Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » तेली का काम तमोली से नहीं होता अर्थ, प्रयोग(Teli ka kaam tamoli se nahi hota)

तेली का काम तमोली से नहीं होता अर्थ, प्रयोग(Teli ka kaam tamoli se nahi hota)

परिचय: “तेली का काम तमोली से नहीं होता” यह हिंदी मुहावरा विशेषज्ञता और कौशल की महत्वता पर प्रकाश डालता है। इस मुहावरे में ‘तेली’ का अर्थ है तेल निकालने वाला और ‘तमोली’ का अर्थ है पान बेचने वाला।

अर्थ: इस मुहावरे का सामान्य अर्थ है कि प्रत्येक काम के लिए विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। तेली का काम तमोली नहीं कर सकता, यानी प्रत्येक व्यवसाय या काम के लिए उस विषय के विशेषज्ञ की जरूरत होती है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उस समय प्रयोग में लाया जाता है जब किसी व्यक्ति को उसके क्षेत्र के बाहर का काम करने की चुनौती दी जाती है या जब कोई अपने विशेषज्ञता क्षेत्र से बाहर का काम करने का प्रयास करता है।

उदाहरण:

-> विशाल ने जब कंप्यूटर ठीक करने की कोशिश की, तो उसके दोस्त ने कहा, “तेली का काम तमोली से नहीं होता, इसे तो किसी तकनीशियन से ही ठीक करवाना पड़ेगा।”

-> लक्ष्मी ने जब गाड़ी की मरम्मत करने की कोशिश की, तो उसके पिता ने कहा, “बेटा, तेली का काम तमोली से नहीं होता।”

निष्कर्ष: “तेली का काम तमोली से नहीं होता” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि प्रत्येक काम के लिए उस क्षेत्र के विशेषज्ञ की जरूरत होती है। यह हमें यह भी बताता है कि विशेषज्ञता और अनुभव का महत्व किसी भी क्षेत्र में अपरिहार्य है। इस मुहावरे का प्रयोग हमारी भाषा की समृद्धि और ज्ञान के प्रति हमारी समझ को भी दर्शाता है।

Hindi Muhavare Quiz

तेली का काम तमोली से नहीं होता मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में विनीत नामक एक तेली और सुधीर नामक एक तमोली रहते थे। विनीत बहुत ही कुशलता से तेल निकालने का काम करता था, वहीं सुधीर पान बेचने में माहिर था।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा मेला लगा। उस मेले में, विनीत और सुधीर ने सोचा कि वे अपना-अपना काम बदल लेंगे। विनीत ने सोचा कि वह पान बेचेगा और सुधीर ने सोचा कि वह तेल निकालेगा।

विनीत ने पान की दुकान सजाई, लेकिन उसे पान बनाने का सही तरीका नहीं पता था। वहीं, सुधीर तेल निकालने की मशीन को ठीक से चला नहीं पा रहा था। ग्राहकों ने विनीत के पान की शिकायत की और सुधीर के तेल की भी।

तभी, गाँव के एक बुजुर्ग ने उन्हें समझाया, “तेली का काम तमोली से नहीं होता। हर किसी की अपनी विशेषज्ञता होती है और उसी में उसे माहिर होना चाहिए।”

विनीत और सुधीर ने बुजुर्ग की बात मानी और अपने-अपने पुराने काम पर लौट आए। इसके बाद, उनका व्यापार फिर से फलने-फूलने लगा।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें यह सीखने को मिलता है कि हर व्यक्ति की अपनी एक विशेषज्ञता होती है। “तेली का काम तमोली से नहीं होता” मुहावरा हमें बताता है कि हर काम के लिए उस क्षेत्र के विशेषज्ञ की जरूरत होती है। यह मुहावरा विशेषज्ञता के महत्व को भी दर्शाता है।

शायरी:

हर फन में रंग है अलग, हर कारीगर की अपनी दास्ताँ,

तेली का काम तमोली से नहीं होता, हर इंसान की अपनी पहचान।

जैसे चाँद को सूरज की नहीं जरूरत, और सूरज चाँद से नहीं रोशन होता,

हर किसी की अपनी काबिलियत है, तेली का काम तमोली से नहीं होता।

हर ख्वाब की अपनी उड़ान है, हर मंजिल का अपना रास्ता,

किसी के सपने में किसी का नहीं बसेरा, तेली का काम तमोली से नहीं होता।

मेरी कलम से मेरी बात होती है, जैसे सागर में हर लहर की अपनी चाल,

हर इंसान की अपनी खूबी होती है, तेली का काम तमोली से नहीं होता।

इस दुनिया की भीड़ में हर किसी की अपनी जगह,

काम करने का अपना हुनर, तेली का काम तमोली से नहीं होता।

 

तेली का काम तमोली से नहीं होता शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of तेली का काम तमोली से नहीं होता – Teli ka kaam tamoli se nahi hota Idiom:

Introduction: The Hindi idiom “तेली का काम तमोली से नहीं होता” highlights the importance of expertise and skill. In this phrase, ‘तेली’ means an oil extractor, and ‘तमोली’ refers to a betel leaf seller.

Meaning: The general meaning of this idiom is that every task requires specialized expertise. The task of an oil extractor cannot be done by a betel leaf seller, implying that every profession or job requires an expert in that field.

Usage: This idiom is often used when someone is challenged to perform a task outside their area of expertise or when someone tries to do a job beyond their specialized field.

Example:

-> When Vishal tried to fix the computer, his friend said, “तेली का काम तमोली से नहीं होता, you should get a technician to fix it.”

-> When Lakshmi tried to repair her car, her father said, “Daughter, तेली का काम तमोली से नहीं होता.”

Conclusion: The idiom “तेली का काम तमोली से नहीं होता” teaches us that every task requires a specialist in that field. It also tells us about the indispensable importance of expertise and experience in any area. The usage of this idiom reflects the richness of our language and our understanding of knowledge.

Story of ‌‌Teli ka kaam tamoli se nahi hota Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived an oil extractor named Vineet and a betel leaf seller named Sudhir. Vineet was very skilled at extracting oil, while Sudhir excelled in selling betel leaves.

One day, a big fair was organized in the village. At the fair, Vineet and Sudhir thought of switching their jobs. Vineet decided to sell betel leaves, and Sudhir decided to extract oil.

Vineet set up a betel leaf shop but didn’t know the correct way to prepare betel leaves. Similarly, Sudhir struggled to operate the oil extraction machine properly. Customers complained about Vineet’s betel leaves and Sudhir’s oil.

Then, an elder from the village explained to them, “An oil extractor’s work cannot be done by a betel leaf seller. Everyone has their own expertise, and they should master their own field.”

Vineet and Sudhir heeded the elder’s advice and returned to their respective original jobs. Afterward, their businesses started flourishing again.

Conclusion:

This story teaches us that every individual has their own area of expertise. The idiom “तेली का काम तमोली से नहीं होता” tells us that every task requires a specialist in that field. This idiom also highlights the importance of expertise.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का अर्थ अच्छे से समझाया जा सकता है?

हाँ, यह मुहावरा एक व्यक्ति को बताता है कि किसी काम को अच्छे से करने के लिए सही व्यक्ति की आवश्यकता होती है।

तेली क्या होता है?

तेली वह व्यक्ति है जो तेल बेचने या बनाने का काम करता है।

क्या तमोली क्या है?

तमोली एक व्यक्ति होता है जो अपने काम को ठीक से नहीं करता है और लापरवाह होता है।

क्या यह मुहावरा केवल तेली व्यक्तियों के लिए है?

नहीं, यह मुहावरा किसी भी क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए है।

क्या इस मुहावरे का कोई ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है?

ऐतिहासिक दृष्टिकोण से, यह मुहावरा जीवन के अनुभवों से निकला है जहां अगर कोई काम ठीक से नहीं होता, तो उसकी जिम्मेदारी उसके कर्मचारियों की होती है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।