Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » उसकी क्या बिसात अर्थ, प्रयोग (Uski kya bisat)

उसकी क्या बिसात अर्थ, प्रयोग (Uski kya bisat)

परिचय: ‘उसकी क्या बिसात’ एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है जिसका प्रयोग अक्सर तब किया जाता है जब किसी की क्षमता या स्थिति को कम आंका जाता है। यह मुहावरा किसी व्यक्ति की सीमित क्षमता या उसकी तुलना में किसी अन्य की श्रेष्ठता को दर्शाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

अर्थ: ‘उसकी क्या बिसात’ का अर्थ होता है ‘उसकी क्या स्थिति’ या ‘उसका क्या मुकाबला’। इसका इस्तेमाल तब होता है जब किसी की क्षमता या स्थिति को दूसरों की तुलना में कमतर या नाकाफी समझा जाता है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उस स्थिति में प्रयोग में आता है जब किसी व्यक्ति की तुलना उससे अधिक योग्य या सक्षम व्यक्ति से की जाती है।

उदाहरण:

-> “अमन की क्रिकेट में उस अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी के साथ तुलना? उसकी क्या बिसात!”

-> “वह तो अभी नया-नया व्यापारी है, बड़े उद्योगपति के सामने उसकी क्या बिसात।”

निष्कर्ष: ‘उसकी क्या बिसात’ मुहावरा हमें यह बताता है कि हर व्यक्ति की अपनी क्षमता और स्थिति होती है, और कभी-कभी किसी की तुलना दूसरे से करना उचित नहीं होता। यह हमें यह भी सिखाता है कि प्रत्येक व्यक्ति की अपनी विशेषताएँ और सीमाएँ होती हैं, और उन्हें समझना और स्वीकार करना महत्वपूर्ण है।

उसकी क्या बिसात मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे शहर में विकास नाम का एक युवक रहता था। विकास एक साधारण परिवार से था और अपने छोटे से व्यापार में खुश था। उसके शहर में एक बड़ा व्यापारी भी था, जिसका नाम था मिस्टर गुप्ता। मिस्टर गुप्ता एक सफल और समृद्ध व्यापारी थे, जिनकी तुलना में विकास की बिसात ही क्या थी।

एक दिन, शहर में एक बड़ा व्यापार मेला लगा। विकास ने भी उसमें भाग लेने का निर्णय किया। लोगों ने कहा, “विकास तू मिस्टर गुप्ता के साथ प्रतिस्पर्धा कैसे करेगा? उसकी क्या बिसात।” विकास ने इसे अनसुना कर दिया और अपनी मेहनत पर भरोसा रखा।

मेले के दिन, मिस्टर गुप्ता के स्टाल पर भीड़ थी, लेकिन विकास के स्टाल पर भी काफी लोग आए। विकास के पास भले ही बड़ी दुकान या संसाधन नहीं थे, पर उसकी मेहनत और ईमानदारी ने लोगों का दिल जीत लिया।

इस अनुभव से विकास और शहर के लोगों को एक महत्वपूर्ण सबक मिला। वे समझ गए कि ‘उसकी क्या बिसात’ कह कर किसी की क्षमता को कम नहीं आंकना चाहिए। हर व्यक्ति की अपनी खूबियां होती हैं, और हर किसी की अपनी जगह और महत्व होता है।

इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है कि किसी भी व्यक्ति की तुलना दूसरे से नहीं करनी चाहिए और हर व्यक्ति की अपनी एक अलग पहचान और क्षमता होती है।

शायरी:

कहते हैं ‘उसकी क्या बिसात’, मगर देखो तो सही,

छोटे से दीपक में भी रोशनी भरपूर होती है।

हर किसी की अपनी जगह, अपनी पहचान होती है,

बादशाहों के शहर में भी फकीरों की बात होती है।

‘उसकी क्या बिसात’, कह कर जो खुद को बड़ा समझते हैं,

वो नहीं जानते, छोटे दिलों में भी प्यार होता है।

हर छोटी चिंगारी से, बड़ी आग लगती है,

हर छोटे कदम से, बड़ा सफर शुरू होता है।

मत कहो ‘उसकी क्या बिसात’, हर इंसान में कुछ खास होता है,

हर छोटे सपने में, बड़ी आस होती है।

जिन्हें तुम छोटा समझो, उनमें भी बड़ा जोश होता है,

हर छोटे इंसान में, बड़ा हौसला और जोश होता है।

 

उसकी क्या बिसात शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of उसकी क्या बिसात – Uski kya bisat Idiom:

Introduction: ‘उसकी क्या बिसात’ is a popular Hindi idiom often used when someone’s capability or position is underrated. This idiom is used to depict the limited capacity of a person or to highlight the superiority of another in comparison.

Meaning: The meaning of ‘उसकी क्या बिसात’ translates to ‘What is his status’ or ‘How can he compete’. It is used when someone’s capability or situation is considered inferior or insufficient compared to others.

Usage: This idiom is commonly used in situations where a person’s capabilities are compared with someone more capable or competent.

Example:

-> “Comparing Aman’s cricket skills with that international player? What is his status!”

-> “He is just a new businessman, what is his status in front of a big industrialist.”

Conclusion: The idiom ‘उसकी क्या बिसात’ teaches us that every person has their own capability and position, and sometimes it is not appropriate to compare one person with another. It also teaches us that every individual has their unique traits and limitations, and it is important to understand and accept them.

Story of ‌‌Uski kya bisat Idiom in English:

In a small town, there lived a young man named Vikas. Vikas was from a simple family and was content with his small business. In his town, there was also a big businessman named Mr. Gupta. Mr. Gupta was a successful and affluent businessman, compared to whom Vikas seemed insignificant.

One day, a big trade fair was organized in the town. Vikas decided to participate in it. People said, “How can Vikas compete with Mr. Gupta? What is his significance compared to him?” Vikas ignored these remarks and trusted his hard work.

On the day of the fair, Mr. Gupta’s stall was crowded, but Vikas’s stall also attracted many people. Even though Vikas didn’t have a big shop or resources, his hard work and honesty won people’s hearts.

From this experience, Vikas and the townspeople learned an important lesson. They realized that one should not underestimate someone’s capability by saying ‘What is his significance.’ Every person has their own strengths, and everyone has their own place and importance.

This story teaches us that we should not compare one person with another and that every individual has their unique identity and capability.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।