Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत अर्थ, प्रयोग (Vipat pade jo kar rahe, Soi socho mat)

विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत अर्थ, प्रयोग (Vipat pade jo kar rahe, Soi socho mat)

परिचय: “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” यह मुहावरा उस समय की स्थिति को दर्शाता है जब हमें अप्रत्याशित चुनौतियाँ या समस्याएँ आती हैं। इसके माध्यम से यह संदेश दिया जाता है कि मुश्किल समय में भी हमें निराश या हतोत्साहित नहीं होना चाहिए।

अर्थ: इस मुहावरे का सीधा अर्थ है कि जब भी कोई विपत्ति या कठिनाई आती है, तो हमें उसे करने से डरना नहीं चाहिए या उसे करने की सोच से ही पीछे नहीं हटना चाहिए। इसके बजाय, हमें उस समस्या का सामना करना चाहिए और उसे हल करने का प्रयत्न करना चाहिए।

प्रयोग: इस मुहावरे का उपयोग आमतौर पर उन परिस्थितियों में किया जाता है जब कोई व्यक्ति या समूह किसी कठिनाई का सामना कर रहा होता है। यह हमें यह सिखाता है कि समस्याओं से भागना नहीं चाहिए, बल्कि उनका सामना करके उन्हें हल करना चाहिए।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक छात्र परीक्षा के समय में किसी विषय में कमजोर होता है, तो उसे इस मुहावरे के अनुसार, उस विषय से भागने की बजाय अधिक मेहनत और लगन से उस विषय को समझने और उसमें अच्छे अंक प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए।

निष्कर्ष: “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” मुहावरा हमें सिखाता है कि जीवन में कोई भी समस्या या चुनौती आए, हमें उससे डरकर नहीं भागना चाहिए। बल्कि, हमें धैर्य और साहस के साथ उसका सामना करना चाहिए और उसे हल करने के लिए प्रयत्नशील रहना चाहिए। यह मुहावरा हमें जीवन की उन सभी समस्याओं का सामना करने की प्रेरणा देता है जो हमें विकास की ओर ले जाती हैं।

विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत मुहावरा पर कहानी:

एक गाँव में सुधीर नाम का एक किसान रहता था। वह अपने खेत में बहुत मेहनत से काम करता था। एक साल, उसके गाँव में भयंकर सूखा पड़ा। सभी किसानों की फसलें सूख गईं और उनके चेहरे पर चिंता की रेखाएँ उभर आईं। लेकिन सुधीर ने हार नहीं मानी।

सुधीर के पास थोड़ी बचत थी, जिसे उसने एक छोटे से तालाब के निर्माण में लगा दिया। उसने सोचा कि अगर वर्षा होगी, तो वह पानी को संचित कर लेगा और सूखे के समय में अपनी फसलों की सिंचाई करेगा। गाँव के अन्य किसानों ने उसका मजाक उड़ाया और कहा कि उसकी मेहनत बेकार जा रही है क्योंकि वर्षा की कोई संभावना नहीं थी।

लेकिन सुधीर ने उनकी बातों का बुरा नहीं माना और कहा, “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत।” उसने अपने काम में लगन से मेहनत जारी रखी। कुछ ही समय बाद, अचानक एक रात भारी वर्षा हुई और सुधीर का बनाया तालाब पानी से भर गया। इस पानी का उपयोग करके सुधीर ने अपने खेत की सिंचाई की और उस साल उसकी फसल बहुत अच्छी हुई।

गाँव के अन्य किसान सुधीर की सफलता देखकर चकित रह गए। उन्होंने सुधीर से माफी मांगी और उससे तालाब निर्माण के बारे में सीखा। इस घटना ने सभी को सिखाया कि मुश्किल समय में भी अगर हम साहस और धैर्य के साथ काम करें तो हम सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इस कहानी के माध्यम से, “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। यह हमें बताता है कि कठिनाइयों और चुनौतियों का सामना करने की हिम्मत रखें और हमेशा आशावादी बने रहें।

शायरी:

विपत्तियों का जब भी सामना हो,

डर के आगे जीत का जहाँ हो।

“विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत”,

इस जज्बे को अपना बना लो तुम भी।

जिंदगी फिर एक नया सबक सिखाएगी,

अंधेरों में भी राह दिखाएगी।

मुश्किलें जितनी भी तुम पर आएं,

उनसे लड़ने का हौसला बनाए रखना।

उम्मीदों की इस बाजी में, खुद को पहचानो तुम,

क्योंकि तूफानों से जूझने का माद्दा रखते हैं हम।

जिस दिन से इस बात को दिल से अपनाओगे,

विपत्तियों को भी पार कर जाओगे।

जिंदगी के इस सफर में, ना हार मानो तुम,

“विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” का पैगाम समझो तुम।

हर चुनौती पे विजय पा, आगे बढ़ते जाओ,

जिंदगी की इस खूबसूरत राह पर, खुद को सजाओ।

 

विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत – Vipat pade jo kar rahe, Soi socho mat Idiom:

Introduction: The idiom “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” reflects the situation when we face unexpected challenges or problems. It conveys the message that even in difficult times, we should not be discouraged or disheartened.

Meaning: The direct meaning of this idiom is that whenever a disaster or difficulty arises, we should not be afraid to tackle it or shy away from even thinking about handling it. Instead, we should confront the problem and attempt to solve it.

Usage: This idiom is commonly used in situations where an individual or a group is facing a difficulty. It teaches us that we should not run away from problems but rather face them and solve them.

Example:

Consider a student who is weak in a subject during exam time. According to this idiom, instead of running away from the subject, the student should try to understand it with more effort and dedication to achieve good marks.

Conclusion: The idiom “विपत पड़े जो कर रहे, सोई सोचो मत” teaches us that no matter what problem or challenge comes in life, we should not run away out of fear. Instead, we should face it with patience and courage and remain diligent in solving it. This idiom inspires us to confront all the problems in life that lead us towards growth.

Story of ‌‌Vipat pade jo kar rahe, Soi socho mat Idiom in English:

In a village lived a farmer named Sudhir. He worked very hard in his fields. One year, a severe drought struck his village. All the farmers’ crops dried up, and worry lines etched their faces. But Sudhir did not give up.

Sudhir had some savings, which he invested in building a small pond. He thought that if it rained, he would collect the water and use it to irrigate his crops during the drought. The other farmers in the village mocked him, saying his effort was in vain as there was no chance of rain.

However, Sudhir did not take their words to heart and said, “Do not hesitate to act in times of crisis.” He continued to work hard with dedication. After some time, suddenly, one night, it rained heavily, and the pond Sudhir had built filled with water. Using this water, Sudhir irrigated his fields, and that year, his crops were very successful.

The other farmers in the village were amazed by Sudhir’s success. They apologized to him and learned about pond construction from him. This incident taught everyone that even in difficult times, if we work with courage and patience, we can achieve success.

Through this story, the meaning of the idiom “Do not hesitate to act in times of crisis” becomes clear. It tells us to have the courage to face difficulties and challenges and to always remain optimistic.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।