और गाँव में एक छोटी झील का निर्माण किया। वे आसपास के क्षेत्रों से पानी लाने के लिए पाइपलाइन बिछाने में सफल हुए। इस तरह, उन्होंने न केवल अपने गाँव को पानी की कमी से उबारा, बल्कि आसपास के गाँवों के लोगों को भी मदद पहुँचाई।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि “आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे” का अर्थ है कि जरूरतमंद की अनदेखी करना और सहायता उस तक न पहुंचाना एक बड़ी त्रुटि है। इस कहानी के माध्यम से हमें यह भी सिखने को मिलता है कि आत्मनिर्भरता और सामुदायिक प्रयास से हम किसी भी समस्या का समाधान निकाल सकते हैं।

शायरी:

आसमां पर बरसे बादल, धरती प्यासी देखे,

“आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे”, ये कहे।

जिनके हिस्से बरसात नहीं, वो बूंदों को तरसे,

जीवन की विडंबनाओं में, ये किस्मत का मर्से।

जहाँ जरूरत हो उसको, वहाँ पहुँचे ना सावन,

इस दुनिया की रीत यही, किस्मत का अपना चक्रव्यूहन।

जो बिन पानी रह जाते, उनका दर्द कौन समझे?

“आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे”, यही बहसे।

अपनी तकदीर खुद बनाना, इस जहान में सीख ले,

जहाँ जरूरत, वहीं मदद की बारिश की फरियाद करे।

जिंदगी के सफर में, ये सबक याद रखना,

जहाँ जरूरत, वहाँ सहायता पहुँचाने का वादा रखना।

 

आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of आस-पास बरसे, दिल्ली पड़ी तरसे – Aas-paas barse, Delhi padi tarse Proverb:

Introduction: The popular Hindi proverb “Aas-paas barse, Delhi padi tarse” describes the situation where the needy are overlooked, and help is directed elsewhere.

Meaning: The meaning of this proverb is that often, the person or place in greatest need is ignored, and assistance or resources do not reach them.

Usage: This proverb is used in situations where the needs of the needy are being neglected, and aid is being given to others.

Examples:

-> Suppose there is a severe water shortage in a village, but the government and organizations are enhancing water facilities in the surrounding areas, ignoring that particular village.

Conclusion: The proverb “Aas-paas barse, Delhi padi tarse” teaches us that the proper distribution of aid and resources is crucial. It inspires us to prioritize the needy in providing assistance and to ensure equitable distribution of resources. This post discusses the meaning and application of the proverb in the context of the need to help the needy in society.

Story of Aas-paas barse, Delhi padi tarse Proverb in English:

Long ago, in a small village, there lived two brothers, Abhay and Anuj. Abhay, the elder brother, was busy with his fields outside the village, while Anuj, the younger brother, ran a shop inside the village.

One year, heavy rains fell in the areas around the village, but not a single drop fell in the village itself. The villagers struggled with a water shortage, while the surrounding areas received plenty of water. Seeing this, Abhay thought, “It rains all around, but Delhi remains parched.”

Abhay and Anuj met with the village headman to find a solution to this problem. They realized that they had to do something for their village themselves.

Together, the brothers devised a plan and constructed a small lake in the village. They successfully laid pipelines to bring water from the surrounding areas. In this way, they not only saved their village from the water crisis but also helped the people of the neighboring villages.

Conclusion:

This story teaches us that “Aas-paas barse, Delhi padi tarse” means that neglecting the needy and failing to provide assistance is a grave mistake. The story also illustrates that self-reliance and community effort can solve any problem.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

इस कहावत का उपयोग किस परिस्थिति में हो सकता है?

इसे उस समय का विवेचन करने के लिए किया जा सकता है जब किसी चीज की महत्वपूर्णता बढ़ रही हो, लेकिन उसकी पहुंच कमजोर हो रही हो।

क्या इस कहावत में कोई ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है?

इसकी स्थानीय और सांस्कृतिक परंपरा में विशेष संबंध नहीं है, लेकिन यह आम जीवन की अद्भुतता को दर्शाती है।

क्या इस कहावत का उपयोग केवल वाणिज्यिक परिस्थितियों में होता है?

नहीं, यह कहावत जीवन के विभिन्न पहलुओं में भी लागू की जा सकती है, जैसे कि भावनात्मक और सामाजिक संदर्भों में।

इस कहावत को समझने के लिए कौन-कौन से तत्वों का ध्यान देना चाहिए?

इसे समझने के लिए व्यक्ति को उसके आस-पास के परिसर की अच्छी तरह से जाँचना चाहिए, साथ ही दूर के परिसर की भी महत्वपूर्णता को समझना चाहिए।

इस कहावत का अनुवाद कैसे हो सकता है?

इसे अंग्रेजी में “Rain nearby, but Delhi is still thirsty” के रूप में अनुवाद किया जा सकता है।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।