Budhimaan

सिर चढ़ाना, अर्थ, प्रयोग(Sir chadana)

सिर चढ़ाना मुहावरा, Budhimaan.com logo, Illustration of "सिर चढ़ाना" idiom

अर्थ: “सिर चढ़ाना” मुहावरा तब प्रयोग होता है जब किसी को अधिक महत्व या सम्मान दिया जाता है, और उस व्यक्ति के सिर पर घमंड चढ़ जाता है। यह मुहावरा वह अवस्था दर्शाता है जब किसी व्यक्ति को अपनी महत्वपूर्णता का अधिक अहसास होता है।

उदाहरण:

-> मोहित ने अनुराग को सिर पर चढ़ा रखा है, अब तो वह ऑफिस में काम ही नहीं करता।

प्रयोग: अगर हम किसी व्यक्ति को बिना सोचे-समझे अधिक महत्व देते हैं या उसकी प्रशंसा अधिक करते हैं, तो कभी-कभी वह व्यक्ति अपनी महत्वपूर्णता को लेकर घमंडी हो सकता है। इसलिए हमें सोच-समझकर व्यक्ति की प्रशंसा करनी चाहिए ताकि हम उसके सिर पर घमंड न चढ़ा सकें।

विशेष टिप्पणी: “सिर चढ़ाना” मुहावरे का अर्थ है किसी को अधिक महत्व देना जिससे वह व्यक्ति घमंडी हो जाता है। यह हमें यह सिखाता है कि हमें संतुलन बनाये रखना चाहिए और किसी को भी अधिक महत्व देने से पहले सोच समझकर फैसला लेना चाहिए।

सिर चढ़ाना मुहावरा पर कहानी:

गाँव में एक छोटा सा स्कूल था जिसमें अध्यापक रामेश्वर प्रतिदिन बच्चों को पढ़ाते थे। वह बहुत समझदार और प्रतिभाशाली थे। गाँव के प्रत्येक व्यक्ति ने उनकी प्रशंसा की और उन्हें गाँव का सबसे बड़ा ज्ञानी मान लिया।

रामेश्वर की यह प्रशंसा सुनते-सुनते उनके सिर पर चढ़ गई। अब वह बच्चों को पढ़ाना नहीं चाहते थे, क्योंकि वह समझते थे कि उन्हें अब और भी बड़े काम करने चाहिए। उन्होंने पढ़ाना छोड़ दिया और गाँव में हर जगह अपनी प्रशंसा की बातें करते रहे।

गाँव के अन्य लोग उन्हें समझाने की कोशिश की कि वह अपने मूल कार्य को न छोड़ें, लेकिन रामेश्वर ने सुनने का नाम ही नहीं लिया। वक्त बीतता गया, और बिना उनकी शिक्षा के गाँव के बच्चे पीछे रह गए।

एक दिन, गाँव में एक बुजुर्ग आए और रामेश्वर से मिले। उस बुजुर्ग ने रामेश्वर को समझाया कि प्रशंसा और सम्मान उसके सिर पर चढ़ गया है और उसने अपनी असली जिम्मेदारी को भूल दिया है। रामेश्वर को अचानक समझ आया कि वह कितनी बड़ी गलती कर रहा है।

उसने फिर से स्कूल में पढ़ाना शुरू किया और अपनी अहंकारी प्रवृत्तियों को छोड़ दिया। गाँव के लोग भी उसकी इस बदलाव को देखकर खुश हुए।

इस कहानी से हमें यह सीखने को मिलता है कि अधिक प्रशंसा और सम्मान से किसी के सिर पर घमंड चढ़ सकता है, और उसे अपनी असली जिम्मेदारियों से भटकने पर मजबूर कर सकता है। इसलिए हमें संतुलन बनाये रखना चाहिए और हमारी प्रशंसा को सही दिशा में ले जाने की कोशिश करनी चाहिए।

शायरी:

उसकी तारीफों में डूबकर वह बदला कैसे,

सिर चढ़ा कर भूल गया वो पुराने जैसे।

जिस मित्रता में था पहले वो प्यार सा,

अहंकार में खो बैठा वो सारा असर जैसे।

 

सिर चढ़ाना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of सिर चढ़ाना – Sir chadana Idiom:

Meaning:  The idiom “Sir chadana” is used when someone is given undue importance or respect, leading to that person becoming arrogant. This phrase illustrates a situation where an individual feels overly significant.

Examples:

-> Mohit always gave Anurag a lot of respect, which resulted in Anurag becoming arrogant.

Usage: If we give someone undue importance or excessively praise them without careful consideration, they might become arrogant about their significance. Therefore, we should think carefully before praising someone so as not to inflate their ego.

Special Note: The meaning of the idiom “Sir chadana” is to give someone undue importance, leading to that person becoming arrogant. It teaches us to maintain a balance and decide with caution before giving anyone too much significance.

Story of ‌‌Sir chadana Idiom in English:

In the village, there was a small school where teacher Rameshwar taught children every day. He was very wise and talented. Every individual in the village praised him and considered him the most knowledgeable person in the village.

Hearing praises constantly, it got to Rameshwar’s head. Now, he didn’t want to teach the children because he believed that he should be doing even greater things. He left the school and kept boasting about himself all over the village.

The villagers tried to make him understand that he shouldn’t abandon his primary duty, but Rameshwar paid no heed. Time went by, and without his guidance, the children of the village lagged behind in their studies.

One day, an elderly man visited the village and met Rameshwar. The old man explained to Rameshwar that the praises and respect had gone to his head, and he had forgotten his true responsibility.

Rameshwar suddenly realized the grave mistake he was making. He resumed teaching at the school and abandoned his arrogant ways. The villagers were also pleased to see this change in him.

From this story, we learn that excessive praise and respect can make someone arrogant and can lead them astray from their real responsibilities. Therefore, we should maintain a balance and ensure that our praises guide someone in the right direction.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"टुकड़ा खाए दिल बहलाए कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "कपड़े फाटे घर को आए कहावत की व्याख्या वाला चित्र", "आर्थिक संघर्ष दर्शाती Budhimaan.com की छवि", "भारतीय ग्रामीण जीवन का यथार्थ चित्रण"
Kahavaten

टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए, अर्थ, प्रयोग(Tukda khaye dil bahlaye, Kapde fate ghar ko aaye)

“टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए” यह हिंदी कहावत कठिन परिस्थितियों में जीवन यापन करने के संघर्ष को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"टका सर्वत्र पूज्यन्ते कहावत का चित्रण", "धन और सामाजिक सम्मान का प्रतीकात्मक चित्र", "भारतीय समाज में धन का चित्रण", "हिंदी कहावतों का विश्लेषण - Budhimaan.com"
Kahavaten

टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते, अर्थ, प्रयोग(Taka sarvatra pujyate, Bin taka taktakayte)

परिचय: हिंदी की यह कहावत “टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते” धन के महत्व और समाज में इसके प्रभाव पर जोर देती है। यह कहावत

Read More »
"टेर-टेर के रोवे कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर व्यक्तिगत समस्याओं का समाधान", "सामाजिक प्रतिष्ठा की रक्षा करती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की व्याख्या वाला चित्र"
Kahavaten

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग(Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” यह हिंदी कहावत व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार और सबके सामने व्यक्त करने के परिणामों को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"ठग मारे अनजान कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर बनिया मारे जान कहावत का विश्लेषण", "धोखाधड़ी के विभिन्न रूप दर्शाती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की गहराई का चित्रण"
Kahavaten

ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान, अर्थ, प्रयोग(Thag mare anjaan, Baniya maare jaan)

“ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान” यह हिंदी कहावत विभिन्न प्रकार के छल-कपट की प्रकृति को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम यह

Read More »
"टका हो जिसके हाथ में कहावत का चित्रण", "समाज में धन की भूमिका का चित्र", "भारतीय कहावतों का चित्रात्मक प्रतिनिधित्व", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों का विश्लेषण"
Kahavaten

टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में, अर्थ, प्रयोग(Taka ho jiske haath mein, Wah hai bada jaat mein)

“टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में” यह हिंदी कहावत समाज में धन के प्रभाव और उसकी महत्वपूर्णता पर प्रकाश डालती है।

Read More »
"टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा कहावत का चित्रण", "बुद्धिमत्ता और मूर्खता पर आधारित हिंदी कहावत का चित्र", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों की व्याख्या", "जीवन शैली और सीख का प्रतिनिधित्व करता चित्र"
Kahavaten

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग(Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” यह हिंदी कहावत बुद्धिमत्ता और मूर्खता के बीच के व्यवहारिक अंतर को स्पष्ट करती है। इस कहावत के

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।