Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » ठुड्डी पकड़ना अर्थ, प्रयोग (Thuddi pakdna)

ठुड्डी पकड़ना अर्थ, प्रयोग (Thuddi pakdna)

परिचय: हिंदी भाषा के मुहावरे भावनाओं और स्थितियों को विशेष रूप से व्यक्त करते हैं। “ठुड्डी पकड़ना” भी एक ऐसा ही मुहावरा है, जो आमतौर पर विडंबना या विरोधाभासी स्थितियों में प्रयोग किया जाता है।

अर्थ: “ठुड्डी पकड़ना” मुहावरे का अर्थ है किसी व्यक्ति की गलती या असफलता पर जोर देना। यह अक्सर तब प्रयोग किया जाता है जब कोई अपनी गलती का एहसास करे और उसे स्वीकार करे।

प्रयोग: यह मुहावरा उस समय प्रयोग किया जाता है जब किसी को अपनी गलती का अहसास हो और वह इसे स्वीकार करने के लिए मजबूर हो। यह अक्सर व्यंग्यात्मक रूप में प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

-> विशाल ने जब अपनी गलती मानी, तो सबने कहा, ‘लो भई, ठुड्डी पकड़ ली।’

-> जब पता चला कि प्रोजेक्ट में गड़बड़ी उसकी वजह से हुई, तो उसे ठुड्डी पकड़नी पड़ी।

निष्कर्ष: “ठुड्डी पकड़ना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि जीवन में गलतियाँ करना सामान्य है, लेकिन उन्हें स्वीकार करना और उनसे सीखना महत्वपूर्ण है। यह मुहावरा हमें यह भी बताता है कि गलतियों का सामना करने और उन्हें सुधारने की प्रक्रिया में हम अधिक समझदार और परिपक्व बनते हैं। इस प्रकार, “ठुड्डी पकड़ना” न केवल एक मुहावरा है, बल्कि यह हमारे व्यक्तित्व विकास का एक महत्वपूर्ण पहलू भी है।

ठुड्डी पकड़ना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से शहर में अभय नाम का एक युवक रहता था। अभय बहुत ही मेहनती और लगनशील था, पर कभी-कभी वह जल्दबाजी में गलतियाँ कर बैठता था। एक दिन उसके ऑफिस में एक बड़ी परियोजना का काम चल रहा था, और अभय को उस परियोजना की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

अभय ने पूरी लगन से काम किया, पर जल्दबाजी में उसने एक महत्वपूर्ण गणना में गलती कर दी। जब परियोजना का प्रस्तुतीकरण हुआ, तो गलती सामने आ गई। अभय के बॉस ने तुरंत उसे बुलाया और गलती के बारे में पूछा। पहले तो अभय थोड़ा घबरा गया, लेकिन फिर उसने अपनी गलती स्वीकार की और कहा, “मैं समझता हूँ कि मेरी वजह से यह गलती हुई है। मैं इसे सुधारने की पूरी कोशिश करूँगा।” उसके बॉस ने उसे समझाया कि गलतियों से सीखना और उन्हें स्वीकार करना ही असली सीख है।

अभय ने इस घटना से बहुत कुछ सीखा। उसने अपनी गलती को ठीक किया और आगे चलकर अपने काम में और भी सावधानी बरती। उसके सहकर्मियों ने भी उसकी प्रशंसा की, क्योंकि उसने अपनी गलती को स्वीकार किया और उसे सुधारा।

इस तरह, अभय की कहानी “ठुड्डी पकड़ना” मुहावरे का सही अर्थ समझाती है। यह मुहावरा हमें दिखाता है कि गलतियाँ करना मानवीय है, लेकिन उन्हें स्वीकार करना और उनसे सीखना ही वास्तविक समझदारी है। अभय की तरह, हम सभी को अपनी गलतियों को स्वीकार करने और उनसे सीखने का साहस दिखाना चाहिए।

शायरी:

गलतियों का हिसाब जब खुद से किया मैंने,

ठुड्डी पकड़ ली, माना कि गलती हुई है अपने।

जीवन की राह में आए कितने ही इम्तिहान,

ठुड्डी पकड़ने में ही समझो, छिपा हर ज्ञान।

अपनी गलतियों से ही सीखा, जीवन का सच्चा पाठ,

ठुड्डी पकड़कर मैंने चुनी, एक नई राह।

गलतियों की चादर में, ढूंढा जब मैंने अपना चेहरा,

ठुड्डी पकड़कर माना, यही है जीवन का मेला।

हर खता पे अपनी, जब ठुड्डी पकड़ लेता हूँ मैं,

समझ लेता हूँ, जीवन की हर उलझन को आज मैं।

ठुड्डी पकड़ना ही तो है, जीवन की सबसे बड़ी बात,

इसी में छिपा है, जीवन का सुनहरा प्रात।

 

ठुड्डी पकड़ना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of ठुड्डी पकड़ना – Thuddi pakdna Idiom:

Introduction: Hindi idioms uniquely express emotions and situations. “ठुड्डी पकड़ना” (holding the chin) is one such idiom, commonly used in situations of irony or contradiction.

Meaning: The idiom “ठुड्डी पकड़ना” (holding the chin) means to emphasize someone’s mistake or failure. It is often used when someone realizes and accepts their mistake.

Usage: This idiom is used when a person becomes aware of their mistake and is compelled to acknowledge it. It is often used in a sarcastic manner.

Example:

-> When Vishal admitted his mistake, everyone said, ‘Look, he finally holds his chin (acknowledges his mistake).’

-> When it was discovered that the error in the project was due to his oversight, he had to ‘hold his chin (admit his mistake).’

Conclusion: The idiom “ठुड्डी पकड़ना” (holding the chin) teaches us that making mistakes is normal in life, but accepting and learning from them is important. This idiom also tells us that we become wiser and more mature through the process of facing and correcting our mistakes. Thus, “ठुड्डी पकड़ना” is not just an idiom, but also a significant aspect of our personal development.

Story of ‌‌Thuddi pakdna Idiom in English:

In a small town, there was a young man named Abhay. Abhay was very hardworking and dedicated, but sometimes he made mistakes in haste. One day, a major project was underway at his office, and Abhay was entrusted with an important responsibility for this project.

Abhay worked with full dedication, but in his haste, he made a significant error in a calculation. When the project was presented, the mistake came to light. Abhay’s boss immediately called him and asked about the error. Initially, Abhay was a bit nervous, but then he admitted his mistake and said, “I understand that this mistake happened because of me. I will try my best to correct it.” His boss explained to him that learning from mistakes and accepting them is the real lesson.

Abhay learned a lot from this incident. He corrected his mistake and became more cautious in his work thereafter. His colleagues also praised him because he accepted and rectified his mistake.

Thus, Abhay’s story illustrates the true meaning of the idiom “ठुड्डी पकड़ना” (holding the chin). This idiom shows us that making mistakes is human, but accepting them and learning from them is true wisdom. Like Abhay, we all should have the courage to accept our mistakes and learn from them.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।