Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » सहज पके सो मीठा होय अर्थ, प्रयोग (Sahaj pake so meetha hoye)

सहज पके सो मीठा होय अर्थ, प्रयोग (Sahaj pake so meetha hoye)

परिचय: “सहज पके सो मीठा होय” यह मुहावरा धैर्य और प्रतीक्षा के महत्व को दर्शाता है। इसके माध्यम से यह संदेश दिया जाता है कि जो चीजें समय लेकर, बिना जल्दबाजी के पूरी होती हैं, वे अधिक गुणवत्ता वाली और संतोषजनक होती हैं।

अर्थ: मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है, जो चीज सहजता से और स्वाभाविक रूप से पकती है, वह मीठी होती है। यहाँ ‘मीठा’ शब्द से तात्पर्य सिर्फ स्वाद से नहीं है, बल्कि गुणवत्ता, संतुष्टि और सफलता से भी है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उस समय उपयोग में लाया जाता है जब किसी व्यक्ति को धैर्य रखने और प्रक्रिया पर विश्वास रखने की आवश्यकता होती है। यह हमें सिखाता है कि जल्दबाजी में किए गए काम अक्सर असंतोषजनक परिणाम देते हैं।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक विद्यार्थी अपनी परीक्षाओं की तैयारी में जल्दबाजी करता है और रातों-रात सफल होने की आशा रखता है। लेकिन “सहज पके सो मीठा होय” के अनुसार, यदि वह धैर्यपूर्वक अध्ययन करता है और अपने ज्ञान को समय देता है, तो वह बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकता है।

निष्कर्ष: “सहज पके सो मीठा होय” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि जीवन में धैर्य और समय का महत्व होता है। जल्दबाजी में किए गए कार्य या निर्णय हमें अस्थायी संतुष्टि तो दे सकते हैं, लेकिन दीर्घकालिक सफलता और संतोष के लिए समय और प्रयास की आवश्यकता होती है। इसलिए, हमें अपने लक्ष्यों की ओर बढ़ते समय धैर्य और सहजता का पालन करना चाहिए।

सहज पके सो मीठा होय मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में प्रेमचंद्र और सुरेंद्र नाम के दो किसान रहते थे। प्रेमचंद्र बहुत ही मेहनती और धैर्यवान किसान था, वहीं सुरेंद्र हमेशा जल्दी में रहता था और चाहता था कि उसकी फसलें जल्दी से जल्दी उग आएं।

एक बार दोनों ने अपने-अपने खेतों में धान की बुवाई की। सुरेंद्र ने बाजार से कुछ ऐसे बीज खरीदे जो जल्दी उगने का दावा करते थे। उसने सोचा कि इससे वह जल्दी धनवान बन जाएगा। वहीं प्रेमचंद्र ने अपने पुरखों से मिले पारंपरिक बीजों का इस्तेमाल किया और धैर्यपूर्वक अपनी फसल की देखभाल की।

कुछ ही हफ्तों में सुरेंद्र की फसलें उग आईं, लेकिन वे बहुत कमजोर और रोगग्रस्त थीं। उसकी फसल की गुणवत्ता भी बहुत खराब थी। उसे बाजार में अच्छी कीमत नहीं मिली और उसे बहुत नुकसान हुआ।

वहीं, प्रेमचंद्र की फसल धीरे-धीरे उगी, लेकिन जब वह पक कर तैयार हुई तो वह बहुत ही मजबूत और स्वास्थ्यवर्धक थी। उसकी फसल की गुणवत्ता इतनी अच्छी थी कि बाजार में उसे बहुत अच्छी कीमत मिली। प्रेमचंद्र की मेहनत और धैर्य की सभी ने प्रशंसा की।

इस कहानी के माध्यम से “सहज पके सो मीठा होय” मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। यह हमें सिखाता है कि जल्दबाजी में किए गए काम अक्सर असंतोषजनक परिणाम देते हैं, जबकि धैर्य और सहजता से किए गए काम बेहतर और संतोषजनक परिणाम देते हैं।

शायरी:

धैर्य का मोल समझाती, ये कहावत पुरानी है,
“सहज पके सो मीठा होय”, ये सिख जीवन की कहानी है।

जल्दबाज़ी में जो पकता, वो कभी मीठा नहीं होता,
समय के साथ जो रिश्ता, वही तो सच्चा होता।

धीरज धरने में ही सब कुछ, असली सोना छुपा है,
जल्दी का काम शैतान का, ये सबक यहाँ रखा है।

सहजता से जो भी पके, उसका स्वाद अनोखा है,
जीवन की इस दौड़ में, धैर्य ही सबसे बड़ा शौक है।

जो फल सहज में पक के आया, उसका मीठापन दोगुना,
जीवन की इस राह में, धैर्य रखना है सुनहरा सपना।

 

सहज पके सो मीठा होय शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of सहज पके सो मीठा होय – Sahaj pake so meetha hoye Idiom:

Introduction: The idiom “सहज पके सो मीठा होय” highlights the importance of patience and waiting. It conveys the message that things that take time to complete, without haste, turn out to be of higher quality and more satisfying.

Meaning: The literal meaning of the idiom is that something that ripens naturally and effortlessly is sweet. Here, ‘sweet’ does not only refer to taste but also to quality, satisfaction, and success.

Usage: This idiom is often used when someone needs to be reminded to have patience and trust the process. It teaches us that tasks done in haste often result in unsatisfactory outcomes.

Example:

Suppose a student rushes his exam preparations, hoping for overnight success. According to “सहज पके सो मीठा होय,” if he studies patiently and gives his knowledge time to develop, he could achieve better results.

Conclusion: The idiom “सहज पके सो मीठा होय” teaches us the importance of patience and time in life. Actions or decisions made in haste might provide temporary satisfaction, but time and effort are needed for long-term success and contentment. Therefore, we should practice patience and ease while working towards our goals.

Story of ‌‌Sahaj pake so meetha hoye Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, lived two farmers named Premchandra and Surendra. Premchandra was a very hardworking and patient farmer, whereas Surendra was always in a hurry, wanting his crops to grow as quickly as possible.

Once, both of them sowed paddy in their respective fields. Surendra bought some seeds from the market that were claimed to grow quickly. He thought this would make him wealthy sooner. On the other hand, Premchandra used traditional seeds passed down from his ancestors and took care of his crop with patience.

Within a few weeks, Surendra’s crops grew, but they were weak and diseased. The quality of his crop was so poor that he didn’t get a good price in the market, leading to significant losses.

Meanwhile, Premchandra’s crop grew slowly but when it was ready to harvest, it was very strong and healthy. The quality of his crop was so good that he got a very good price in the market. Everyone praised Premchandra’s hard work and patience.

This story clearly illustrates the meaning of the idiom “सहज पके सो मीठा होय” (What ripens slowly is sweet). It teaches us that tasks done in haste often lead to unsatisfactory results, whereas patience and ease in work yield better and more satisfying outcomes.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।