Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » तैश में आना अर्थ, प्रयोग(Taish mein aana)

तैश में आना अर्थ, प्रयोग(Taish mein aana)

“तैश में आना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जो अक्सर उन परिस्थितियों में प्रयोग होता है जब कोई व्यक्ति क्रोध या उत्तेजना में आ जाता है। इस मुहावरे के माध्यम से किसी के अचानक और अत्यधिक क्रोधित होने की स्थिति का वर्णन किया जाता है।

परिचय: “तैश में आना” मुहावरा भावनाओं के अनियंत्रित होने का द्योतक है। यह बताता है कि कैसे कोई भी व्यक्ति, विशेष रूप से क्रोध में, अपने नियंत्रण को खो सकता है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि किसी बात पर बहुत ज्यादा क्रोधित या उत्तेजित होना। यह अक्सर उस स्थिति को दर्शाता है जहाँ व्यक्ति गुस्से के आवेग में आकर अपनी समझदारी खो देता है।

प्रयोग: यह मुहावरा तब प्रयोग किया जाता है जब किसी को देखकर यह लगे कि वह अत्यधिक क्रोधित है और उसका व्यवहार अनियंत्रित हो रहा है।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक कर्मचारी का बॉस उसे बिना किसी ठोस कारण के डांटता है, और इससे कर्मचारी “तैश में आ जाता है” और उसका रिएक्शन अत्यधिक क्रोधित होता है।

निष्कर्ष: “तैश में आना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि क्रोध में अपने नियंत्रण को न खोना चाहिए। यह दर्शाता है कि कैसे क्रोध के क्षण में हमारे निर्णय अविवेकपूर्ण हो सकते हैं। इसलिए, यह हमें संयम और धैर्य रखने की शिक्षा देता है।

अतः, “तैश में आना” केवल एक मुहावरा नहीं, बल्कि एक जीवन शिक्षा भी है, जो हमें अपने क्रोध पर नियंत्रण रखने और संयमित व्यवहार करने का महत्व सिखाती है।

Hindi Muhavare Quiz

तैश में आना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में शुभ नामक एक युवक रहता था। वह बहुत मेहनती और प्रतिभाशाली था, लेकिन उसकी एक समस्या थी – वह जल्दी ही ‘तैश में आ जाता था।’

एक दिन, गाँव में एक खेल प्रतियोगिता हुई। शुभ ने भी इसमें भाग लिया। खेल के दौरान, एक प्रतिद्वंद्वी ने उसे गलती से धक्का दे दिया। इस पर शुभ ‘तैश में आ गया’ और उसने अपने प्रतिद्वंद्वी को बहुत बुरा-भला कहा। इससे माहौल तनावपूर्ण हो गया, और शुभ को खेल से बाहर कर दिया गया।

शुभ के दादाजी, जो उसे देख रहे थे, उसे समझाने लगे। उन्होंने कहा, “शुभ, तुम्हारी क्षमता और मेहनत तुम्हें जीत दिला सकती थी, लेकिन तुम्हारा ‘तैश’ तुम्हारी सबसे बड़ी कमजोरी है। क्रोध में आकर तुमने न केवल खुद को बल्कि अपनी टीम को भी नुकसान पहुँचाया।”

शुभ को अपनी गलती का एहसास हुआ। उसने सीखा कि ‘तैश में आने’ से न केवल खुद को बल्कि दूसरों को भी नुकसान पहुंचता है। उस दिन के बाद से, शुभ ने अपने क्रोध पर काबू पाने का फैसला किया और संयमित बनने की कोशिश की।

इस तरह, शुभ ने समझा कि ‘तैश में आना’ कितना हानिकारक हो सकता है और यह कहानी हमें भी यही सिखाती है कि क्रोध में आकर कोई भी निर्णय लेना अक्सर गलत होता है।

शायरी:

जोश में आकर इंसान, खो देता है खुद को यहाँ,

‘तैश में आना’ है उसका, खुद से खो जाने का निशाँ।

हर लफ्ज़ में बरसता है, गुस्से का वो तूफान,

जिसमें डूब जाती है, खुद की पहचान।

तैश में आकर कभी भी, ना करो फैसला जल्दबाज़ी में,

अक्सर टूट जाते हैं रिश्ते, इस क्रोध की आँधी में।

गुस्से की एक लहर में, खो जाता है सब कुछ प्यारा,

‘तैश में आना’ छोड़ो, धैर्य रखो हर बारा।

कहते हैं जो अपने गुस्से को, कर लेते हैं काबू,

उन्हीं के कदमों में होती है, दुनिया की सब राहू।

 

तैश में आना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of तैश में आना – Taish mein aana Idiom:

“Taish mein aana” is a prevalent Hindi idiom, commonly used in situations where a person becomes angry or agitated. This idiom describes a state where someone suddenly becomes extremely angry.

Introduction: The idiom “Taish mein aana” signifies the loss of control over emotions. It highlights how a person, especially in anger, can lose their self-control.

Meaning: The meaning of this idiom is to become extremely angry or agitated over something. It often portrays a situation where a person, in a fit of anger, loses their sense of reasoning.

Usage: This idiom is used when someone appears to be excessively angry and their behavior is becoming uncontrollable.

Example:

For instance, if an employee’s boss scolds them without any solid reason, and this causes the employee to “Taish mein aana,” resulting in an extremely angry reaction.

Conclusion: The idiom “Taish mein aana” teaches us not to lose our control in anger. It shows how decisions made in moments of rage can be imprudent. Therefore, it educates us to maintain patience and composure.

Thus, “Taish mein aana” is not just an idiom, but also a life lesson that teaches us the importance of controlling our anger and behaving in a restrained manner.

Story of ‌‌Taish mein aana Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Shubh. He was very hardworking and talented, but he had one problem – he would quickly ‘lose his temper.’

One day, a sports competition was held in the village. Shubh also participated in it. During the game, a competitor accidentally pushed him. This made Shubh ‘lose his temper’ and he started hurling abuses at his opponent. This created a tense atmosphere, and Shubh was disqualified from the game.

Shubh’s grandfather, who was watching him, started to explain to him. He said, “Shubh, your ability and hard work could have won you the game, but your ‘temper’ is your biggest weakness. In anger, you not only harmed yourself but also your team.”

Shubh realized his mistake. He learned that ‘losing temper’ not only harms oneself but also others. From that day on, Shubh decided to control his anger and tried to be more composed.

Thus, Shubh understood how harmful ‘losing temper’ can be, and this story also teaches us that decisions made in anger are often wrong.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

यह मुहावरा किस प्रकार के लोगों या स्थितियों के लिए उपयुक्त है?

“तैश में आना” किसी भी व्यक्ति या स्थिति के लिए उपयुक्त है जो संघर्ष या समस्याओं का सामना कर रहा हो।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में होता है?

“तैश में आना” का उपयोग किसी स्थिति में गड़बड़ी या परेशानी को व्यक्त करने के लिए किया जाता है।

क्या है “तैश में आना” का मुहावरा?

“तैश में आना” एक हिंदी मुहावरा है जिसका अर्थ होता है किसी चीज़ में गड़बड़ी या उलझन में पड़ जाना।

“तैश में आना” का विपरीत अर्थ क्या होता है?

इसका विपरीत अर्थ होता है स्थिरता या सुख-शांति में होना।

क्या इस मुहावरे का कोई संदर्भ है जिसमें यह विशेष रूप से प्रयोग किया जाता है?

जी हां, जब कोई किसी जटिल समस्या का सामना कर रहा हो या जब किसी समस्या का हल निकालने में अटक जाता हो, तो इस मुहावरे का उपयोग किया जाता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।