Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » तू-तू मैं-मैं अर्थ, प्रयोग(Tu-tu main-main)

तू-तू मैं-मैं अर्थ, प्रयोग(Tu-tu main-main)

तू-तू मैं-मैं एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जिसका उपयोग अक्सर हिंदी भाषा में किया जाता है। इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर तब किया जाता है जब दो या अधिक लोग आपस में विवाद या तर्क-वितर्क में लिप्त होते हैं।

परिचय: “तू-तू मैं-मैं” मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है जब दो व्यक्ति एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते हैं या एक दूसरे के साथ वाद-विवाद में उलझे होते हैं। इसका उपयोग अक्सर उस स्थिति को वर्णित करने के लिए होता है जहाँ दो लोग बेवजह की बहस या तकरार में फंस जाते हैं।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है बिना किसी ठोस कारण के बहस करना या अनावश्यक विवाद में पड़ना। यह अक्सर उस स्थिति को दर्शाता है जब लोग छोटी-मोटी बातों पर आपस में उलझ जाते हैं।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब दो लोग या समूह अनावश्यक रूप से आपस में झगड़ रहे हों। उदाहरण के लिए, अगर दो सहकर्मी किसी छोटे मुद्दे पर बहस कर रहे हों, तो आप कह सकते हैं कि वे “तू-तू मैं-मैं” में लगे हुए हैं।

उदाहरण:

-> ऑफिस में आज फिर से राम और श्याम के बीच तू-तू मैं-मैं हो गई।

-> पड़ोसियों के बीच छोटी सी बात पर तू-तू मैं-मैं शुरू हो गई।

निष्कर्ष: “तू-तू मैं-मैं” एक ऐसा मुहावरा है जो समाज में आपसी विवादों और छोटी-मोटी तकरारों को दर्शाता है। यह हमें यह भी सिखाता है कि कई बार छोटी बातों को अनदेखा करके बड़े विवाद से बचा जा सकता है। इस मुहावरे का प्रयोग हमारे भाषा के प्रति समृद्धि और विविधता को भी दर्शाता है।

Hindi Muhavare Quiz

तू-तू मैं-मैं मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अमन और नियांत नाम के दो पड़ोसी रहते थे। उनके घरों के बीच में एक बड़ा आम का पेड़ था। पेड़ की छाया दोनों के घरों को आरामदायक बनाती थी। एक दिन, पेड़ पर आम लगने लगे।

अमन ने सोचा, “यह पेड़ मेरे घर की तरफ झुका हुआ है, इसलिए इसके आम मेरे हैं।” उधर, नियांत का भी यही ख्याल था। दोनों ने आम पाने के लिए एक-दूसरे पर दावा किया। इस बात पर उनके बीच तू-तू मैं-मैं शुरू हो गई।

उनकी बहस सुनकर गाँव के बुजुर्ग ने उन्हें बुलाया और कहा, “तुम दोनों इस पेड़ के लिए झगड़ रहे हो, लेकिन क्या तुम जानते हो कि पेड़ किसी का नहीं होता? वह सभी के लिए फल और छाया देता है।”

अमन और नियांत ने बुजुर्ग की बात समझी और अपने विवाद को सुलझाने का फैसला किया। उन्होंने तय किया कि वे पेड़ के आम को आपस में बाँट लेंगे और उसकी देखभाल मिलकर करेंगे।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें सीखने को मिलता है कि बिना ठोस कारण के आपसी बहस और तू-तू मैं-मैं से कुछ हासिल नहीं होता। अक्सर छोटी-मोटी बातों पर विवाद करने की बजाय समझदारी से समस्या का समाधान निकालना ही बेहतर होता है।

शायरी:

आओ फिर से दिया जलाएँ, बिन बात की तू-तू मैं-मैं से दूर चलाएँ,

हर शिकवा गिला छोड़, दोस्ती का दिया जलाएँ।

जब भी ज़बान लड़ाने लगें, याद रखो वो पुरानी कहानी,

किस तरह अनबन में भी, साथ निभाया था दिल से दिलवालों ने।

बाज़ार की तरह ख़ामोश न सही, चलो अपनी बातें कहें,

तू-तू मैं-मैं से निकल, एक दूसरे के दर्द समझें।

जिंदगी बहुत छोटी है दोस्तों, इसे विवादों में न गँवाएँ,

आओ फिर से दिया जलाएँ, तू-तू मैं-मैं से परे जाएँ।

 

तू-तू मैं-मैं शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of तू-तू मैं-मैं – Tu-tu main-main Idiom:

“तू-तू मैं-मैं” is a popular Hindi idiom frequently used in the Hindi language. This phrase is generally used when two or more people are engaged in a dispute or argument.

Introduction: The literal meaning of the idiom “तू-तू मैं-मैं” is when two individuals accuse each other or are entangled in an argument. It is often used to describe situations where people get caught in pointless arguments or squabbles.

Meaning: The meaning of this idiom is to argue without any solid reason or to get involved in unnecessary disputes. It often illustrates situations where people get entangled with each other over trivial matters.

Usage: This idiom is used when two people or a group are unnecessarily arguing with each other. For example, if two colleagues are arguing over a minor issue, you can say that they are engaged in “तू-तू मैं-मैं.”

Example:

-> In the office today, there was again a “तू-तू मैं-मैं” between Ram and Shyam.

-> A “तू-तू मैं-मैं” started over a small matter between the neighbors.

Conclusion: “तू-तू मैं-मैं” is an idiom that depicts mutual disputes and minor altercations in society. It also teaches us that sometimes ignoring small matters can prevent major disputes. The use of this idiom also demonstrates the richness and diversity of our language.

Story of ‌‌Tu-tu main-main Idiom in English:

In a small village, there lived two neighbors named Aman and Niyant. Between their houses stood a large mango tree, whose shade made both their homes comfortable. One day, the tree started bearing mangoes.

Aman thought, “This tree leans towards my house, so its mangoes belong to me.” Niyant had the same thought. Both claimed the mangoes, leading to a heated argument between them.

Hearing their dispute, an elder of the village called them and said, “You both are fighting over this tree, but do you know that a tree belongs to no one? It provides fruit and shade to everyone.”

Aman and Niyant understood the elder’s words and decided to resolve their dispute. They agreed to share the tree’s mangoes and take care of it together.

Conclusion:

This story teaches us that nothing is gained from arguments and disputes without solid reasons. Often, it’s better to wisely resolve issues rather than argue over trivial matters.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या “तू-तू मैं-मैं” का अर्थ सिर्फ अहंकार को दर्शाता है?

जी हां, इस मुहावरे का प्रमुख अर्थ यही है, लेकिन कई बार यह भी देखा जाता है कि यह व्यक्ति की असहिष्णुता और स्वार्थ को भी दर्शाता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में होता है?

यह मुहावरा अक्सर उस समय इस्तेमाल होता है जब कोई व्यक्ति अपनी अहंकारी या स्वार्थी भावनाओं का प्रदर्शन करता है।

क्या होता है “तू-तू मैं-मैं” का मुहावरा?

तू-तू मैं-मैं” एक ऐसा मुहावरा है जो किसी व्यक्ति की अहंकारी या अपने आप में मग्नता को दर्शाता है।

क्या यह मुहावरा केवल वाणिज्यिक या उच्च वर्ग के लोगों के लिए है?

नहीं, यह मुहावरा समाज के हर वर्ग और वर्ग के व्यक्ति के लिए हो सकता है, क्योंकि अहंकार और स्वार्थ किसी भी व्यक्ति को दिखाई दे सकते हैं।

क्या इस मुहावरे का कोई अन्य संबंधित मुहावरा है?

हां, “मेरे में” और “तेरे में” भी इसी तरह के मुहावरे हैं जो स्वार्थी और अहंकारी भावनाओं को दर्शाते हैं।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।