Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » तू-तड़ाक करना अर्थ, प्रयोग(Tu-Tadak karna)

तू-तड़ाक करना अर्थ, प्रयोग(Tu-Tadak karna)

परिचय: “तू-तड़ाक करना” हिंदी भाषा में एक लोकप्रिय मुहावरा है, जिसका प्रयोग अक्सर उस स्थिति को वर्णित करने के लिए होता है जब कोई व्यक्ति अनावश्यक रूप से अग्रेसिव या आक्रामक तरीके से पेश आता है। यह मुहावरा अक्सर उन परिस्थितियों में प्रयोग होता है जहां किसी की बातचीत या व्यवहार में अनावश्यक रूप से रूखापन या आक्रामकता दिखाई देती है।

अर्थ: “तू-तड़ाक करना” का अर्थ है किसी के साथ रूखे तरीके से बात करना या झगड़ालू रवैया अपनाना। यह अक्सर तब होता है जब किसी व्यक्ति की बातचीत में सम्मान की कमी होती है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति अनुचित तरीके से दूसरों के साथ बात करता है या उन्हें झिड़कता है। यह व्यवहार समाज में अस्वीकार्य माना जाता है।

उदाहरण:

-> जब किसी वरिष्ठ कर्मचारी ने अपने जूनियर से बिना कारण के तू-तड़ाक किया।

-> एक दुकानदार जो अपने ग्राहकों से तू-तड़ाक करता है, बिना किसी वजह के।

निष्कर्ष: “तू-तड़ाक करना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि संवाद में सम्मान और विनम्रता महत्वपूर्ण हैं। यह हमें यह भी बताता है कि अनुचित व्यवहार या आक्रामकता से न केवल संबंध खराब होते हैं, बल्कि इससे सामाजिक संबंधों में भी दरार आती है। इसलिए, हमें हमेशा विनम्र और सम्मानजनक तरीके से बातचीत करनी चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

तू-तड़ाक करना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अनुभव नाम का एक युवक रहता था। अनुभव अपने काम में तो बहुत अच्छा था, लेकिन उसका व्यवहार अक्सर बहुत रूखा होता था। वह अक्सर लोगों से तू-तड़ाक करता था, चाहे वह उसके दोस्त हों या परिवार के सदस्य।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा मेला लगा। अनुभव ने वहाँ एक स्टॉल लगाया। जब ग्राहक उसके स्टॉल पर आए, तो उसने उनसे भी तू-तड़ाक से बात की। उसके इस व्यवहार से ग्राहक नाराज हो गए और उसके स्टॉल से सामान नहीं खरीदा।

अनुभव के पिताजी ने यह देखा और उसे समझाया कि उसका यह व्यवहार ठीक नहीं है। उन्होंने कहा, “बेटा, तू-तड़ाक से बात करने से न केवल तुम्हारे संबंध खराब होते हैं, बल्कि तुम्हारा काम भी प्रभावित होता है।”

अनुभव ने अपने पिता की बातों पर विचार किया और महसूस किया कि उसका व्यवहार वाकई में गलत था। उसने फैसला किया कि वह आगे से सभी से विनम्रता और सम्मान के साथ पेश आएगा।

इस प्रकार, अनुभव ने अपने तू-तड़ाक करने के व्यवहार को बदला और गाँववालों के लिए एक सकारात्मक उदाहरण बन गया। उसने सीखा कि विनम्रता और सम्मान से ही अच्छे संबंध और सफलता मिलती है।

शायरी:

जुबान से निकले शब्द तो, जैसे तीर कमान से निकल जाना,

बातों में तू-तड़ाक हो, तो संबंधों का मान घटल जाना।

जिसने भी ये राह चुनी, उसने दिल आहत किया,

तू-तड़ाक करने वालों ने, हर रिश्ता तबाह किया।

जिस जुबान से प्यार की बातें, उसी से तू-तड़ाक ना हो,

जहां इज्जत और मोहब्बत हो, वहां ये आदत ना हो।

हर लफ्ज़ में चुभन नहीं, हर जवाब में इकरार नहीं,

तू-तड़ाक की इस आदत से, कोई भी प्यार नहीं।

बात करो तो ऐसे करो, जैसे फूलों की बारिश हो,

तू-तड़ाक नहीं, प्यार हो, जहां दिल से दिल की गुफ्तगू हो।

 

तू-तड़ाक करना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of तू-तड़ाक करना – Tu-Tadak karna Idiom:

Introduction: “Tu-Tadak Karna” is a popular Hindi idiom, often used to describe a situation where a person behaves in an unnecessarily aggressive or confrontational manner. This idiom is typically used in contexts where someone’s conversation or behavior exhibits unnecessary rudeness or aggression.

Meaning: The meaning of “Tu-Tadak Karna” is to talk to someone in a rude manner or to adopt a quarrelsome attitude. It usually happens when there is a lack of respect in someone’s conversation.

Usage: This idiom is used when a person speaks to others inappropriately or scolds them. Such behavior is considered unacceptable in society.

Example:

-> When a senior employee talks to a junior without any reason in a ‘Tu-Tadak’ manner.

-> A shopkeeper who speaks to his customers in a ‘Tu-Tadak’ way, without any reason.

Conclusion: The idiom “Tu-Tadak Karna” teaches us that respect and politeness are important in conversation. It also tells us that inappropriate behavior or aggression not only spoils relationships but also creates rifts in social connections. Therefore, we should always converse in a polite and respectful manner.

Story of ‌‌Tu-Tadak Karna Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Anubhav. Anubhav was very good at his work, but his behavior was often quite harsh. He frequently spoke rudely to people, whether they were his friends or family members.

One day, a big fair was organized in the village. Anubhav set up a stall there. When customers came to his stall, he also spoke to them rudely. This behavior annoyed the customers, and they did not buy anything from his stall.

Anubhav’s father noticed this and explained to him that his behavior was not appropriate. He said, “Son, speaking rudely not only spoils your relationships but also affects your work.”

Anubhav reflected on his father’s words and realized that his behavior was indeed wrong. He decided that from then on, he would interact with everyone with politeness and respect.

Thus, Anubhav changed his rude behavior and became a positive example for the villagers. He learned that good relationships and success come from politeness and respect.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या यह मुहावरा नकारात्मक अर्थ में प्रयोग किया जा सकता है?

हां, “तू-तड़ाक करना” का प्रयोग नकारात्मक अर्थ में भी किया जा सकता है, जैसे किसी को अपमानित करने के लिए।

इस मुहावरे का उपयोग किस परिस्थिति में किया जाता है?

“तू-तड़ाक करना” का उपयोग अक्सर किसी के साथ जारी विवाद या जगड़े के दौरान होता है।

क्या होता है “तू-तड़ाक करना” मुहावरा?

“तू-तड़ाक करना” एक प्रयोग या व्यवहार है जिसमें किसी को ताना या चिढ़ाना द्वारा अपमानित किया जाता है।

क्या इसका वास्तविक अर्थ है?

नहीं, “तू-तड़ाक करना” का वास्तविक अर्थ केवल अपमान नहीं होता है, बल्कि यह भावनात्मक रूप से अपमान या चिढ़ाने का भी प्रतीक हो सकता है।

क्या इस मुहावरे का कोई समानार्थक है?

हाँ, “तू-तड़ाक करना” के समानार्थी मुहावरे हो सकते हैं जैसे “छेड़-चाड़” या “चिढ़ाना”।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।