Budhimaan

Home » Kahavaten » आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा, अर्थ, प्रयोग(Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha)

आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा, अर्थ, प्रयोग(Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha)

परिचय: “आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा” यह हिंदी कहावत उन व्यक्तियों की स्थिति का वर्णन करती है जो परिवारिक बंधनों से मुक्त होकर स्वतंत्र रूप से अपनी जिंदगी जीते हैं।

अर्थ: इस कहावत का अर्थ है कि जो व्यक्ति अपने लिए स्वयं कमाता है और उसी में संतुष्ट रहता है, वह न तो किसी के आगे झुकता है और न ही किसी के पीछे चलता है। ऐसा व्यक्ति अपनी आजादी का पूरा आनंद उठाता है, लेकिन कई बार यह स्थिति उसे एकाकी बना देती है।

उपयोग: यह कहावत उन परिस्थितियों में उपयोगी होती है, जहां व्यक्ति अपनी स्वतंत्रता का महत्व समझता है, लेकिन इसके साथ ही उसे अपनी एकाकीपन की स्थिति का भी आभास होता है।

उदाहरण:

-> मान लीजिए, एक युवा जो अपने परिवार से अलग होकर अकेले रहता है और अपने लिए खुद कमाता है। वह अपनी आजादी का आनंद उठाता है लेकिन कई बार उसे अपने परिवार और दोस्तों की कमी महसूस होती है।

समापन: “आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा” कहावत हमें यह सिखाती है कि स्वतंत्रता का आनंद उठाना जरूरी है, लेकिन इसके साथ ही परिवार और समाज के साथ संबंधों का महत्व भी होता है। यह कहावत हमें बताती है कि संतुलित जीवन जीना जरूरी है, जहां स्वतंत्रता के साथ-साथ संबंधों की अहमियत भी समझी जाए।

Hindi Muhavare Quiz

आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा कहावत पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में अभय नाम का एक युवक रहता था। अभय बचपन से ही अनाथ था और उसने अपनी जिंदगी खुद ही संवारी थी। वह गांव में छोटे-मोटे काम करके अपना गुजारा करता था। उसके पास न तो कोई परिवार था और न ही कोई ऐसा जिसके आगे वह अपना सिर झुकाए।

अभय अपनी कमाई से खुश था और अपनी जिंदगी में खुश था। उसके पास खुद का एक छोटा सा घर था और वह उसमें अकेले ही रहता था। अभय की जिंदगी में कोई चिंता नहीं थी, न ही कोई बंधन। वह अपनी मेहनत की कमाई खाता और अपनी खुशियों में जीता।

एक दिन गांव के लोगों ने अभय से कहा, “अभय, तुम तो बड़े खुशनसीब हो, तुम्हारे जीवन में कोई चिंता नहीं, कोई बंधन नहीं।” अभय मुस्कुराया और बोला, “हां, मैंने सुना है एक कहावत ‘आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा’, मेरी जिंदगी भी कुछ ऐसी ही है। मैं अपने लिए कमाता हूँ, अपने लिए खाता हूँ और अपनी खुशियों में जीता हूँ।”

अभय की यह बातें सुनकर गांव के लोग समझ गए कि स्वतंत्रता का असली मतलब क्या होता है। अभय का जीवन उन्हें यह सिखाता था कि आजादी में ही असली खुशी है, लेकिन इसके साथ ही संतुलन और जिम्मेदारी भी जरूरी है।

शायरी:

ना आगे किसी का नाथ, ना पीछे बंधन का पगहा,

जीवन में खुद का राज, जैसे चाँद में चमकता दिया।

खुद के लिए जीते हैं, खुद ही के लिए खाते,

अपने सपनों की दुनिया में, खुद ही महल बनाते।

आज़ादी की राहों में, चलते अपने पैरों पे,

जीवन के हर मोड़ पर, खुद ही बनते तारे।

जैसे मोती समंदर में, अकेले ही चमकते हैं,

वैसे ही जीवन में हम, अपने खुद के रास्ते बनाते हैं।

आई मौज फकीर को, दिया झोपड़ा फूंक,

जीवन की इस डगर में, हम खुद ही सुख-दुःख।

 

आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।


Hindi to English Translation of आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा – Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha Proverb:

Introduction: The Hindi proverb “Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha” describes the situation of individuals who live independently, free from familial ties.

Meaning: The proverb means that a person who earns for themselves and is content with it neither bows before anyone nor follows anyone. Such a person enjoys their freedom fully, but sometimes this situation can lead to loneliness.

Usage: This proverb is useful in situations where a person realizes the importance of their freedom, but also feels the solitude that comes with it.

Examples:

-> Consider a young adult who lives separately from their family and earns for themselves. They enjoy their independence but sometimes feel the absence of family and friends.

Conclusion: The proverb “Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha” teaches us that it is important to enjoy freedom, but also to recognize the importance of family and social connections. It tells us that living a balanced life is essential, where one values both freedom and relationships.

Story of Aage nath na piche pagha, Khay motay ke hue Gadha Proverb in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a young man named Abhay. Abhay had been an orphan since childhood and had been managing his life on his own. He earned a living by doing odd jobs in the village. He had no family, and there was no one before whom he had to bow.

Abhay was content with his earnings and his life. He had a small house of his own in the village, and he lived there all alone. There were no worries or bonds in Abhay’s life. He earned from his hard work and lived in his happiness.

One day, the people of the village said to Abhay, “Abhay, you are very fortunate. There are no worries in your life, and there are no bonds either.” Abhay smiled and replied, “Yes, I have heard of a saying, ‘आगे नाथ न पीछे पगहा, खाय मोटाय के हुए गदहा’ (A person who neither bows before anyone nor follows anyone, eats fat and healthy like a donkey). My life is somewhat like that. I earn for myself, eat for myself, and live in my own happiness.”

Upon hearing Abhay’s words, the villagers understood the true meaning of freedom. Abhay’s life taught them that real happiness lies in freedom, but at the same time, balance and responsibility are also essential.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

कहावत में ‘नाथ’ और ‘पगहा’ का क्या अर्थ है?

यहां ‘नाथ’ का अर्थ होता है एक अग्रणी व्यक्ति और ‘पगहा’ से मुराद होता है पैर। इसका तात्पर्य है अगर कोई व्यक्ति अग्रणी है, तो उसे चाहिए कि वह अपने पीछे भी सतर्क रहे।

क्या इस कहावत का कोई ऐतिहासिक प्रसिद्धी है?

नहीं, इस कहावत का कोई विशेष ऐतिहासिक प्रसिद्धी नहीं है, परंतु यह एक लोकप्रिय हिंदी कहावत है जो सामाजिक सच्चाई और अज्ञान को बयान करती है।

कहावत में ‘गदहा’ का क्या संकेत है?

यहां ‘गदहा’ से मुराद एक अज्ञानी या मूर्ख व्यक्ति है, जो अपनी गलतियों को समझने में असमर्थ होता है।

क्या इस कहावत का कोई विरोधाभास है?

नहीं, यह कहावत किसी विरोधाभास को बयान नहीं करती है, बल्कि यह सत्य और अज्ञान के बीच की विरासत को स्पष्ट करती है।

क्या इस कहावत का अनुसरण करना हमें कैसे फायदेमंद हो सकता है?

इस कहावत से हमें यह सिखने को मिलता है कि अगर हम किसी भी स्थिति में हैं, तो हमें अपने पीछे भी ध्यान रखना चाहिए ताकि हम गदहा बनने से बच सकें।

हिंदी कहावतों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।